• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • आधार से जुड़ेगी मार्कशीट-डिग्री ताकि फर्जीवाड़े पर लगे रोक
--Advertisement--

आधार से जुड़ेगी मार्कशीट-डिग्री ताकि फर्जीवाड़े पर लगे रोक

मार्कशीट-डिग्री से जुड़े फर्जीवाडे पर रोक लगाने के लिए विक्रम यूनिवर्सिटी नए शैक्षणिक सत्र से आधार कार्ड से दोनों...

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2018, 06:50 AM IST
मार्कशीट-डिग्री से जुड़े फर्जीवाडे पर रोक लगाने के लिए विक्रम यूनिवर्सिटी नए शैक्षणिक सत्र से आधार कार्ड से दोनों व्यवस्थाओं को जोड़ने जा रही है। इससे किसी भी तरह की गड़बड़ी की पुष्टि की जा सकेगी। केवल मंदसौर जिले में ही 9 सरकारी काॅलेज में 18 हजार नियमित विद्यार्थी हैं। यूनिवर्सिटी इनका डाटा लेकर नए सत्र से आधार व्यवस्था से जोड़ने जा रही है।

मंदसौर लीड काॅलेज, गर्ल्स काॅलेज, पिपलियामंडी, सीतामऊ, गरोठ, भानपुरा, सुवासरा, मल्हारगढ़ और शामगढ़ जैसे काॅलेजों में नए शैक्षणिक सत्र 2018-19 से इस पैटर्न पर काम शुरू कर दिया जाएगा। यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को नए सत्र से डिग्री लेने के लिए आवेदन की जरूरत नहीं लगेगी। वह नए सत्र से डिग्री को आधार कार्ड से लिंक करने जा रही है। आधार नंबर डालकर छात्र कहीं भी ऑनलाइन देख व प्रिंट निकाल सकेंगे। इतना ही नहीं, संबंधित संस्थाओं को छात्रों को नौकरी देने के बाद डिग्री वेरिफिकेशन के लिए यूनिवर्सिटी में पत्र भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी। संबंधित संस्थान ऑनलाइन डिग्री का वेरिफिकेशन कर सकेंगे। डिग्री बारकोड युक्त होगी। आधार कार्ड से डिग्री लिंक होने पर किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा नहीं किया जा सकेगा। दरअसल, यूजीसी ने देशभर की सभी यूनिवर्सिटी को छात्रों को ऑनलाइन डिग्री उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं, इसके तहत काम हो रहा।

कॉलेज विद्यार्थियों के लिए परीक्षा फाॅर्म के साथ आधार नंबर की अनिवार्यता लागू करने जा रही विक्रम यूनिवर्सिटी, नए सत्र से होगा अमल

परीक्षा फाॅर्म के दौरान भी आधार नंबर डाला जाएगा

छात्रों को अब परीक्षा आवेदन के दौरान भी आधार नंबर डालना होगा। इसी आधार नंबर को डिग्री से लिंक किया जाएगा। इसके बाद ही छात्र ऑनलाइन निकाल सकेंगे। अप्रैल-मई से शुरू होने वाले नए शैक्षणिक सत्र से इस पर अमल होगा। विक्रम यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. एस.एस. पांडेय ने बताया प्रक्रिया से कई लाभ होंगे। यूजीसी के निर्देश के पालन में सिस्टम पर काम हो रहा है। नए सत्र से शुरुआत होगी। वैसे भी हर डिटेल आधार से जोड़ने पर काम हो रहा है।

मार्कशीट बनते ही डिग्री पोेर्टल पर अपलोड हो जाएगी

कॉलेजों के स्नातक और स्नातकाेत्तर के छात्रों को नई व्यवस्था में कागजात का ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। मार्कशीट बनने के बाद डिग्री भी तुरंत तैयार कर पोर्टल पर अपलोड कर दी जाएगी। इसके बाद छात्र आधार कार्ड नंबर डालकर डिग्री का प्रिंट कहीं से भी निकाल सकेंगे।

हर साल जिले के 9 शासकीय कॉलेजों से 4500 छात्र होते हैं पासआउट

जिले के 9 शासकीय कॉलेजों से हर साल करीब 4500 छात्र-छात्राएं पासआउट होते हैं। मंदसाैर पीजी व गर्ल्स के अलावा गरोठ, पिपलियामंडी जैसे केंद्रों पर स्नातकाेत्तर कोर्सेस संचालित हैं। इसके अलावा प्राइवेट कॉलेजों से ऐसे विद्यार्थियों की संख्या करीब 900 से 1100 के बीच रहती है। इन सभी विद्यार्थियों से जुड़ा डाटा आधार कार्ड से लिंक होने पर काम तेजी से हो सकेंगे।

सालभर देरी से हो रहा अमल

दरअसल यूजीसी ने इस संबंध में देश की सभी यूनिवर्सिटी को करीब सालभर पहले से ही मार्कशीट, डिग्री ऑनलाइन करने को कह दिया था। इस तुलना में गाइड लाइन जारी होने से बैंकिंग सिस्टम व मोबाइल सिम से आधार जोड़ने पर तेजी से काम हुआ। अब शिक्षण संस्थाओं में विद्यार्थियों से जुड़ा डाटा यूनिवर्सिटी स्तर पर भी देखा जा सकेगा। किसी भी यूनिवर्सिटी से किए गए स्नातक, स्नातकाेत्तर व सभी तरह के कोर्सेस के बारे में जानकारी मिल जाएगी। पारदर्शिता होने पर नौकरी आवेदन जैसी प्रक्रिया के काम तेजी से होंगे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..