Hindi News »Madhya Pradesh »Garoth» सात माह पहले महिला की पूर्व पति ने साथियों के साथ की थी हत्या

सात माह पहले महिला की पूर्व पति ने साथियों के साथ की थी हत्या

गरोठ रेलवे स्टेशन के समीप पिपल्या मोहम्मद में 26 जून 2017 की सुबह बुरी तरह जली अवस्था में महिला का शव मिला था। पुलिस को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 12, 2018, 02:45 AM IST

गरोठ रेलवे स्टेशन के समीप पिपल्या मोहम्मद में 26 जून 2017 की सुबह बुरी तरह जली अवस्था में महिला का शव मिला था। पुलिस को अंधे कत्ल का खुलासा करने के लिए क्षेत्र व आसपास की गुमशुदा महिलाओं का रिकाॅर्ड खंगालने के साथ डीएनए टेस्ट करवाना पड़ा। तब जाकर पुलिस आरोपियों तक पहुंच पाई। महिला की पहचान गांधीसागर थाना क्षेत्र के देवनगर नावली निवासी सीताबाई पति शिवलाल मीणा के रूप में हुई। कत्ल के अारोप में पुलिस ने उसके पूर्व पति सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया। एक आरोपी की मौत हो चुकी है, जबकि एक अन्य फरार है जिसकी तलाश में जुटी है।

कोर्ट ने हर महीने तीन हजार रुपए भरण-पोषण खर्च देने का दिया था आदेश

भूलीबाई

हामिद

शिवलाल

नंदलाल

रविवार शाम 5.45 बजे उक्त अंधे कत्ल का खुलासा करते हुए टीआई प्रतीक राय ने बताया महिला और पति के बीच भरण-पोषण को लेकर केस चल रहा था। कोर्ट ने हर महीने 3 हजार रुपए खर्च देने का अादेश दे रखा था। परेशानी से निपटने के लिए आरोपी ने हत्याकांड को अंजाम दिया। शुरुआत में तत्कालीन थाना प्रभारी नरेंद्रसिंह ठाकुर का तबादला हो गया और कुछ समय मामला ठंडे बस्ते में चला गया। नंवबर 2017 में एसपी मनोजकुमार सिंह ने जिम्मेदारी नवागत टीआई प्रतीक राय को सौंपी। प्रकरण में नए सिरे से शुरुआत करते हुए थाना क्षेत्र सहित आस-पास सहित सीमा से लगे राजस्थान के पुलिस थानों में गुमशुदा महिलाओं का रिकाॅर्ड खंगाला। इस बीच तीन महिलाअों का हुलिया मृतका से मिला। इनके परिजन का डीएनए टेस्ट करवाया। इसमें महिला की पहचान गांधीसागर थाना क्षेत्र के देवनगर नावली निवासी सीताबाई के रूप में हुई। डीएनए जांच में अर्जुन मीणा को मृतका का जैविक पुत्र होना पाया। इस पर परिजन के कथनों के आधार संदेहियों की काॅल डिटेल निकाली। जब शक पक्का हुआ तो 10 फरवरी 2018 को संदेही भूलीबाई को पूछताछ के लिए गरोठ थाना पर लाया गया। पूछताछ और सबूतों व कॉल डिटेल देख भूलीबाई ने सारी कहानी पुलिस को बताने के साथ आरोपियों के नाम बताए। पुलिस ने शनिवार रात से रविवार दोपहर तक तीन अन्य को भी पकड़ लिया।

समझाैते को बुलाया, मुंह में कपड़ा ठूंसकर मारा, फिर जलाया

टीआई राय ने बताया श्यामलाल व नारायणसिंह सीताबाई से 25 जून 2017 की देरशाम को दूधाखेड़ी में मिले और बातचीत करने का कहकर दूधाखेड़ी से ग्राम खजूरीरुंडा स्थित घर पर लेकर आए। रात होने से सीताबाई शिवलाल के घर पर ही रुक गई। तभी मौका पाकर रात में ही शिवलाल ने नंदलाल, श्यामलाल व नारायणसिंह के साथ मिलकर सीताबाई के मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। दम घुटने से उसकी मौत हो गई। आरोपियों ने भूलीबाई की मदद से साठखेड़ा निवासी हामिद खान पिता शरीफ मोहम्मद को बाइक लेकर बुलाया। हामिद के आने के बाद तीन बाइक पर सवार हो सभी आरोपी सीताबाई के शव को लेकर हनुमंतिया रोड़ गरोठ रेलवे स्टेशन के समीप ग्राम पिपल्या मोहम्मद लेकर पहुंचे। जहां खेत के समीप केरोसिन डालकर सीताबाई के शव को जला दिया और मौके से फरार हो गए। टीआई राय ने बताया उक्त कत्ल के आरोप में आरोपी शिवलाल पिता सीताराम मीणा, नंदलाल पिता शिवलाल मीणा, भूलीबाई पिता शिवलाल मीणा निवासी खजूरीरुंडा और हामिद खां पिता शरीफ मोहम्मद निवासी साठखेड़ा को गिरफ्तार कर लिया है। श्यामलाल कुछ महीने पहले ही मर चुका है। एक अन्य अारोपी फरार है। पकड़ाए चारों आरोपियों को रविवार को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें तीन दिन की रिमांड पर सौंपा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garoth

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×