Hindi News »Madhya Pradesh »Garoth» नियम प्रक्रिया को शिथिल करके रणथंभौर एक्स. के ठहराव की मांग

नियम प्रक्रिया को शिथिल करके रणथंभौर एक्स. के ठहराव की मांग

रेलवे निर्धारित नियम प्रक्रिया को शिथिल कर जनहित में गरोठ रेलवे स्टेशन पर रणथंभौर एक्सप्रेस ट्रेन नंबर-12465/12466 का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 05, 2018, 05:05 AM IST

रेलवे निर्धारित नियम प्रक्रिया को शिथिल कर जनहित में गरोठ रेलवे स्टेशन पर रणथंभौर एक्सप्रेस ट्रेन नंबर-12465/12466 का स्टाॅपेज करें। यह मांग सामाजिक कार्यकर्ता जगदीश अग्रवाल ने रेलमंत्री व सांसद को लिखे पत्र में कही।

अग्रवाल ने प्रेसनोट जारी कर बताया कि मंदसौर संसदीय क्षेत्र के लोकसभा सांसद सुधीर गुप्ता ने रेलवे स्टेशन गरोठ पर जोधपुर-इंदौर रणथंभौर गाड़ी का ठहराव किए जाने हेतु जनता की मांग को गंभीरता से नहीं लिया और नहीं ठहराव हेतु दमदारी से अपनी बात रखी है। गाड़ी के रेलवे स्टेशन गरोठ पर ठहराव हेतु सांसद ने भारत सरकार के रेलमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा है कि नियमानुसार आवश्यक कार्रवाई करें और सांसद के पत्र के आधार पर रेलमंत्री ने भी नियमानुसार कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। नियमानुसार कार्रवाई एवं निर्णय में तो कभी भी रेलवे स्टेशन गरोठ पर गाड़ी ठहराव नहीं हो सकता है। इस बारे में सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी गई तो भारत सरकार रेलवे मंत्रालय एवं रेलवे बोर्ड़ के नीरज वर्मा डायरेक्टर टीटी/कोचिंग-1रेल्वे बोर्ड के पत्र क्रमांक 2004/ दिनांक 07/12/2015 अनुसार मेल/एक्सप्रेस गाडी का नियमानुसार किसी स्टेशन पर ठहराव करवाने हेतु उस स्टेशन पर खर्चे यानि टिकट बिक्री से कम से कम राशि 12 हजार 716 रुपए से 24 हजार 506 रुपए के मध्य में होना चाहिए, तभी उस स्टेशन पर नियमानुसार ठहराव की स्वीकृति दी जाएगी। रेलवे स्टेशन गरोठ पर प्रतिदिन इतनी राशि के टिकट बिक्री होना बिल्कुल भी संभव नहीं है और इस स्थिति से रेलवे मंत्रालय ने लिखित में पत्र भेजकर सांसद को अवगत भी करवा दिया गया। इसका उल्लेख मंड़ल वाणिज्य प्रबंधक कोटा के पत्र में है। अग्रवाल ने इस संबंध में भारत सरकार के रेलमंत्री एवं सांसद को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि जनहित में नियमों को शिथिल कर रेलवे स्टेशन गरोठ पर जोधपुर-इंदौर गाड़ी का स्टापेज किया जाना चाहिए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garoth

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×