सर्पदंश से हुई मौत, आर्थिक सहायता पिता की जगह गांव के लोगों ने ली थी , अदालत ने सुनाई 3-3 साल की सजा

Guna News - सर्प दंश से हुई मौत के मामले में मिलने वाली आर्थिक सहायता को धोखे से आहरण करने के आरोप में अदालत ने खातादार और...

Dec 04, 2019, 08:27 AM IST
Guna News - mp news death due to snake bite financial assistance was taken by the villagers in place of father court sentenced to 3 3 years
सर्प दंश से हुई मौत के मामले में मिलने वाली आर्थिक सहायता को धोखे से आहरण करने के आरोप में अदालत ने खातादार और गवाहों को 3-3 साल के कारावास की सजा एवं अर्थदंड से दंडित किया। आरोपियों ने वर्ष 2010 में गांव एक व्यक्ति की सांप के काटने से हुई मौत के बाद उसके परिवार को मिलने वाली आर्थिक मदद हड़पने के लिए साजिश की थी। खुद के नाम से खाता खोला और मृतक के पिता को जब राशि नहीं मिली तो उसने शिकायत की थी।

जांच में पाया कि गांव के ही कुछ लोगों ने धोखे से पैसा अपने खाते में मंगवा लिया है। अपर लोक अभियोजक शरीफ खान ने बताया कि षष्टम अपर सत्र न्यायाधीश आशीष श्रीवास्तव ने आरोपियों पर दोष सिद्ध होने पर यह सजा सुनाई। दरअसल राघौगढ़ थाना क्षेत्र के रामनगर निवासी भूरा मोगिया की वर्ष 2010 में सांप के काटने से मौत हो गई थी। आरबीसी गाइड लाइन के मुताबिक इस तरह की मौत होने पर परिवार के सदस्य को 50 हजार रुपए की सहायता का प्रावधान था। इसके मुताबिक मृतक के पिता बाबूलाल मोगिया ने जनपद में आवेदन पेश किया। इस दौरान पता चला कि यह राशि तो आपको मिल चुकी है। पंचायत से मिली जानकारी से साफ हुआ कि राशि मृतक के पिता के बैंक खाते में पहुंची है। जबकि उसने जब जांच की तो ऐसा नहीं पाया गया। इस मामले को पुलिस को सौंपा गया। पुलिस जांच में पता चला कि भंवरलाल ने मृतक के पिता के नाम से खाता खुलवाया और इसमें खुद का फोटो चस्पा कर दिया। पूर्व खातेदार मोहर सिंह ने पहचान की। इसी आधार पर खाता खोला गया। आरोपी को राशि वितरण के समय भी वह दो गवाह के रूप में कैलाशनारायण शर्मा और मिश्रा लाल को लेकर पहुंचा। दोनों ने राशि निकालने में आरोपी की मृतक के पिता के रूप में पहचान की थी।

फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की रिपोर्ट से हुई धोखाधड़ी की पुष्टि

अपर लोक अभियोजक शफीक खान ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सबूत अदालत में पेश किए गए। इस दौरान फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की रिपोर्ट पेश की गई। इसमें आरोपी भंवरलाल एवं मृतक पिता बाबूलाल के अंगूठे के निशान की जांच की गई तो भिन्नता की रिपोर्ट आई। वहीं आरोपी का बैंक खाते में लगा फोटो ने भी इनकी पूरी करतूत उजागर कर दी। अदालत ने खातेदार, गवाह एवं राशि आहरण के समय पहचान देने वालों को भी सजा सुनाई।

X
Guna News - mp news death due to snake bite financial assistance was taken by the villagers in place of father court sentenced to 3 3 years
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना