रामलीला भारतीय संस्कृति को सहेजकर रखने का माध्यम : गुलाबसिंह केवट

Guna News - कुंभराज| कस्बे में चल रही रामलीला के दूसरे दिन रामजन्म व तड़का वध की लीला का रामलीला के कलाकारों ने मंचन किया। जिसे...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:20 AM IST
Kumbraj News - mp news ramlila means to preserve indian culture gulab singh kewat
कुंभराज| कस्बे में चल रही रामलीला के दूसरे दिन रामजन्म व तड़का वध की लीला का रामलीला के कलाकारों ने मंचन किया। जिसे देखकर दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए। रामलीला मंडल अध्यक्ष गुलाब सिंह केवट ने बताया की यह रामलीला श्री रामचरितमानस पर आधारित है। रामलीला भारतीय संस्कृति को सहेजकर रखने का माध्यम है।

इस रामलीला मंच से बेटी बचाओ, पेड़ लगाओ, पॉलिथीन मुक्त समाज, यातायात नियमों का पालन करना, पर्यावरण व स्वच्छ भारत का संदेश दिया जा रहा है। श्री हनुमान रामलीला मंडल कमेटी के द्वारा आकर्षक रामलीला का मंचन किया जारहा है। रामलीला रात 8 से 1 बजे तक चलती है। रामलीला में गुरुवार की रात राजा दशरथ द्वारा किए गए पुत्रेष्टि यज्ञ से उनकी तीनों रानियों कौशल्या, कैकेई और सुमित्रा को पुत्र र|ों की प्राप्ति होती है। भगवान विष्णु ने अयोध्या में चक्रवर्ती राजा दशरथ के घर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के रुप में जन्म लिया। रामलला के जन्म की खबर पर पूरे अयोध्या में खुशी की लहर दौड़ जाती है। साथ ही उनके भाई लक्ष्मण, भरत, शत्रुधन ने जन्म लिया। इस पूरे प्रसंग का कलाकारों ने मंचन किया। रामजन्म पर अयोध्या में खुशियां मनाई गई, बधाई गीत गाए गए। रामजन्म के बाद रामलीला में आगे कलाकारों ने विश्वामित्र और राजा दशरथ के संवाद का मंचन किया। इसमें विश्वामित्र ने राजा दशरथ से राक्षसों का विनाश करने के लिए राम को मांगा। राजा दशरथ ने विश्वामित्र से कहा राम अभी छोटे हैं। राक्षसों का कैसे सामना करेंगे। फिर राजा दशरथ ने यज्ञ की रक्षा के लिए राम और लक्ष्मण को उनके साथ भेज दें। यहां ताड़का, मारीच सुबाहु वध, गंगा अवतरण सहित कई राक्षसों का वध किया।

इस मौके पर मंडल संरक्षक ब्रजमोहन खंडेलवाल, केएन राजौरिया, नंदकिशोर खेडा़पति, कृष्णबिहारी शर्मा, श्यामसुंदर बिहाणी, डॉ.गोविंद नारायण शर्मा, भारत सिंह गुर्जर, मंडल कार्यकारिणी अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल, कोषाध्यक्ष राधेश्याम मीना, महामंत्री देवेंद्र कुमार गुप्ता, सचिव महेंद्रकुमार नामदेव, पात्र प्रमुख दिलीपसिंह राजपूत, उपाध्यक्ष गोपाल सेन आदि लोग मौजूद रहे।

X
Kumbraj News - mp news ramlila means to preserve indian culture gulab singh kewat
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना