• Hindi News
  • Mp
  • Guna
  • Guna News mp news case not filed after 1 month of collector39s order on embezzlement of millions from fake accounts

फर्जी खातों से लाखों का गबन करने वालों पर कलेक्टर के आदेश के 1 माह बाद केस दर्ज नहीं

Guna News - ग्राम पंचायत रैंझाई में फर्जी खाते खोलकर लाखों का गबन करने के मामले में मनरेगा लोकपाल ने 2016 में पंचायत सचिव व डाक...

Nov 11, 2019, 08:01 AM IST
ग्राम पंचायत रैंझाई में फर्जी खाते खोलकर लाखों का गबन करने के मामले में मनरेगा लोकपाल ने 2016 में पंचायत सचिव व डाक विभाग के डाकपाल को दोषी माना था। दोनों के खिलाफ मामला दर्ज करने की अनुसंशा की गई थी। पर इस मामले को दबा दिया गया। भास्कर ने 10 अक्टूबर को इसका खुलासा किया। तब कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार कार्रवाई का भरोसा दिया था।

उसी दिन मनरेगा प्रभारी अधिकारी अशोक गुप्ता ने पंचायत सचिव दिनेश रघुवंशी और धमनार के ग्रामीण डाकपाल महेंद्र सिंह रघुवंशी के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए कैंट थाने को पत्र लिखा। इसे भी पूरा एक माह गुजर गया है और अब तक आरोपियों पर मामला दर्ज नहीं हुआ। इस बीच मामले की फरियादी व वर्तमान सरपंच रघुराज सिंह रघुवंशी द्वारा दो बार जनसुनवाई में आवेदन भी दिया है।

2016 से अब तक इस तरह बचे रहे आरोपी

दूसरी बार हुए एफआईआर के आदेश : लोकपाल ने आरोपियों के खिलाफ अप्रैल 2016 में आदेश पारित किया था। इस पर तत्कालीन जिपं सीईओ ने जनपद सीईओ आरके गोस्वामी से अभिमत मांगा। सितंबर 2016 को सीईओ गोस्वामी ने एफआईआर के आदेश दिए। पर तब भी उस पर कार्रवाई नहीं हुई।

लोकपाल का आदेश ही पलट दिया : उलटे मार्च 2017 में तत्कालीन जिपं सीईओ ने राघौगढ़ सीईओ हेमलता शर्मा को पंचायत सचिव के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दे दिए। मजे की बात यह रही कि इस जांच में आरोपी पंचायत सचिव को क्लीनचिट दे दी गई। यानि रिटायर जिला जज रैंक के लोकपाल द्वारा दिए गए आदेश को एक विभागीय जांच के जरिए पलट दिया गया।

फरियादी लगातार आवेदन देते रहे : फरियादी इस मामले में लगातार आवेदन देते रहे। इसके बाद दो साल से दबे इस मामले को भास्कर ने उठाया तो एक बार फिर मनरेगा प्रभारी ने दोनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दे दिए। इसके बाद भी अब तक एफआईआर नहीं हुई।

अदालत में चार प्राइवेट इस्तगासा अलग से दाखिल

पंचायत सचिव के खिलाफ 4 प्राइवेट इस्तगासा जिला न्यायालय में पिछले सालों में दाखिल हो चुके हैं। प्रकरण दर्ज कराने वालों में बलराम जाटव, ओम प्रकाश, देवेंद्र सिंह, लाल सिंह आदि हैं। बताया जाता है कि इन लोगों के नाम पर फर्जी मस्टर रोल बनाकर पैसा निकाला गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना