Hindi News »Madhya Pradesh »Guna» जैकेट का शेष

जैकेट का शेष

अचार-मुरब्बे से विज्ञान, नकली नोट से गणित पढ़ेंगे सीबीएसई के छात्र बच्चों को धर्मों के बुनियादी मूल्यों को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 02:30 AM IST

अचार-मुरब्बे से विज्ञान, नकली नोट से गणित पढ़ेंगे सीबीएसई के छात्र

बच्चों को धर्मों के बुनियादी मूल्यों को समझाने के लिए उन्हें भजन, कीर्तन, कव्वाली सुनने के लिए धार्मिक स्थलों पर ले जाया जाएगा।

लर्निंग आउटकम डॉक्यूमेंट के अनुसार बच्चों को गणित समझाने के लिए कक्षा एक में 20 रुपये तक की नकली मु्द्राओं के जरिए गिनती समझाई जाएगी। साथ ही शून्य का महत्व समझाया जाएगा। कक्षा चार के बच्चों को वर्ग, आयत जैसी आकृतियां समझाने के लिए घरों के डिजाइन, उनमें लगी अलग-अलग तरह की टाइल्स की मदद ली जाएगी। कक्षा आठवीं में जीएसटी के जरिये ब्याज का गणित समझाया जाएगा। पर्यावरण की किताब में कक्षा तीन में ही बच्चों को अच्छे-बुरे स्पर्श का फर्क समझाया जाएगा। विज्ञान को घर से समझाने के लिए 8वीं के बच्चों को पढ़ाया जाएगा कि अचार में नमक और मुरब्बे में शक्कर क्यों डाली जाती है। एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक जे.एस. राजपूत कहते हैं कि आज के समय में सूचना के स्रोत इतने हो गए हैं कि सभी चीजें बच्चों को पढ़ाने की जरुरत नहीं है। जरुरत है समझ बढ़ाने की। किताबों की साइज बढ़ी है क्योंकि हर बार जब विद्वान किताब बनाने बैठते हैं तो अपना ज्ञान उड़ेलने लगते हैं। पाठ्यक्रम को कम करना संभव है। कक्षा 10 तक सुरुचि वाले विषय पढ़ाने चाहिए। जैसे- मैंने अपने समय एनसीईआरटी में एक बदलाव किया था। पहले नागरिक, शास्त्र, भूगोल, इतिहास को मिलाकर कुल कुल 800 पन्नों की चार किताबें होती थी। लेकिन इसे मिलाकर एक किया और 200 पन्नों में उसे समेट दिया। वे बताते हैं कि 1962 में मैने एमएससी की पढ़ाई के वक्त टर्मन की 700 पेज की किताब पढ़ी जो आज 7-8 पेज तक सीमित हो गई है। यानी जो आवश्यक नहीं है उसे पाठ्यक्रम नहीं रखना चाहिए। मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर कहते हैं कि सिलेबस बदलने के लिए हमने जो छह शिविर किए उसमें 200 से ज्यादा शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले संगठन, सभी राज्यों के अधिकारी, शिक्षक, मुख्य अध्यापक और शिक्षाविद आदि से हमारी बारी-बारी से चर्चा हुई। सबने यह माना कि सिर्फ परीक्षा की शिक्षा ही शिक्षा नहीं है। हम इसी सप्ताह में हमारी वेबसाइट पर पूछेंंगे कि कौन सा पाठ बिलकुल आवश्यक है और कौन सा अनावश्यक है। इस मामले में लेखक और शिक्षाविद विजय बहादुर सिंह कहते हैं कि प्रकाशकों और स्कूलों की मिलीभगत से सिलेबस का बोझ बढ़ा दिया जाता है। जो चित्रकला नहीं जानता उसे बचपन में ही चित्रकला सिखाना सही नहीं है। खेलकूद से स्वास्थ्य ठीक रहता है जिसे अनिवार्य किया जाना चाहिए। सामाजिक जीवन से जोड़ने वाली चीजें पाठ्यक्रम में शामिल की जानी चाहिए। एनसीईआरटी में विज्ञान कमेटी के विशेषज्ञ और एम्स के डॉक्टर डॉ. अमित डिंडा कहते हैं कि विज्ञान में कटौती नहीं की जा सकती। लेकिन सूचनाओं को बहुत संक्षिप्त करके किया जा सकता है। अमेरिका में इस तरह का मॉडल अपनाया जाता है। भारत भी इसी दिशा में कदम बढ़ाएगा।

बजट बाद महीने भर में शेयर 5% गिरे, प्रॉपर्टी की बिक्री 20% बढ़ी

क्रेडाई के नेशनल प्रेसीडेंट जक्षय शाह ने बताया कि दिसंबर 2017 की तुलना में जनवरी 2018 के दौरान देश के सात महानगरों (मुंबई, दिल्ली-एनसीआर, कोलकाता, चैन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरु और अहमदाबाद) में बिक्री 100 फीसदी अधिक हुई है। इस दौरान 250 यूनिट के बजाए 500 यूनिट की बिक्री हुई। नोटबंदी, रेरा और जीएसटी के असर को बाजार ने पीछे छोड़ दिया है। अभी फरवरी के आंकड़े आ रहे हैं फिर भी अंतरिम रूप से जो जानकारी है उसके मुताबिक बाजार ने फरवरी की तुलना में 20 फीसदी अधिक बिक्री दर्ज की है। कैपिटल गेन टैक्स का हमें फायदा हुआ है। हाल ही में बैंक की दरें बढ़ाने के संबंध में उन्होंने कहा कि इसका बहुत मामूली फर्क पड़ेगा, हम अगर ईएमआई में देखेंगे तो बहुत ही कम बढ़ी हुई दिखेगी। अभी रियल एस्टेट में स्थिति यह है कि नये लांच कम हो रहे हैं और स्टॉक अधिक है। ऐसी स्थिति दो वर्ष और रहेगी, डिमांड बढ़ रही है। प्रॉपर्टी की कीमतें भी निचले स्तर पर हैं। एक अप्रैल से नये सर्किल रेट आ जाएंगे इसलिए मार्च महीने में भी प्रॉपर्टी की बिक्री अधिक होगी। प्रॉपर्टी के रेट भी ज्ल्द ही बढ़ेंगे क्योंकि मटेरियल के भाव बढ़ रहे हैं, स्टील की कीमतें बढ़ गई हैं, कंप्लायंस कॉस्ट बढ़ रही है। हालांकि अभी प्रोपर्टी के रेट करीब-करीब स्थिर रहे हैं, वर्तमान में प्रोपर्टी की इन्क्वायरी बढ़ी है और कन्वर्जन दो गुना हुआ है।

देश के सबसे बड़े ज्वैलर्स राजेश एक्सपोर्ट्स के चेयरमैन राजेश मेहता ने बताया कि भाव तो थोड़ा गिरा है लेकिन स्थिर बना हुआ है, अगले एक-दो महीना सोने की कीमतों में इसी प्रकार स्थिरता रहेगी या मामूली बढ़त या गिरावट रह सकती हैं। अभी शादी सीजन शुरू होगा जिसके कारण डिमांड बेहतर रह सकती है। वर्तमान में करीब 70 से 80 टन की प्रति माह सोना की डिमांड बनी हुई है, अगले महीनों में पांच फीसदी डिमांड बढ़ सकती है। बजट में चूंकि गोल्ड सेक्टर के लिए सरकार ने कुछ विशेष घोषणाएं नहीं की थी इसलिए बजट का कोई असर भी नहीं है। वित्तीय सलाहकार हर्ष रूंगटा ने बताया कि इक्विटी मार्केट फरवरी के दौरान भले ही पांच फीसदी घट गया है लेकिन जनवरी में इससे अधिक बढ़ा था। फरवरी में जो गिरावट आई उसमें कई वैश्विक कारण रहे जैसे फेड रेट का बढ़ना और विश्वभर के बाजारों में गिरावट का रुख रहा था। भारत में भी बजट में कैपिटल गेन टैक्स लगने का थोड़ा असर गिरावट में रहा है। वहीं िनवेश सलाहकार फर्म टिकरप्लांट में स्वतंत्र निदेशक और सीए कुरुपेश भंसाली ने कहा कि शेयर बाजार में गिरावट फरवरी के दौरान पूरे विश्व के बाजारों में आई है। म्युचुअल फंड में लगातार निवेश आ रहा है, हलांकि इस दौरान मामूली गिरावट इसमें भी दर्ज की गई है। गिरावट के पीछे मुख्यकारण यह रहा कि बाजार पहले से ही बहुत ऊंचे स्तर पर था और लगातार बढ़ रहा था इसलिए करेक्शन आना भी तय था क्योंकि जब बाजार बढ़ने का कोई कारण नहीं था तो गिरावट में भी बहुत खास कारण नहीं था, करेक्शन ही मुख्य कारण था। मार्च माह के दौरान बाजार के बेहतर करने की उम्मीद है लेकिन वर्ष 2018 उतार-चढ़ाव वाला रहेगा।

बच्चियों की पंसदीदा बार्बी अब 60वें साल में...

इनका रेकॉर्ड: 15 हजार से ज्यादा बॉर्बी का कलेक्शन : जर्मनी की बेटिना डोर्फमैन के पास दुनियाभर में बार्बी का सबसे बड़ा कलेक्शन है। इसके पास अक्टूबर 2011 में ही 15000 से ज्यादा बार्बी डॉल थीं। इनका नाम गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड्स में दर्ज है। बेटिना को 1966 में पांच साल की उम्र में पहली डॉल मिली थी।

302500 डॉलर में नीलाम हुई थी सबसे महंगी बार्बी। यह नीलामी न्यूयॉर्क में 2010 में हुई थी। 11.5 इंच लंबी यह बार्बी ब्लैक ईवनिंग ड्रेस में थी। इसके नेकलेस में एक कैरेट का पिंक डायमंड लगा था, जिसके आसपास व्हाइट डायमंड लगे हुए थे। इस बार्बी को मशहूर ऑस्ट्रेलियाई डिजाइनर स्टीफैनो कैन्टुरी ने डिजाइन किया था।

ये 2 विवाद भी जुडे रहे : 1. दुनियाभर में बार्बी के फीगर को लेकर विवाद होता रहा है। बार्बी का फीगर अनरियलिस्टिक है। बच्चे इसे देखकर कम खाते हैं। पेंसलवेनिया स्टेट यूनवर्सिटी ने अपने रिसर्च में बताया कि जो बच्चियां जैसी डॉल से खेलती हैं वो वैसा ही बनना चाहती हैं। बार्बी से खेलने वाली बच्चियों को ईटिंग डिस्ऑर्डर का खतरा हो सकता है। एक ब्रिटश स्टडी में भी ऐसा ही कहा गया है।

2. सऊदी अरब में वर्ष 2003 में बार्बी को बैन कर दिया गया था। बाद में इसे नैतिकता के लिए खतरा बताया गया। 2012 में इरान में पुलिस ने उस दुकानों को जबरदस्ती बंद कराया जो बार्बी डॉल बेच रहे थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Guna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जैकेट का शेष
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Guna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×