• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • 4 माह बाद भी सड़क निर्माण शुरू नहीं, यात्री ट्रेनों की सुविधा भी नहीं बढ़ी, लोगों में आक्रोश
--Advertisement--

4 माह बाद भी सड़क निर्माण शुरू नहीं, यात्री ट्रेनों की सुविधा भी नहीं बढ़ी, लोगों में आक्रोश

नगर से करीब 7 किमी दूर रेलवे स्टेशन मार्ग की हालात सुधरी है अौर नहीं ट्रेनों के स्टॉपेज बढ़े हैं। मार्ग जर्जर होनेे...

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 02:40 AM IST
4 माह बाद भी सड़क निर्माण शुरू नहीं, यात्री ट्रेनों की सुविधा भी नहीं बढ़ी, लोगों में आक्रोश
नगर से करीब 7 किमी दूर रेलवे स्टेशन मार्ग की हालात सुधरी है अौर नहीं ट्रेनों के स्टॉपेज बढ़े हैं। मार्ग जर्जर होनेे से स्टेशन तक आवागमन के लिए भी पर्याप्त साधन नहीं हैं। स्टेशन मार्ग सुधारने और जोधपुर-इंदौर रणथंभौर एक्सप्रेस के स्टाॅपेज की मांग को लेकर एक बार फिर जनता आंदाेलन की राह पर चलने की तैयारी कर रही है।

नगर से रेलवे स्टेशन ही पहले 7 किमी की दूरी पर है उस पर मार्ग की हालत खराब हो रही है। स्टेशन मार्ग का कुछ हिस्सा को फिर भी ठीक है लेकिन रेलवे क्राॅसिंग के पास बालाजी मंदिर के सामने से स्टेशन तक का 2 किमी लंबा मार्ग बेहद खराब हालात में है। सड़क के नाम पर केवल गड्ढे ही गड्ढे हैं और कई जगह तो सड़क ही गायब हो चुकी है। इसे लेकर नगरवासी करीब एक साल से सड़क निर्माण की मांग कर रहे हैं। पिछले वर्ष दिसंबर 2017 में टेंडर प्रक्रिया शुरु होने के कारण लगा था, कि जनवरी में सड़क बनकर तैयार हो जाएगी और लोगों को राहत मिलेगी किंतु ऐसा नहीं हुआ। तीन माह पूरे होने को आए लेकिन अब तक टेंडर प्रक्रिया अटकी हुई है। जिम्मेदार अधिकारी अब भी अगले महीने काम शुरू होने की बात कर रहे हैं। दूसरी तरफ संकल्प ग्रुप के माध्यम से नगरवासी 9 महीने से जोधपुर-इंदौर रणथंभौर एक्सप्रेस ट्रेन के गरोठ में स्टाॅपेज के लिए आंदोलन कर रहे हैं। विधायक, सांसद से लेकर रेल मंत्री तक को ज्ञापन सौंप चुके हैं। 10 से ज्यादा धरना, प्रदर्शन कर चुके हैं अौर ज्ञापन दे चुके हैं। संकल्प ग्रुप के डॉ. मनोज उपाध्याय ने बताया हमारी मांग जायज है, हर बार आश्वासन ही मिला है। दो हजार से ज्यादा पोस्टकार्ड घर-घर जाकर लिखवाए और रेल मंत्री को भेज चुके हैं। रेलवे के अधिकारियों को भी समय-समय पर पत्र भेज चुके हैं। लेकिन रणथंभौर एक्सप्रेस का स्टाॅपेज नहीं हुआ। इस बार आरपार की लड़ाई लड़ेंगे और अांदोलन तब तक जारी रखेंगे, जब तक हमारी मांग पर अमल नहीं होता है। आंदोलन को लेकर एक-दो दौर की चर्चा हो चुकी हैं। अप्रैल में ग्रुप की बैठक कर आमजनता से आंदोलन को लेकर राय मांगेगे और प्रथम सप्ताह में ही आंदोलन शुरू करेंगे।

अभी सड़क की हालत खराब, निर्माण से मिलेगी सुविधा

बालाजी मंदिर से स्टेशन की तरफ सड़क की हालात।

स्टेशन पर अभी 14 ट्रेनों का है स्टाॅपेज

गरोठ रेलवे स्टेशन पर कुल 14 ट्रेनों का स्टाॅपेज है। इनमें 7 अप और 7 डाउन ट्रेन हैं। इनमें भी 5 नियमित और 2 साप्ताहिक ट्रेन हैं। अलसुबह दिल्ली-इंदौर इंटरसिटी चलती है, उसके बाद इंदौर की तरफ आवागमन के लिए कोई साधन नहीं है। ऐसे में जोधपुरा-इंदौर रणथंभौर एक्सप्रेस का स्टाॅपेज गरोठ स्टेशन पर हो जाता है तो सुबह इंदौर से आने में सुविधा मिलेगी, साथ ही शाम को इंदौर जाने के लिए भी सीधी रेल सुविधा हो जाएगी।

स्टेशन तक जाने के लिए रेलवे फाटक क्राॅसिंग के पार बालाजी मंदिर के सामने से 2 किमी का सफर तय करना पड़ता है। सड़क बनने से वाहन चलाने में तो सुविधा होगी, समय भी कम लगेगा। स्टेशन जाने से जाने में कतराने वाले आॅटो रिक्शा, सहित अन्य वाहन चलेंगे। जिससे स्टेशन आवागमन करने वाले यात्रियों के साथ स्टेशन कॉलोनी व आस-पास की अन्य कॉलोनी व ग्रामीणों को भी नगर तक आवागमन के लिए सुविधा रहेगी।

जल्द कार्य शुरू होगा


अप्रैल में कार्य शुरू होगा


X
4 माह बाद भी सड़क निर्माण शुरू नहीं, यात्री ट्रेनों की सुविधा भी नहीं बढ़ी, लोगों में आक्रोश
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..