• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Guna News
  • सस्ते घरों के लोन में डिफॉल्ट का बढ़ रहा जोखिम : रिपोर्ट
--Advertisement--

सस्ते घरों के लोन में डिफॉल्ट का बढ़ रहा जोखिम : रिपोर्ट

सस्ते घरों के लोन में डिफॉल्ट का बढ़ रहा जोखिम : रिपोर्ट 25 लाख रु. से कम के होम लोन में किस्त अदायगी में चूक करने...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
सस्ते घरों के लोन में डिफॉल्ट का बढ़ रहा जोखिम : रिपोर्ट

25 लाख रु. से कम के होम लोन में किस्त अदायगी में चूक करने वाले 2.33% तक हैं

मुंबई | सरकार सस्ते घरों के निर्माण पर जोर दे रही है, लेकिन इस सेगमेंट में बैंकों का जोखिम बढ़ रहा है। इसकी वजह कर्ज की अदायगी में चूक (डिफॉल्ट) का रुझान अधिक होना है। घरेलू रेटिंग एजेंसी क्रिफ हाईमार्क की रिपोर्ट के मुताबिक नवंबर 2017 में होम लोन लेने वालों में से 1.96% ने 90 दिन तक किस्त अदा नहीं किया है। इस अवधि में किस्त (ईएमआई) न चुकाने को डिफॉल्ट माना जाता है। सस्ते मकानों की श्रेणी में आने वाले 25 लाख रुपए से कम कीमत वाले मकानों के मामले में ऐसे लोगों की संख्या 2.33% तक है। जबकि 10 लाख रुपए से कम कीमत वाले मकानों की श्रेणी में इनकी संख्या 4% तक है। यह पूरे उद्योग के औसत से दो गुना से भी अधिक है।

रिपोर्ट के मुताबिक देश में बांटे गए 15.78 लाख करोड़ रुपए के होम लोन में 7.79 लाख करोड़ रुपए के साथ करीब 50% हिस्सा अफोर्डेबल हाउसिंग का है। इस वित्त वर्ष में बैंकिंग सिस्टम में अब तक होम लोन का बकाया बढ़कर 13.6% तक पहुंच गया है। 10 लाख से कम कीमत वाले मकानों की श्रेणी के कर्ज में सबसे अधिक विदेशी बैंक प्रभावित हुए हैं। इनका फंसे कर्ज का आंकड़ा बढ़कर 16.20% तक पहुंच गया है।