गरोठ

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • मुख्य जलस्रोत बरामा में उतरा जल स्तर इंटकवेल में बचा आधा फीट से कम पानी
--Advertisement--

मुख्य जलस्रोत बरामा में उतरा जल स्तर इंटकवेल में बचा आधा फीट से कम पानी

नगर परिषद ने समय रहते तैयारी नहीं की तो गर्मी में पेयजल संकट हो सकता है। नगर में पेयजल सप्लाई के लिए मुख्य जलस्रोत...

Dainik Bhaskar

Feb 27, 2018, 02:55 AM IST
मुख्य जलस्रोत बरामा में उतरा जल स्तर इंटकवेल में बचा आधा फीट से कम पानी
नगर परिषद ने समय रहते तैयारी नहीं की तो गर्मी में पेयजल संकट हो सकता है। नगर में पेयजल सप्लाई के लिए मुख्य जलस्रोत बरामा में चंबल नदी का पानी है। चंबल का जलस्तर लगातार उतरने के कारण इंटकवेल से भी पानी 18 फीट से ज्यादा नीचे चला गया है। अब मुश्किल से आधा फीट भी पानी इंटकवेल को नहीं छू रहा है। ऐसे में चंबल का पानी इंटकवेल तक लाने के लिए नगर परिषद को अभी से प्रयास शुरू करना होंगे।

नगर की करीब 25 हजार आबादी को रोज एक समय 20 से 25 मिनट तक दो टंकियों के माध्यम से पेयजल सप्लाई होता है। करीब 22 लाख लीटर पानी की खपत का मुख्य स्रोत चंबल का बरामा पाइंट है। जहां से नगर में पानी आपूर्ति का 70 फीसदी पानी नगर परिषद लेती है। शेष 30 फीसदी पानी की आपूर्ति पुराने जलस्रोतों अंसर नदी बारह फुट्टिया कुएं और ग्राम बंजारी में चंबल नदी की जाती है। इन तीन स्रोत के कारण नगर में रोज पानी सप्लाई होता है।

22 किमी लंबी पाइप लाइन डालकर लाए पानी, तीन साल में पहली बार बनी ऐसी स्थिति

बरामा स्थित इंटकवेल जिससे 22 किमी दूर गरोठ में पानी आता है। फोटो में दिख रहा है कि जलस्तर नीचे उतर गया।

नगर में मुख्यमंत्री पेयजल आवर्धन योजना के तहत 22 किमी लंबी पाइप लाइन बिछाकर चंबल से पानी नगर में लाया गया। योजना के तहत बरामा में चंबल नदी में किनारे से 500 मीटर अंदर इंटकवेल बनाया था। पर्याप्त पानी होने पर करीब 18 फीट इंटकवेल में पानी रहता है। योजना पूर्ण होने के बाद अप्रैल 2016 से नगर में चंबल का पानी वितरण शुरू हो गया। उसके बाद कभी पानी की परेशानी नहीं आई। इस साल पहली बार पानी इंटकवेल से नीचे उतरा है। अब मुश्किल से आधा फीट भी पानी नहीं बचा है। जबकि पुराने जलस्रोत अंसर नदी से बारह फुट्टिया कुआं में पानी भरकर पाइप लाइन से नगर में पानी आता है। इसी प्रकार बंजारी में चंबल नदी के किराने बना पुराने इंटकवेल से भी वर्तमान में पानी आ रहा है।

दो टंकियों से 3200 घरों में सप्लाई होता है पानी

नगर परिषद ने नगर में पेयजल वितरण के लिए पानी की दो टंकियां बना रखी हैं। पुरानी टंकी नप कार्यालय परिसर में है, जिसकी क्षमता 3 लाख 60 हजार लीटर और योजना के तहत बोलिया रोड पर बनी नई टंकी की क्षमता 5 लाख 50 हजार लीटर है। साथ ही दो फिल्टर प्लांट भी हैं। इनसे रोज 20 से 22 लाख लीटर फिल्टर होता है। नगर में परिषद ने 3200 नल कनेक्शन दे रखे हैं आैर दो टंकियों के माध्यम से घरों तक प्रतिदिन - एक टाइम 20 से 25 मिनट पानी सप्लाई होता है।

गर्मी में किसी को दिक्कत नहीं आने देंगे


X
मुख्य जलस्रोत बरामा में उतरा जल स्तर इंटकवेल में बचा आधा फीट से कम पानी
Click to listen..