• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • भारी वाहनों का प्रवेश बना समस्या, टीआई ने रात में चलाया चैकिंग अभियान, फिर भी वही हालात
--Advertisement--

भारी वाहनों का प्रवेश बना समस्या, टीआई ने रात में चलाया चैकिंग अभियान, फिर भी वही हालात

नगर के बीच से निकलने वाले लोडिंग व भारी वाहन सहित बेतरतीब पार्किंग से यातायात प्रभावित होता है। तेज गति से निकलती...

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 02:30 AM IST
नगर के बीच से निकलने वाले लोडिंग व भारी वाहन सहित बेतरतीब पार्किंग से यातायात प्रभावित होता है। तेज गति से निकलती ट्रैक्टर-ट्राॅली भी समस्या पैदा करती है। ऐसे में दुकानदारों सहित राहगीरों को भी परेशानी का सामना करने के साथ ही दुर्घटना की आशंका रहती है। सबसे ज्यादा परेशानी का कारण अंधेरा होते ही अंधाधुंध गति से निकलते दूध की कैन से भरे पिकअप व अन्य वाहन सहित सीमेंट के कैप्सूल बनते हैं। पुलिस द्वारा लंबी शिकायत के बाद देररात कार्रवाई तो की गई, फिर भी वही स्थिति बन रही है। वाहनों की रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए स्थायी रूप से पुलिस जवानों को तैनात करना होगा तभी रफ्तार पर कुछ लगाम लग सकती है। एक दिन की कार्रवाई से कुछ नहीं होने वाला।

नगर में भारी वाहनों को चालक मुख्य मार्गों पर तेजगति व लापरवाहीपूर्वक चलाते हैं और कहीं भी पार्किंग कर देते हैं। हालात यह हैं कि शामगढ़-गरोठ रोड सहित सुवासरा रोड पर दिनभर भारी वाहनों को आवागमन रहता है। यही नहीं सब्जी मंडी राजा टोडरमल मार्ग, मुख्य मार्ग, डिंपल चौराहा जैसे भीड़-भाड़ वाले बाजार व मार्गों पर भी बड़े और भारी वाहनों के प्रवेश से अव्यवस्था फैल रहती है। शिकायतों के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होती है। व्यवसायी राजेंद्रसिंह चौहान, रहवासी मुरारीप्रसाद मालवीय ने बताया क्षेत्र के लाेगाें सहित वरिष्ठजन भी कई बार पुलिस और नप में शिकायत कर चुके हैं लेकिन ठोस कार्रवाई कोई नहीं करता। सोमवार को पुलिस ने केवल चालानी कार्रवाई कर खानापूर्ति की। वह भी रात में और नगर से दूर कार्रवाई की गई लेकिन भारी व सीमेंट से भरे कैप्सूल वाहन चालकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। रहवासियों का कहना है गरोठ-शामगढ़-सुवासरा मुख्य मार्ग पर तो चौबीस घंटे वाहनों को आवागमन होता है, लेकिन अन्य मार्गों व बाजारों से भी शार्टकट के चक्कर में वाहन निकालते हैं तो कोई पार्किंग कर चला जाता है। वाहन पार्क होने से निकलने में परेशानी होती है।

बेतरतीब तरीके से खड़े रहते हैं वाहन, अन्य वाहन चालकों को आने-जाने में होती दिक्कत

नगर में इस प्रकार रहते हैं हालात। बड़े वाहना गुजरने से हर पल हादसे का अंदेशा रहता है।

चार पहिया वाहनों को रोककर चालानी कार्रवाई रही बेअसर

टीआई ब्रजभूषण हिरवे ने टीम के साथ मंगलवार देररात 9.30 बजे अचानक चैकिंग शुरू की। नगर से करीब एक किमी दूर शांतिकुंज बालाजी मंदिर चौराहा पर भारी लोडिंग चार पहिया वाहनों को रोककर चालानी कार्रवाई की। साथ ही नगरीय क्षेत्र में सावधानीपूर्वक वाहन चलाने को लेकर समझाइश दी गई। टीम के जाते ही फिर वही हालात बन गए। दिन में तो स्थिति पहले जैसी ही हो गई।

सुवासरा-शामगढ़-गरोठ रोड पर अक्सर हादसे होते हैं। यह मार्ग नगर के बीच से होकर जा रहा है। मंगलवार दोपहर करीब 1 बजे गरोठ रोड कृषि उपज मंडी के सामने बेतरतीब तरीके से खड़े वाहन और सामने से आ रहे भारी वाहन से बचने के चक्कर सुवासरा रोड निवासी शंभूसिंह की बाइक पेड़ से टकरा गई। इससे उसके सिर में चोट लगी, उसी दौरान सब्जी मंडी से आड़ा बाजार के बीच तेजगति से आ रहे चार पहिया वाहन से बचने के चक्कर दो बाइक टकरा गई। इससे पैदल जा रही एक बालिका को लग गई। दोनों ही घायलों को तत्काल शासकीय चिकित्सालय में ले गए, हालांकि गंभीर चोट नहीं आने के कारण प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। इसी प्रकार बुधवार को शामगढ़ निवासी रविश गुप्ता भी ट्राले से टकराते हुए बचा। 15 दिन पहले गरोठ रोड पर सीमेंंट से भरा कैप्सूल वाहन पलट गया था। नगर से दूर होने के कारण कोई हादसा नहीं हुआ।

स्थायी रूप से बने पाइंट, तैनात हों पुलिसकर्मी

नगर में यातायात को नियंत्रित करने के लिए स्थायी पाइंट बनाकर पुलिसकर्मी तैनात करना होंगे। विशेषकर गरोठ और सुवासरा रोड पर पाइंट चिह्नित कर, पाइंट बनाने की आवश्यकता है। ताकि हल्के चार पहिया सहित सभी प्रकार के भारी वाहनों को नगर प्रवेश के पहले ही गति सीमा की चेतावनी के साथ प्रवेश करने दिया जाए। जवान खड़ा होगा तो अन्य वारदातों पर भी लगाम लगेगी।

यातायात सुधारेंगे