• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Guna News
  • दुनिया में ढूंढने पर भी कहीं भी नहीं मिलेगी कृष्ण- सुदामा जैसी मित्रता
--Advertisement--

दुनिया में ढूंढने पर भी कहीं भी नहीं मिलेगी कृष्ण- सुदामा जैसी मित्रता

मानस भवन में चल रही भागवत कथा में प्रसंग सुनाते हुए बालयोगी स्वामी केशवानंद जी महाराज ने कहा भास्कर संवाददाता|...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:00 AM IST
मानस भवन में चल रही भागवत कथा में प्रसंग सुनाते हुए बालयोगी स्वामी केशवानंद जी महाराज ने कहा

भास्कर संवाददाता| गुना

दुनिया में ढूंढ़ने पर भी कहीं भी कृष्ण और सुदामा जैसी मित्रता नहीं मिलेगी, उनकी मित्रता निस्वार्थ थीं और आज के समय में लोग बिना मतलब और स्वार्थ के मित्रता तो दूर किसी से बात तक करना पसंद नहीं करते हैं।

यह बात हरिद्वार के कथा वाचक बालयोगी स्वामी केशवानंद महाराज ने कही। वह शहर के मानस भवन में चल रही संगीतमय श्रीमद् भावगत कथा के सातवें दिन शनिवार को कृष्ण- सुदामा के चरित्र का प्रसंग सुनाते हुए बोल थे। उन्होंने कहा कि सुदामा के प्रभु श्रीकृष्ण से दो नाते थे। एक मित्रता और दूसरा भक्त और भगवान का। अपने बुरे वक्त में भी जब सुदामा अपने मित्र एवं प्रभु श्रीकृष्ण के पास मदद मांगने नहीं जा रहे थे, तब उनकी प|ी के जिद करने पर वह द्वारिका गए थे। जहां वह महल के बाहर पहुंचे और द्वारपालों से कहा कि जाओ अपने प्रभु श्रीकृष्ण के पास जाकर संदेश दो कि उनका बाल सखा सुदामा आया है। इस पर पहले तक द्वारपालों ने उनका मजाक उड़ाया फिर संदेशा सुनाने पहुंच गए। सुदामा के आने का संदेश सुनकर प्रभु श्रीकृष्ण महल से नंगे पैर दौड़कर अपने बालसखा सुदामा को लेने आए। जहां से रथ में बिठाकर उन्हें अपने साथ आदर सहित महल के अंदर लेकर गए। रोजाना दोपहर 2 से शाम 5:30 बजे तक चल रही कथा को सुनने बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। शनिवार को आखिर दिन पूर्णाहुति के बाद प्रसादी वितरित की गई। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए।

मानस भवन में चल रही कथा में प्रसंग सुनाते हुए वक्ता और मौजूद श्रद्धालु।

X

Recommended

Click to listen..