• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार
--Advertisement--

मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार

भास्कर संवाददाता | गरोठ/शामगढ़ भावांतर में किसान उपज बेचने के लिए सूचना मिलते ही समय पर पहुंच रहे हैं। मंडी में...

Dainik Bhaskar

May 05, 2018, 02:50 AM IST
मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार
भास्कर संवाददाता | गरोठ/शामगढ़

भावांतर में किसान उपज बेचने के लिए सूचना मिलते ही समय पर पहुंच रहे हैं। मंडी में उसे अपनी उपज बेचने के लिए 3 से 4 दिन तक इंतजार करना पड़ रहा है। अन्य किसान भी उचित मूल्य नहीं मिलने के कारण आक्रोशित हैं। यह हालात शामगढ़ व गरोठ में मंडी में देखने को मिल जाएंगे लेकिन सबसे ज्यादा आवक शामगढ़ मंडी में होती है। ऐसे में चार दिनों के दौरान परेशान किसान दाे बार शामगढ़-गरोठ रोड पर चक्काजाम कर चुके हैं। ऑनलाइन की गड़बड़ी और अन्य दिक्कतों से ऐसा हो रहा है। शुक्रवार को भी परेशान किसानों ने मंडी प्रांगण में हंगामा कर दिया तो कुछ किसान सड़कों पर पहुंच जाम करने लगे। तीन घंटे की समझाइश के बाद किसान माने और हंगामा खत्म किया। गरोठ में भारतीय किसान संघ ने समस्याओं के समाधान के लिए मंडी सचिव के बाद तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा।

शुक्रवार को फिर कृषि उपज मंडी शामगढ़ में किसानों ने तीसरे व चौथे दिन भी उपज नहीं तुलने और भाव सही नहीं मिलने के कारण हंगामा शुरू कर दिया। 1500 से ज्यादा किसान थे जिसमें भावांतर योजना में बेचने 3-4 दिन से इंतजार कर रहे किसान भी थे। समस्या का निराकरण न होने के कारण आक्रोशित कुछ किसानों ने मंडी में नीलामी बंद करवा दी तो कुछ किसान शामगढ़-गरोठ रोड पर जाम करने पहुंचे। सूचना मिलते ही विधायक हरदीपसिंह डंग पहुंचे और किसानों को समझाया लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं हुए। कुछ किसानाें तो कह दिया आज मंडी में परेशान हो रहे हैं तो आ गए। कभी गांव में आकर भी समस्या देख लिया करो। इस बीच तहसीलदार प्रेमशंकर पटेल व टीआई ब्रजभूषण हिरवे भी पहुंचे। तब तक किसानों को बढ़ता आक्रोश देख विधायक डंग चले गए। करीब दो घंटे चले हंगामे और समझाइश के बाद किसान माने और तौल शुरू हो पाया।

असावती के समरथ पाटीदार, नेपालसिंह, ग्राम माेरड़ी के किसान देवीलाल पाटीदार ने बताया 300 से ज्यादा किसान तीन-चार दिन से तो परेशान हैं, बाकी किसान अलग हैं। मंडी में रात में ठहरने के इंतजाम हैं, न खाने-पीने के लिए कोई उचित व्यवस्था। किसानों के बने विश्राम गृह पर अन्य लोगों का कब्जा है। रातभर खुले में सोने के के साथ उपज की सुरक्षा भी हमें करना पड़ती है। भोजन के नाम पर 6 पूड़ी और नाममात्र की सब्जी वह भी शाम 6 बजे तक। उसके बाद न भोजन मिलता है और ना ही पीने के लिए पानी। बोरखेड़ी रड़का के हीरालाल मीना, पठारी के नानूराम पाटीदार ने उपज तो खरीद ली लेकिन बारदान नहीं होने के कारण दो दिन से उपज तुली तक नहीं है। हजारों बोरी अनाज खुले में पड़ा है।

उठाव नहीं होने से खुले में पड़ा, किसानों को सता रही मौसम की चिंता

कृषि उपज मंडी शामगढ़ प्रांगण में इस प्रकार खुले में पड़ा गेहूं और चना।

भाकिसं ने आधे घंटे किया तहसीलदार का घेराव, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

शुक्रवार को भारतीय किसान संघ पदाधिकारियों के साथ परेशान किसान तहसील कार्यालय पहुंचे। जहां अपनी समस्याओं को लेकर करीब आधे घंटे तक तहसीलदार अजय पाठक को खरी-खोटी सुनाते रहे परंतु इस दौरान तहसीलदार ने कोई जवाब नहीं दिया। जिससे किसान नारेबाजी करने लगे, तब शोरगुल सुनकर पास ही अपने कार्यालय में बैठे एसडीएम रामप्रसाद वर्मा ने किसानों को बुलाकर उनकी समस्याएं सुनी। किसानों ने बताया कि कृषि उपज मंडी में संबंधित कर्मचारियों की गड़बड़ियों की वजह से समर्थन मूल्य के पंजीयन के दौरान दी गई गड़बड़ियों और सही जानकारी दर्ज नहीं करने के कारण किसान परेशान हो रहे हैं। सुराखेड़ी के किसान डूंगरसिंह ने बताया कि वह और अन्य किसान 4 दिनों से मंडी में अपनी उपज सरसों की खरीदी का इंतजार कर रहा है परंतु ऑनलाइन गड़बड़ी की वजह से गलत जानकारी मिलने के कारण उसका माल नहीं खरीदा जा रहा है। जिससे उसका समय बर्बाद हो रहा है। इसकी शिकायत उसने पूर्व 2 मई को एसडीएम को की जिस पर उन्होंने तहसीलदार को तुरंत कार्रवाई करने हेतु कहा परंतु अभी तक किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं हुई है। चर्चा से पूर्व भारतीय किसान संघ के पदाधिकारियों ने एसडीएम वर्मा को किसानों की समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। इस दौरान भारतीय किसान संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष डूंगरसिंह सिसौदिया सहित अन्य पदाधिकारी व किसान उपस्थित थे।

शामगढ़ में किसानाें को समझाते ज्तहसीलदार व टीआई।

शीघ्र हल की जाएंगी समस्याएं


मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार
X
मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार
मैसेज देकर बुला रहे फिर भी नहीं मिल रहा रिकॉर्ड, 4 दिन में 2 बार चक्काजाम फिर भी समस्या बरकरार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..