--Advertisement--

ले-आउट के आधार पर नहीं हो रहा निर्माण

भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा नगर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए नपा, प्रशासन, जनप्रतिनिधियों सहित अरवन डेवलपमेंट...

Danik Bhaskar | Jul 08, 2018, 02:50 AM IST
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

नगर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए नपा, प्रशासन, जनप्रतिनिधियों सहित अरवन डेवलपमेंट कार्पोरेशन की बैठक दो बार हो चुकी है। बैठक में इस पर जोर दिया जा चुका है। भविष्य में जो निर्माण कराया जाए, वह योजनाबद्ध तरीके से और सिस्टेमेटिक तरीके से हो। लेकिन नपा खुद इन नियम निर्देशों का पालन नहीं कर रही है।

वर्तमान में चल रहे निर्माण कार्य न ले-आउट के आधार पर हो रहे हैं और न सिस्टेमेटिक तरीके से किए जा रहे हैं। इससे नगर की सुंदरता प्रभावित हो रही हैं।

अतिक्रमण को बढ़ावा मिल रहा है। बेहलोट बायपास पर जल निकासी के लिए वार्ड क्रमांक एक में सीसी नाली का निर्माण चल रहा है। लेकिन ले आउट के आधार पर सीधी बनाई जाना थी। लेकिन आड़ी तिरछी बन रही है। इसके साथ कहीं चौड़ी तो कहीं संकरी बन रही है। नागरिकों ने बताया इससे नालियों में कचरा अटकता है।

जब भी मकानों का निर्माण होता है तो मकान से नाली के बीच जितनी जगह छूट जाती है। उस पर लोग कब्जा कर लेते हैं। नपा के तय नियमानुसार मकान से सटकर नाली का निर्माण होना चाहिए। इससे नपा की जमीन और सीमा सुरक्षित रहे। उसके बाद ही अपने नियमों की निर्माण में अनदेखी की जा रही है।

स्टेशन और बरेठ रोड पर भी मकानों से सटकर नाला निर्माण प्रस्तावित था। मकानों व दुकानों से पांच फीट जगह छोड़कर बनाया गया है।

टीन शेड पक्के निर्माण में बदले

स्टेशन रोड पर पहले ही मकानों के सामने सरकारी जमीन पर डाले गए टीन शेड पक्के निर्माण में बदल चुके हैं। नाला निर्माण के दौरान छोड़ी गई। भूमि भी ऐसी ही कब्जे में चली जाएगी। पहले भी नपाध्यक्ष मधुलिका अग्रवाल ने कहा था इस का ध्यान रखा जाएगा। प्रस्ताव अनुसार मकान से सटकर नाले व नालियां बनाई जाएंगी। उसके बाद भी नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है।