--Advertisement--

सम्मान समारोह में भीड़ जुटाने घर-घर करेंगे संपर्क

आगामी 26 अप्रैल को वनवासी आदिवासी सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। वनवासी, गौड़ आदिवासी समाज द्वारा यह सम्मेलन व स्नेह...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:50 AM IST
आगामी 26 अप्रैल को वनवासी आदिवासी सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। वनवासी, गौड़ आदिवासी समाज द्वारा यह सम्मेलन व स्नेह मिलन और सम्मान समारोह उन्हें अनुसूचित जनजाति वर्ग में शामिल किए जाने के बाद किया जा रहा है।

इसकी तैयारियों के लिए रविवार को क्षेत्र के कर्राखेड़ा, कुम्हारी, टोली, नर्मदा, चिकारी, विशनवाड़ा, पाटन, आटाखेड़ी, बमोरी, अमरोद में बैठकें आयोजित की गई। वनवारी नेता एवं भारतीय मजदूर संघ के विभाग प्रमुख धर्म स्वरूप भार्गव की मौजूदगी में हुई इन बैठकों में तय किया गया कि सम्मान समारोह को और अधिक भव्य बनाने के लिए गांवों में घर- घर संपर्क किया जाएगा।

पिछड़ा वर्ग से अजजा में शामिल करने पर हो रहा कार्यक्रम: दरअसल जिले के करीब 25 हजार गौड़ आदिवासियों के बच्चों के जाति प्रमाण- पत्र प्रशासनिक त्रुटि से पिछड़ा वर्ग के बन गए थे।

गौड़ आदिवासियों की इस समस्या को लेकर वनवारी नेता एवं भारतीय मजदूर संघ के विभाग प्रमुख धर्म स्वरूप भार्गव के साथ भोपाल जाकर एक प्रतिनिधि मंडल मुख्यमंत्री से मिला था। इसके बाद बीते नवंबर 2017 में गुना में सामान्य प्रशासन विभाग के अवर सचिव ने गुना आकर गौड़ आदिवासियों के दस्तावेजों की जांच की बयान दर्ज किए थे। इसके बाद मप्र सरकार ने जिले में रहने वाले गौड़ आदिवासियों को अनुसूचित जनजाति वर्ग में शामिल कर लिया है। इसी के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए वनवासी, गौड़ आदिवासी समाज द्वारा यह सम्मान समारोह आयोजित किया जा रहा है।

26 अप्रैल को बमोरी में होने वाले वनवासी आदिवासी सम्मान समारोह की तैयारियों के लिए एक दिन में 10 गांवों में बैठक

वनवासी सम्मेलन व सम्मान समारोह की तैयारियों के लिए हुई बैठक में मौजूद लोग।

मुख्यमंत्री होंगे शामिल

भारतीय मजदूर संघ के विभाग प्रमुख श्री भार्गव ने बताया कि कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल होंगे, जिसके बाद उन्होंने आने पर सहमति दे दी है। वनवासी, गौड़, आदिवासियों द्वारा सम्मेलन की तैयारियां आरंभ कर दी गई है। बैठकों में बड़ी संख्या में लोग शामिल थे।