गरोठ

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • 15 से होगी गेहूं खरीदी, अब तक 13200 के पंजीयन, आगे बढ़ सकता है कार्यक्रम
--Advertisement--

15 से होगी गेहूं खरीदी, अब तक 13200 के पंजीयन, आगे बढ़ सकता है कार्यक्रम

समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 15 मार्च से शुरू होना है। बावजूद जिले में इस बार तीन चरणों में केवल 13200 किसानों के ही...

Dainik Bhaskar

Mar 05, 2018, 02:50 AM IST
15 से होगी गेहूं खरीदी, अब तक 13200 के पंजीयन, आगे बढ़ सकता है कार्यक्रम
समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 15 मार्च से शुरू होना है। बावजूद जिले में इस बार तीन चरणों में केवल 13200 किसानों के ही पंजीयन हो सके हैं, जो पिछले साल की तुलना में करीब 3000 कम हैं। कभी सर्वर डाउन तो कभी सोसायटीकर्मियों की हड़ताल के कारण ऐसे हालात बने हैं। यहां तक कि तारीख बढ़ने का भी लाभ किसानों काे नहीं मिल सका। ऐसे में फिर से प्रक्रिया आगे बढ़ने के पूरे आसार दिख रहे हैं। इधर, शासन ने पिछले साल वाले किसानों को 200 रुपए प्रति क्विंटल बोनस देना भी तय किया है। खरीदी 15 मार्च से 15 मई तक चलना थी। अब मौजूदा हालात के बीच कार्यक्रम 10 से 15 दिन आगे बढ़ सकता है।

जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के लिए 41 केंद्र निर्धारित हैं। प्रशासन ने मंदसौर, गरोठ, सीतामऊ, भानपुरा और मल्हारगढ़ जैसे ब्लाॅकों में पिछले साल वाले ही केंद्र निर्धारित किए हैं ताकि किसानों को समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने में किसी तरह की परेशानी सामने ना आए। सहकारी साेसायटियों से जुड़े कर्मचारी मांगों को लेकर लगातार धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में मार्च के प्रथम सप्ताह तक भी निष्कर्ष नहीं निकला है कि आंदोलन कब तक चलेगा। जिला सहकारी बैंक खरीदी करने के लिए नोडल एजेंसी है जबकि नागरिक आपूर्ति निगम को इंट्री व अन्य डिटेल पर काम करना है।

गेहूं कटाई का काम 40 फीसदी से ज्यादा हो चुका

अंचल में गेहूं निकालने का काम तेजी से जारी है। फोटो | भास्कर

पंजीयन के बारे में शासन से मार्गदर्शन मांगा है


बाकी किसानों के पंजीयन के प्रयास होंगे


जिले में रबी सीजन की मुख्य फसल गेहूं की कटाई का काम 40 फीसदी से अधिक हो चुका है। कुछ किसान 15 मार्च का इंतजार कर रहे हैं तो कुछ रजिस्ट्रेशन के लिए। यही कारण है कि किसानों का गेहूं अभी तक मंडियों में आना शुरू नहीं हुआ है। समर्थन खरीदी से ही मंडी में इसकी आवक अचानक से बढ़ेगी। ग्राम रीछाबच्चा निवासी प्रहलाद पालड़िया ने बताया गेहूं फसल निकाली जा चुकी है, उत्पादन भी बेहतर है लेकिन फसल बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना बाकी है। 2 बार केंद्र पर गए थे लेकिन एक बार सर्वर डाउन था, दूसरी बार सोसायटीकर्मियों की हड़ताल का कारण बता दिया गया। ऐसे में अब तक पंजीयन नहीं हुआ। कई किसान वंचित रहे हैं।

X
15 से होगी गेहूं खरीदी, अब तक 13200 के पंजीयन, आगे बढ़ सकता है कार्यक्रम
Click to listen..