• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Guna News
  • इकलौती बेटी की तलाश में पिता हुआ परेशान, पुलिस से जब आस टूटी तो पहुंचा हाईकोर्ट
--Advertisement--

इकलौती बेटी की तलाश में पिता हुआ परेशान, पुलिस से जब आस टूटी तो पहुंचा हाईकोर्ट

इकलौती बेटी की तलाश में पिता हुआ परेशान, पुलिस से जब आस टूटी तो पहुंचा हाईकोर्ट भास्कर संवाददाता | गुना 7 माह से...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:30 AM IST
इकलौती बेटी की तलाश में पिता हुआ परेशान, पुलिस से जब आस टूटी तो पहुंचा हाईकोर्ट

भास्कर संवाददाता | गुना

7 माह से लापता किशोरी को पुलिस तलाश नहीं पाई तो मामला हाईकोर्ट तक पहुंच गया। इसके बाद तो पुलिस इतनी ज्यादा सक्रिय हुई कि एसआईटी का गठन कर तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। वहीं कोर्ट में भी अब तक किए गए प्रयासों की सूची पेश कर दी। इसमें बताया कि 50 से ज्यादा लोगों से पूछताछ हो चुकी है और तलाशने में टीम जुटी है।

आरोन थाने से मात्र 3 किमी दूर स्थित ग्राम सिरसी निवासी एक किशोरी 1 अगस्त को लापता हो गई थी। इस मामले में किशोरी के पिता ने आरोन निवासी जितेंद्र प्रजापति के खिलाफ अपहरण की धारा में प्रकरण दर्ज कर जेल भेज दिया था। आरोपी की 4 माह बाद जमानत भी हो गई लेकिन किशोरी का कुछ पता नहीं चला। पुलिस का दावा है कि जिस युवक को शक के आधार पर अपहरण का मामला दर्ज किया था। उससे सख्ती से पूछताछ हो चुकी है। इसके बाद भी कुछ पता नहीं चला है। इसके बाद भी अपने स्तर से जानकारी जुटाई जा रही है।

पिता हाईकोर्ट पहुंचा-बोला मेरी बेटी दिला दो : किशोरी के पिता ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई है, इसमें कहा है कि पुलिस उसकी बेटी को तलाश नहीं पा रही है। जिस व्यक्ति पर शक था, उससे भी कुछ उगल नहीं पाई है। कोर्ट ने इस मामले में पुलिस अधिकारियों को नोटिस जारी किए हैं। इसमें एसपी से लेकर अन्य अधिकारी शामिल है। कोर्ट ने पूछा है कि बताएं किशोरी को तलाशने के लिए क्या-क्या प्रयास किए गए।

50 से ज्यादा लोगो से पूछताछ का दावा : पुलिस ने कोर्ट में अपना जवाब पेश किया है। इसमें 50 से ज्यादा लोगों से पूछताछ का दावा किया है। साथ ही कहा है कि मामले की पड़ताल के लिए एसआईटी का गठन किया है,

मां की मौत के बाद पिता ने पाला था : किशोरी की उम्र जब 9 साल की थी, मां की मौत हो गई थी। एक इकलौती पुत्री का लालन-पालन करने के लिए पिता ने दूसरा विवाह भी नहीं किया।