Hindi News »Madhya Pradesh »Guna» हादसे में घायल बुजुर्ग को लेने एंबुलेंस डेढ़ घंटे तक नहीं पहुंची, मौत के बाद बिना जांच के शव पीएम रूम में रखा

हादसे में घायल बुजुर्ग को लेने एंबुलेंस डेढ़ घंटे तक नहीं पहुंची, मौत के बाद बिना जांच के शव पीएम रूम में रखा

जुगाड़ की गाड़ी, इस पर न कोई नंबर था और न ही रजिस्ट्रेशन, खेजरा जाते समय यह पलटी, इसमें बैठे 55 वर्षीय इसके नीचे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:05 AM IST

जुगाड़ की गाड़ी, इस पर न कोई नंबर था और न ही रजिस्ट्रेशन, खेजरा जाते समय यह पलटी, इसमें बैठे 55 वर्षीय इसके नीचे बुजुर्ग दब गया। वह तड़पता रहा, लेकिन मदद नहीं मिली। डेढ़ घंटे बाद भी एंबुलेंस 108 नहीं आई तो उसकी मौत हो गई। शव को ऑटो से लेकर आए और बिना डॉक्टर को जांच कराए ही पीएम रूप में रख दिया।

कैंट थाना क्षेत्र के खेजरा रोड पर जुगाड़ की गाड़ी (जिस पर गन्ने का रस निकाल कर बेचा जाता है) पलट गई। इसी गाड़ी में खेजरा निवासी 55 वर्षीय प्यारेलाल कुशवाह भी बैठकर गांव जा रहे थे। वे गाड़ी के नीचे दब गए। इन्हें स्थानीय लोगों ने निकाला। एंबुलेंस 108 को कॉल किया, लेकिन कोई मदद के लिए नहीं आया। इसी बीच बुजुर्ग की मौत हो गई। शव को ऑटो से अस्पताल लेकर आए। इसके बाद उसे लोगों ने पीएम रूप में डॉक्टर को जांच कराए बिना रखवा दिया। जैसे ही डॉक्टर को यह पता चला तो उसने पीएम रूम में ही जांच की तो वह मर चुका था। पुलिस ने उस ड्राइवर को भी पकड़ा, जो जुगाड़ की गाड़ी चला रहा था।

निगेटिव न्यूज

जुगाड़ की गाड़ी खेजरा जाते समय पलटने से बुजुर्ग इसके नीचे दब गया था

गुना से गन्ने के जूस की जुगाड़ गाडी के नीचे दबने से वृद्ध की मौत हो गई।

निगरानी करने वालों से सवाल किए तो काट दिया फोन

जिला स्तर पर एजेंसी पर कोई निगरानी की व्यवस्था नहीं है। इस वजह से उपसंचालक स्वास्थ्य भोपाल डॉ. दुर्गेश गौर (इन्हीं की निगरानी में एंबुलेंस 108 और जननी संचालित हैं) से भास्कर संवाददाता ने सुविधा न मिलने की बात कही तो बोले मुझे किसी ने नहीं बताया? उनसे पूछा कि हर साल गुना में एजेंसी को सुविधा के नाम पर कितना करोड़ का भुगतान होता है तो यह सुनते ही मोबाइल काट दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Guna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×