Hindi News »Madhya Pradesh »Garoth» ट्रेन का स्टाॅपेज नहीं होने से सुवासरा और गरोठ रहवासियों में नाराजगी, बोले- फिर करेंगे आंदोलन

ट्रेन का स्टाॅपेज नहीं होने से सुवासरा और गरोठ रहवासियों में नाराजगी, बोले- फिर करेंगे आंदोलन

भास्कर संवाददाता | गरोठ/सुवासरा सुवासरा-शामगढ़-गरोठ क्षेत्र नागदा-कोटा रेल खंड से जुड़े शहर हैं। तीनों ही शहर...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 10, 2018, 02:45 AM IST

ट्रेन का स्टाॅपेज नहीं होने से सुवासरा और गरोठ रहवासियों में नाराजगी, बोले- फिर करेंगे आंदोलन
भास्कर संवाददाता | गरोठ/सुवासरा

सुवासरा-शामगढ़-गरोठ क्षेत्र नागदा-कोटा रेल खंड से जुड़े शहर हैं। तीनों ही शहर मंदसौर संसदीय क्षेत्र में अाते हैं। इसमें गरोठ व सुवासरा में नाममात्र की ट्रेनों का स्टाॅपेज है। दोनों ही शहर के रहवासी लंबे समय से ट्रेनों की सुविधा बढ़ाने के लिए आंदोलन करते आए हैं। गरोठ में रणथंभौर एक्सप्रेस की मांग की जा रही है तो सुवासरा में तीन ट्रेनों की मांग की जाती रही हैं। अब तक एक भी ट्रेन का स्टाॅपेज नहीं हाेने से रहवासियों में पहले से नाराजगी थी। नई घोषणा में भी गरोठ-सुवासरा को नजरअंदाज करने के कारण आक्रोश बढ़ रहा है। इसे लेकर आंदोलन की रणनीति भी बना रहे हैं।

सुवासरा रहवासियों के साथ हर बार सौतेला व्यवहार किया जाता रहा हैं। यह इस बात से स्पष्ट होता है कि क्षेत्रवासी लंबे समय से चार से ज्यादा ट्रेनों के सुवासरा में स्टाॅपेज की मांग करते रहे हैं। रहवासी व विधायक प्रतिनिधि अभिषेक डबकरा ने बताया पिछले पांच साल में केवल एक ही ट्रेन रणथंभौर एक्सप्रेस ट्रेन का स्टाॅपेज हुआ। वह भी जब मीनाक्षी नटराजन सांसद थीं, वर्तमान सांसद सुधीर गुप्ता के कार्यकाल में एक भी ट्रेन का स्टाॅपेज नहीं हुआ। मुंबई-दिल्ली रेल मार्ग के मध्य जिले का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन सुवासरा है। आपदा प्रबंध समिति के भगवतीलाल मोदी बताते हैं कि यहां से सबसे ज्यादा यात्री दिल्ली व मुंबई रूट पर यात्रा करते हैं। बावजूद यहां यात्री ट्रेनों का स्टाॅपेज बहुत कम है। पिछले कई वर्षों से स्टेशन की बुनियादी सुविधाओं एवं प्रमुख ट्रेनों के ठहराव के लिए आपदा प्रबंध समिति के साथ नगरवासियों ने धरना-आंदोलन करने के साथ कई मांग-पत्र जनप्रतिनिधियों को दिए। फिर भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। जल्द ही आंदोलन की राह अपनाएंगे। समाजसेवी मनीष जैन ने बताया सुवासरा स्टेशन के समीप जैन धर्मावलंबियों का बड़ा तीर्थ आनंदधाम घसोई स्थित है। जहां वर्षभर देशभर से जैन समाज के यात्री दर्शनार्थ पहुंचते हैं। दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए भी रहवासी सुवासरा में प्रमुख यात्री ट्रेनों का स्टॉपेज की मांग करते रहे हैं। समाजसेवी कादरभाई बोहरा ने बताया शामगढ़-सुवासरा व गरोठ क्षेत्र की बात करें तो सुवासरा से सबसे ज्यादा यात्री ट्रेन में सफर करते हैं। सुविधा नहीं हाेने के कारण मंदसौर, रतलाम से यात्रा करना पड़ती है। नगर में सवा दो हजार से ज्यादा घर बोहरा समाज से हैं। इनमें अधिकतर घरों के परिजन विदेशों व देशभर में नौकरी करते हैं। इनका आना-जाना वर्षभर लगा रहता है। पहले भी आंदोलन किया, अब फिर करेंगे।

सुवासरा स्टेशन पर इन ट्रेनों के ठहराव की है मांग - भगत की कोठी बिलासपुर-बीकानेर एक्सप्रेस, जम्मूतवी एक्सप्रेस, जयपुर-चैन्नई एक्सप्रेस, जयपुर-मैसूर एक्सप्रेस, जयपुर-पुणे एक्सप्रेस।

बोलिया रोड रेलवे फाटक होकर गरोठ स्टेशन रोड की स्थिति खराब है।

जन आंदोलन के बाद भी मांग पूरी नहीं

गरोठ में सालों से रहवासी जोधपुर-इंदौर रणथंभौर एक्सप्रेस ट्रेन के स्टाॅपेज की मांग कर रहे हैं। संकल्प ग्रुप के माध्यम से भी ट्रेन स्टाॅपेज के लिए जनआंदाेलन चला। दो हजार से ज्यादा लोगों ने पोस्टकार्ड लिखकर रणथंभौर एक्सप्रेस के स्टाॅपेज की मांग की। अन्य लोगों ने भी अपने-अपने स्तर पर सांसद से लेकर रेल मंत्री तक को पत्र लिखे। इतना सबकुछ हाेने के बावजूद एक ट्रेन का स्टापेज नहीं हो पाया। गरोठ संकल्प ग्रुप के डॉ. मनोज उपाध्याय कहते हैं हम एक ट्रेन की मांग कर रहे हैं। उसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। सांसद गुप्ता से चर्चा हुई तो उन्होंने फिर से आश्वस्त किया हैं। देखते हैं, नहीं तो जनता के आक्रोश को देखते हुए फिर अांदोलन करेंगे। सुवासरा सांसद प्रतिनिधि घनश्याम धनोतिया ने बताया सुवासरा में रेल सुविधाओं की मांग दमदारी से रखी गई है। सांसद गुप्ता की रेल मंत्री से चर्चा हुई है, जल्द ही सुवासरा में जनता की मांग के अनुरूप ट्रेनों का स्टाॅपेज होगा।

सड़क के टंेडर स्वीकृत, 5 माह बाद भी निर्माण नहीं

बोलिया रोड रेलवे फाटक से गरोठ रेलवे स्टेशन तक करीब दो किमी लंबी सड़क जर्जर हो रही है। करीब दो साल में सड़क निर्माण के टेंडर होने के बाद स्वीकृत भी हो चुका है। इसके बावजूद करीब पांच महीने से सड़क निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया हैं। इस बारे में पीडब्ल्यूडी गरोठ एसडीओपी सूरज झानिया से चर्चा करना चाही तो वे ट्रेंनिग पर गए है। उनका मोबाइल कवरेज एरिए की बाहर आ रहा है।

ट्रेन के 20 से ज्यादा स्टॉपेज को लिखा, मिलेगी सुविधा

मैंने क्षेत्र के लिए 20 से ज्यादा ट्रेनों के स्टाॅपेज के लिए लिखा हैं। कुछ स्टाॅपेज स्वीकृत हुए हैं, कुछ की प्रक्रिया चल रही है। जनता की मांग के अनुरूप ट्रेन सहित अन्य सुविधाएं मिलेंगी। सुधीर गुप्ता, सांसद मंदसौर संसदीय क्षेत्र

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garoth

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×