Hindi News »Madhya Pradesh »Garoth» अब तक नहीं रुका सीमेंट के भारी वाहनों का प्रवेश नगर परिषद ने स्पीडब्रेकर बनाकर की खानापूर्ति

अब तक नहीं रुका सीमेंट के भारी वाहनों का प्रवेश नगर परिषद ने स्पीडब्रेकर बनाकर की खानापूर्ति

नगर से डंपर, ट्राॅले व सीमेंट से भरे हैवी वाहन सहित अन्य आज भी दिनभर सड़कों पर दौड़ रहे हैं। होली के पहले 26 फरवरी को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 20, 2018, 02:45 AM IST

अब तक नहीं रुका सीमेंट के भारी वाहनों का प्रवेश नगर परिषद ने स्पीडब्रेकर बनाकर की खानापूर्ति
नगर से डंपर, ट्राॅले व सीमेंट से भरे हैवी वाहन सहित अन्य आज भी दिनभर सड़कों पर दौड़ रहे हैं। होली के पहले 26 फरवरी को हुई शांति समिति की बैठक में निर्णय लिया था कि जल्द ही समन्वय बैठाकर भारी वाहन सहित बड़े-बड़े ट्राॅलों के नगर से निकलने को लेकर समय सीमा तय की जाएगी। बैठक हुए 20 दिन से ज्यादा होने को आए हैं लेकिन आज भी भारी वाहन बेखौफ दौड़ रहे हैं।

नगर में राजस्थान की तरफ से भानपुरा होकर सीमेंट फैक्टरियों के सीमेंट वाहन दिन-रात नगर सीमा से निकलते हैं। इससे गरोठ सहित शामगढ़ में भी हर वक्त हादसों का भय रहता है। पिछले महीने मेलखेड़ा के समीप सीमेंट से भरा वाहन पलट गया और दो दिन सड़क व खेत के बीच पड़ा रहा। शुक्र था कि जब वाहन पलटा तक कोई आगे-पीछे या आस-पास नहीं चल रहा था। अन्यथा गंभीर हादसा हो सकता था। इसी प्रकार डंपर भी दिन-रात इसी मार्ग पर चल रहे हैं। 17 मार्च को गरोठ से साइकिल से गजाखेड़ी जा रहे 55 वर्षीय किसान समंदरसिंह को डंपर चालक शामगढ़ नाका के पास टक्कर मारता हुआ चला गया। घटना में साइकिल को टूट गई, समंदरसिंह की कमर से लेकर पैर व हाथ बुरी तरह फैक्चर हो गए। जिससे उनकी कुछ देर में इलाज के दौरान मौत हो गई। इस घटना के बाद भी पुलिस से लेकर नगर परिषद व अन्य जिम्मेदारों ने सबक नहीं लिया। परिणाम है कि घटना के दो दिन बाद भी दिन में डंपर और अन्य वाहन बेखौफ दौड़ रहे हैं। इस बीच पुलिस ने कार्रवाई की और तीन चालकों के चालन बनाए। यह कार्रवाई केवल चालान तक सीमित रही और फिर से भारी वाहन दौड़ने लगे। नगर परिषद भी जिम्मेदारी नहीं निभा रही है। नगर सीमा होने के कारण नगर परिषद गरोठ की जिम्मेदारी बनती है कि वह भारी वाहनों के दिन में नगर प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के लिए कदम उठाए। 26 फरवरी को हुई शांति समिति की बैठक में एसडीएम आरपी वर्मा, एएसपी डॉ. इंद्रजीत बाकरवाल व नप सीएमअो बनेसिंह सोलंकी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। बैठक में सभी की मौजूदगी में शांति समिति सदस्यों सहित नगर के गणमान्य लोगों ने रात 10 बजे बाद से भारी वाहनों को नगर सीमा में प्रवेश देने पर सहमति बनी और उसे बैठक की प्रोसेडिंग में भी लिखा गया। यह निर्णय केवल कागजों में ही रहा।

पीडब्ल्यूडी कार्यालय पर जेल भवन के सामने से भानपुरा की तरफ दिन में जाता सीमेंट से भरा वाहन। फोटो | भास्कर

नगर परिषद की बैठक में प्रस्ताव लाएगी, गति पर कसेंगे लगाम

भारी वाहनों के नगर में प्रवेश की समय सीमा तय करने और अन्य आवश्यक कदम उठाने के लिए योजना बना रहे हैं। जल्द ही परिषद की बैठक में निर्णय लेकर आगे की कार्रवाई करेंगे। गति पर लगाम लगाने के लिए स्पीडब्रेकर बनाए हैं। बनेसिंह सोलंकी, सीएमओ-नगर परिषद, गरोठ

समय-समय पर कार्रवाई करते हैं

शांति समिति की बैठक के बाद से ही कार्रवाई तेज की है। चालानी कार्रवाई के साथ ही नगरीय क्षेत्र में तेज गति से नहीं चलाने के लिए समझाइश देते हैं। नगर परिषद को स्पीड ब्रेकर सहित प्रवेश समय सीमा संबंधी बोर्ड लगाने और पार्किंग की जगह चिह्नित करने के लिए कहा है। प्रतीक राय, टीआई, थाना, गरोठ

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garoth

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×