गरोठ

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • सीमेंट के भारी वाहन दिन में निकलना बंद, रेत व मिट्टी से भरे डंपरों पर भी लगे प्रतिबंध
--Advertisement--

सीमेंट के भारी वाहन दिन में निकलना बंद, रेत व मिट्टी से भरे डंपरों पर भी लगे प्रतिबंध

नगर में 24 घंटे आने वाले सीमेंट के भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगी है। इनमें सबसे खतरनाक स्थिति 25 फीट लंबे सीमेंट...

Dainik Bhaskar

Apr 25, 2018, 03:10 AM IST
सीमेंट के भारी वाहन दिन में निकलना बंद, रेत व मिट्टी से भरे डंपरों पर भी लगे प्रतिबंध
नगर में 24 घंटे आने वाले सीमेंट के भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगी है। इनमें सबसे खतरनाक स्थिति 25 फीट लंबे सीमेंट के भारी वाहन के कारण बनती थी। ये बिना रोकटोक सालों से रात तो छोड़िए दिन में भी बेखौफ निकलते थे। नगर के मुख्य बाजार व मार्ग के बीच से निकलने के कारण हर वक्त जाम की स्थिति बनती थी। एक साथ 4-5 की संख्या में निकलने से दुर्घटना का भी खतरा बना रहता था।

नगरी क्षेत्र से निकलने का समय निर्धारित होने के साथ सख्ती के कारण अब रहवासियों को कुछ राहत हैं। वैसे ताे 1 अप्रैल से ही रोकना शुरू किया था लेकिन 10 दिन से ज्यादा सख्ती करने से दिन में नजर नहीं आ रहे हैं। अब नगर में अवैध रूप से रेत व मिट्टी से भरे डंपर भी दिनभर बेखौफ निकल रहे हैं। इनमें कई डंपरों पर तो नंबर तक नहीं लिखे होते हैं। इनसे दुर्घटना का भय रहता है। जो गरोठ पुलिस थाना के सामने से निकलते हैं। पुलिस प्रशासन को चाहिए कि इन पर भी प्रतिबंध लगाए।

25 फीट लंबे सीमेंट के भारी वाहनों के कारण सबसे ज्यादा प्रभावित होता था यातायात

भानपुरा से शामगढ़ रोड के बीच गरोठ नगर का मुख्य मार्ग है। इसी मार्ग के दाेनों तरफ तमाम प्रकार की दुकानें, सरकारी व निजी आॅफिस सहित रहवासी क्षेत्र भी हैं। आस-पास ही पुराना व नया नगर बसा होकर बाजार और बस स्टैंड, सब्जी मंडी भी हैं। ऐसे में दिनभर भीड़ रहती है। उस पर गांधीसागर से भानपुरा जिला मुख्यालय से जोड़ने वाला भी यही मार्ग है। जो गांधीसागर से होकर भानपुरा, गरोठ, शामगढ़, सुवासरा, सीतामऊ होकर मंदसौर की तरफ जाता हैं। राजस्थान के रामगंजमंडी, भवानी मंडी, झालावाड़ सहित अन्य क्षेत्र भी जुड़े होकर इन क्षेत्रों से आने-जाने वाले भी उपयोग करते हैं। इतने वाहनों के बीच 25 फीट लंबे सीमेंट के भारी वाहनों के कारण सबसे ज्यादा यातायात प्रभावित होता है। राजस्थान से ग्राम लेदी मार्ग से भानपुरा होकर गरोठ, शामगढ़ की तरफ जाने वाले सीमेंट के भारी वाहनों को दिन में जब ज्यादा भीड़ रहती है। ऐसे समय के लिए प्रतिबंध कर दिया है। इसके लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. इंद्रजीत बाकरवाल ने दिन के समय इन वाहनों को रोकने के लिए संबंधित थाना प्रभारियों सहित चालकों आैर उनके मालिकों से चर्चा की। उसके बाद भी कुछ वाहन दिन भी निकलते रहे। इस पर पुलिस ने कुछ सख्ती दिखाते हुए इन वाहनों को भानपुरा के लेदी चौराहे और गांधीसागर क्षेत्र में प्रवेश करने के पहले ही रोका। यदि कोई आ भी गया तो उसे भानपुरा-गरोठ रोड पर दूधाखेड़ी माताजी मंदिर चौराहे पर ही रोक दिया जाता है। इनको नगर में रात 8 बजे बाद प्रवेश दिया जा रहा है ताकि नगरी क्षेत्र में जाम की स्थिति न बने।

सीमेंट के भारी वाहन पर प्रतिबंध से पुराना बस स्टैंड क्षेत्र जाम नहीं लगता।

भानपुरा-गांधीसागर क्षेत्र में भी प्रतिबंध लगाने की जरूरत

पुलिस द्वारा लेदी मार्ग से गरोठ की तरफ दिन में आने पर सीमेंट के भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगा रखा है। ऐसे में यह वाहन लेदी चौराहा से भानपुरा से चंबल मार्ग होते हुए गांधीसागर की तरफ से जा रहे हैं। वह भी बीच बस स्टैंड मुख्य मार्ग से होकर। भानपुरा व गांधीसागर क्षेत्र में भी दिन में इनके प्रवेश पर प्रतिबंध होना चाहिए।

सीमेंट के भारी वाहनों को लेकर सख्ती की है, नहीं माने तो कार्रवाई करेंगे


सीमेंट के 160 से ज्यादा भारी वाहन निकलते हैं

भानपुरा से शामगढ़ की तरफ 24 घंटे में 160 से ज्यादा सीमेंट के भारी वाहनों का रोज आवागमन होता है। कभी-कभी यह संख्या कम-ज्यादा हो जाती है। अक्सर वाहन 4 से 8 की लाइन में एक साथ तेजी से निकलते हैं। इससे दिन में नगरी क्षेत्र में जाम लग जाता। अब सुबह 9 से रात 8 बजे तक प्रतिबंध होने के कारण गरोठ से लेकर शामगढ़ व सुवासरा में भी राहत है। गरोठ की तरह ही शामगढ़ व सुवासरा में भी मुख्य मार्ग नगरी क्षेत्र से होकर जाता है।

X
सीमेंट के भारी वाहन दिन में निकलना बंद, रेत व मिट्टी से भरे डंपरों पर भी लगे प्रतिबंध
Click to listen..