गरोठ

--Advertisement--

प्रथम वर्ष के आवेदन 25 तक, 2 सप्ताह में टाइम टेबल आएगा

उच्च शिक्षा विभाग द्वारा स्नातक में वार्षिक परीक्षा पद्धति लागू करने के बाद पहली बार परीक्षा होने जा रही है।...

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2018, 03:25 AM IST
उच्च शिक्षा विभाग द्वारा स्नातक में वार्षिक परीक्षा पद्धति लागू करने के बाद पहली बार परीक्षा होने जा रही है। विक्रम यूनिवर्सिटी ने स्नातक प्रथम वर्ष के परीक्षा आवेदन के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। 25 फरवरी तक फाॅर्म भरे जा सकेंगे। परीक्षा को लेकर यूनिवर्सिटी 2 सप्ताह के भीतर कभी भी टाइम टेबल जारी कर देगी। जिले के 9 शासकीय कॉलेजों से परीक्षा में 6200 विद्यार्थी हिस्सा लेंगे। इसमें से सर्वाधिक 3780 परीक्षार्थी तो केवल मंदसौर पीजी कॉलेज से ही हैं।

शिक्षण सत्र 2017-18 की वार्षिक पद्धति परीक्षा मार्च-अप्रैल के बीच होगी। 25 दिन का टाइम टेबल आएगा। इसमें साइंस, कॉमर्स, आर्ट्स जैसे परंपरागत कोर्स के परीक्षार्थी शामिल होंगे। विक्रम यूनिवर्सिटी उज्जैन ने इस संबंध में जिला स्तर पर अधिसूचना जारी कर दी। इसके बाद लीड काॅलेज प्रबंधन ने गर्ल्स कॉलेज, सीतामऊ, पिपलियामंडी, गरोठ, भानपुरा, सुवासरा, शामगढ़ और मल्हारगढ़ के शासकीय कॉलेज तक आदेश पहुंचाया है। विद्यार्थियों को नामांकन नंबर पिछले दिनों ही अलॉट हो चुके हैं। परीक्षा आवेदन के साथ नामांकन नंबर का भी जिक्र करना होगा क्यों सभी विद्यार्थी पहली बार परीक्षा दे रहे हैं। 26 फरवरी से 3 दिनों तक विलंब शुल्क के साथ परीक्षा फाॅर्म स्वीकारे जाएंगे। इन सभी विद्यार्थियों ने जुलाई-अगस्त 2017 की एडमिशन प्रक्रिया में हिस्सा लिया था और मेरिट आधार पर कक्षाओं में चयन हुआ था।

स्नातक परीक्षा

अधिसूचना जारी, जिले के 9 शासकीय काॅलेजों से 6200 छात्र-छात्राओं को करना है आवेदन, सर्वाधिक 3870 परीक्षार्थी पीजी काॅलेज से

अब समय रहते रिविजन कराना चुनौती

वार्षिक परीक्षा में मार्च से अप्रैल के बीच छात्र-छात्राएं पहली बार नए सिस्टम से रूबरू होने जा रहे हैं। हालांकि कॉलेज स्तर पर 4 माह पहले गेस्ट फेकल्टी के पद भरे जाने की प्रक्रिया हो चुकी थी। जिले में 105 गेस्ट फेकल्टी थी। ज्यादातर संकायों में कोर्स पूरा हो चुका है और अब समय रहते रिविजन करना चुनाैती रहेगा। कॉलेज स्तर पर अब लगातार नियमित कक्षाओं में पढ़ाई होगी। वैसे अंचल में ज्यादातर छात्र-छात्राएं कोचिंग पर निर्भर रहते हैं।

बाकी कक्षाओं में सेमेस्टर सिस्टम से ही होगी परीक्षा

प्रथम ‌वर्ष को छोड़ स्नातक और स्नातकोत्तर की अन्य कक्षाओं में सेमेस्टर सिस्टम जारी है। इसके तहत नवंबर-दिसंबर 2017 के दौरान तीसरे और पांचवें सेमेस्टर की परीक्षा हुई थी। इसमें रेगुलर के अलावा प्राइवेट और एटीकेटी विद्यार्थी भी शामिल हुए थे। परीक्षा के नतीजे आने की शुरुआत पिछले सप्ताह से हो चुकी है।

सीसीई-प्रोजेक्ट साल में एक ही बार होंगे

नई व्यवस्था के तहत प्रथम वर्ष कक्षाओं में जिस तरह साल में एक ही बार परीक्षा होगी, उसी तरह सीसीई-प्रोजेक्ट साल में एक ही बार होंगे। उसके तहत ही मूल्यांकन होगा और विद्यार्थियों की मार्कशीट में अंक जोड़ेंगे। सभी संकायोंं में समान अनुपात में अंकों का विभाजन रहेगा। उसी मान से संकाय प्रमुखों की उपस्थिति में कॉलेजों में सीसीई-प्राेजेक्ट की तारीख पर छात्र-छात्राओं को पहुंचना होगा। वार्षिक परीक्षा में प्रश्नपत्रों का पैटर्न सेमेस्टर सिस्टम से ठीक जुदा होगा जबकि अंकों का विभक्तिकरण, शब्द संख्या और ग्रुप संबंधित का सिस्टम पूर्ववत ही रहेगा।

जून तक आएंगे नतीजे, जुलाई से एडमिशन - वार्षिक परीक्षा के नतीजे जून से आना प्रारंभ हो जाएंगे। जुलाई-अगस्त तक स्नातक में दूसरे वर्ष में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होगी और सत्र व्यवस्था के तहत साल में एक बार ही परीक्षा होगी।

विद्यार्थी समय रहते आवेदन करें


X
Click to listen..