--Advertisement--

महावीर स्वामी के सिद्धांत शाश्वत हैं :जैन

जैन समाज व्यक्तियों के बीच पूजा पद्धति, मान्यताओं को लेकर भले ही मतभेद हों, लेकिन महावीर के सत्य, अहिंसा, अचौर्य,...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:30 AM IST
जैन समाज व्यक्तियों के बीच पूजा पद्धति, मान्यताओं को लेकर भले ही मतभेद हों, लेकिन महावीर के सत्य, अहिंसा, अचौर्य, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह, दया, करुणा, परोपकार के ऐसे शाश्वत सिद्धांत हैं, जिनके संबंध में कोई मतभेद नहीं हो सकते हैं और यही सिद्धांत हमारी एकता के मूल आधार हैं।

यह बात कलेक्टर राजेश जैन ने जैन मिलन के महामासिक मिलन समारोह को संबोधित करते हुए कही। महामासिक मिलन के संयोजक अक्षय जैन कठरया तथा विशाल जैन ने बताया कि महावीर भवन में हुए कार्यक्रम में बड़ी संख्या में समाजबंधुओं ने भाग लिया। श्री जैन ने कहा कि यदि हमारा पड़ोसी भूखा होने को विवश है तो हमारा विभिन्न धार्मिक क्रियाएं करना व्यर्थ है। पांचवीं सदी के पूर्व से वर्तमान काल तक के जैन इतिहास और विभिन्न शास्त्रों से उदाहरण देते हुए श्री जैन ने कहा कि जैन समाज की विभिन्न विचारधाराओं वाले व्यक्तियों के बीच एकता होने से न केवल समाज अपितु राष्ट्र भी मजबूत होगा। अतिथियों ने आचार्यश्री विद्यासागर के चित्र का अनावरण कर दीप प्रज्ज्वलन किया। संचालन क्षेत्र क्र. 12 के क्षेत्रीय अध्यक्ष विनय कुमार जैन ने मासिक मिलन की अवधारणा के संबंध में जानकारी दी। इसके बाद भारतीय जैन मिलन के मुख्य राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष विजय जैन ने महावीर स्वामी के सिद्धांतों की वर्तमान युग में प्रासंगिकता और जैन एकता पर अपने विचार व्यक्त किए।

इस अवसर पर कार्यक्रम में जैन समाज अध्यक्ष संजीव जैन, श्वेतांबर जैन समाज अध्यक्ष और विभिन्न जैन मंदिरों के अध्यक्ष/संयोजकगण को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में ड्रा के माध्यम से उपहारों के वितरण ने आयोजन को रोचक बनाए रखा। सबसे अंत में 32 इंची एलसीडी टेलीविजन का ड्रा राखी जैन के नाम निकला। आभार अक्षय जैन ने माना।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..