Hindi News »Madhya Pradesh »Garoth» 9 महीने बाद शुरू शामगढ़ रेलवे क्राॅसिंग थ्री-वे आेवरब्रिज का काम फिर धीमा, राहगीर परेशान

9 महीने बाद शुरू शामगढ़ रेलवे क्राॅसिंग थ्री-वे आेवरब्रिज का काम फिर धीमा, राहगीर परेशान

हादसे होने का रहता डर शामगढ़ रेलवे क्राॅसिंग गेट नंबर-46 पर शामगढ़-सुवासरा अौर परासली दीवान रोड को जोड़ते हुए थ्री-वे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 05, 2018, 03:35 AM IST

हादसे होने का रहता डर

शामगढ़ रेलवे क्राॅसिंग गेट नंबर-46 पर शामगढ़-सुवासरा अौर परासली दीवान रोड को जोड़ते हुए थ्री-वे ओवर ब्रिज निर्माणाधीन है। जमीन अधिग्रहण सहित अन्य कारणों से करीब एक वर्ष कार्य रुकने के बाद नंवबर 2017 में फिर से निर्माण शुरू हुआ था। करीब दो महीने बाद फिर कार्य की रफ्तार धीमी पड़ गई है। रफ्तार धीमी होने और डायवर्ट मार्ग पर सामान बिखरा होनेे से यातायात में परेशानी हो रही है। दिनभर धूल उड़ती है जिससे वाहन चालकों सहित राहगीरों को सांस लेने में तकलीफ होती है।

वाहनों के आवागमन और लोगों को राहत देने के लिए के लिए सरकार द्वारा शामगढ़ रेलवे क्राॅसिंग गेट नंबर-46 पर थ्री-वे ओवरब्रिज का निर्माण करवाया जा रहा है। यह शामगढ़-सुवासरा अौर परासली दीवान रोड़ को जोड़ते हुए करीब 28 करोड़ की लागत निर्माणाधीन हैं। ब्रिज निर्माण अक्टूबर 2016 में शुरू होने के बाद भू-अर्जन की अड़चनों के कारण कुछ महीने काम चलने के बाद रुक गया था। नवंबर 2017 में एक बार फिर निर्माण शुरू हुआ। इसमें तो कार्य तेजी से चला और परासली रोड साइड पर ब्रिज के 12 स्लैब (पिलर) में से अधूरे पड़े 7 स्लैब का कार्य होने के बाद 8वें स्लैब का कार्य महीने भर से धीमा है। इसी प्रकार शामगढ़-सुवासरा रोड है कि, मुख्य रोड को अाधे से ज्यादा खोदकर कार्य किया जा रहा है। ऐसे में रोड के शेष 25 फीसदी हिस्से के साथ कच्चे रास्ते में से यातायात डायवर्ट किया है। कच्चा रास्ता होने के साथ साइड में निर्माण कार्य मटेरियल बिखरा पड़ा होने से यातायात के दौरान आवागमन में परेशानी हो रही है।

लोगों द्वारा कई बार शिकायत के बावजूद ठेकेदार द्वारा डायवर्ट मार्ग को सही नहीं किया जा रहा है। मुख्य मार्ग होने से 24घंटे यातायात रहता है। कार्य स्थल पर सड़क की दूसरी ओर जहां से मार्ग डायवर्ट किया है। पास में ही तहसील कार्यालय होने के साथ बीएसएनएल व बिजली कंपनी का कार्यालय भी है। साथ ही श्मशान भी कुछ ही दूरी पर है। ऐसे में ब्रिज निर्माण कार्य की धीमी गति और डायवर्ट रोड पर बिखरे सामान के कारण वाहन चालकों के साथ आम लोग भी परेशान हैं।

वाहनों के साथ स्थानीय लाेगों को आना-जाना लगा रहता हैं। हर वक्त दुर्घटना का डर बना रहता है। धूल से भी परेशानी होती है। -श्याम राठौर, स्थानीय निवासी

निर्माण सामग्री की कमी के कारण कार्य धीमा हुआ

ब्रिज निर्माण के लिए जिस प्रकार की रेत व बालू चाहिए। वह समय पर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होने के कारण कार्य की गति में कुछ कमी आई है। इस बीच दूसरे कार्य को गति से किया जा रहा है। डायवर्ट रोड सामान बिखरा हुआ नहीं है, कुछ बिखरता भी है तो उसे तत्काल साफ करवाते हैं। फिर भी ध्यान रखेंगे। रजनीकांत पटेल, साइड इंचार्ज रचना कंस्ट्रक्शन, अहमदाबाद गुजरात

राह होगी आसान

शामगढ़, सुवासरा और परासली दीवान से जुड़े करीब 42 गांवों की राह आसान हाेगी। इससे राजस्थान के डग, बड़ोद होकर मप्र के आगर से इंदौर, उज्जैन, भोपाल की राह आसान होगी। इस तरफ जाने वाले को शामगढ़ से मंदसौर, जावरा और रतलाम नहीं जाना पड़ेगा और सीधे थ्री-वे ब्रिज पार कर निकल जाएंगे। बोलिया, सिलेगढ़ होकर कोटा तरफ की राह भी आसान होगी।

शामगढ़-सुवासरा रोड पर ब्रिज निर्माण में स्लैब की नींव भराई नहीं हुई।

एक नजर में

लागत :
28 करोड़ रुपए

कुल लंबाई : डेढ़ किमी

चौड़ाई : 12 मीटर

पाथवे चौड़ाई : 3-3मीटर

डिवाईडर चौड़ाई : डेढ़ फीट

शिकायत के बाद भी डायवर्ट रोड पर ध्यान नहीं दिया

ब्रिज निर्माण के लिए शामगढ़-सुवासरा मुख्य रोड को पास में ही डायवर्ट किया गया। यह मार्ग कच्चा हाेने के साथ सामान बिखरा रहता है। इससे यातायात में परेशानी आ रही है। इसे पक्का बनाने और सड़क पर बिखरे सामान हो एक तरफ करने के लिए शिकायत कर चुके हैं। दो महीने में कुछ नहीं हुआ, परेशान जनता को होना पड़ रहा है। सुरेश जोशी, सामाजिक कार्यकर्ता शामगढ़

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garoth

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×