• Hindi News
  • Mp
  • Guna
  • Guna News mp news rumors of stealing children parents do not send children to school check bhaskar video

बच्चे चुराने की अफवाह; पालक नहीं भेज रहे बच्चों को स्कूल, भास्कर पड़ताल-वीडियो फेक हैैं

Jul 14, 2019, 07:25 AM IST

1 साल पहले महाराष्ट्र में ऐसी ही अफवाह की वजह से बच्चे चुराने के शक में 10 लोगों को जनता ने पीट-पीट कर मार दिया था

भास्कर संवाददाता: गुना/जामनेर

बच्चे चुराने वाली एक गैंग की अफवाह अब गुना में पहुंच गई है। सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो और पोस्ट वायरल हो रही हैं, इसमें कहा जा रहा है कि एक गैंग बच्चों को चुराने के बाद उनका शरीर के अंगों को निकाल लेती है। सोशल मीडिया पर जारी हो रहीं इन पोस्टों ने लोगों में दहशत है। हालात ये हैं कि गांवों में डर का माहौल हैं। जामनेर और कुंभराज के आसपास गांवों में अफवाह तेजी से चल रही है। हालांकि जो वीडियो पोस्ट की गई है, वह कहां कि है इसका कोई ज्रिक नहीं है। वहीं एक पोस्ट तो कुंभराज के नाम से ही डाली गई हैं, इसमें लिखा है कि 3 बच्चे गायब हैं, जामनेर से एक बच्चें की आंख निकाल ली गई हैं और वह बीनागंज का है! इन पोस्टों ने लोगों को परेशान कर डाला। उन्होंने बच्चों को घर से निकालना तक बंद कर दिया है। दैनिक भास्कर तक जब यह पोस्ट पहुंची तो इसकी सच्चाई जानने के लिए हमने कई जगह बात की, इसके बाद साफ हुआ कि ऐसा कुछ नहीं है। यह मात्र एक अफवाह है, जो सोशल मीडिया पर शरारती तत्वों द्वारा डालकर दहशत फैलाई जा रही है।

सोशल मीडिया पर चल रहा ये....जामनेर में एक बच्चे की आंख निकाली, कुंभराज से तीन बच्चे गायब पर ऐसा कुछ भी नहीं है

इन गांवों में दहशत का माहौल

जामनेर के आसपास पिपलिया, दीतलवाड़ा, जंगली क्षेत्र में स्थित गांव माघौपुरा, बेरखेड़ी आदि जगह पर बच्चा चुराने वाली गैंग के सक्रिय होने की अफवाह है। चांचौड़ा के नवलपुरा निवासी रवि राव का कहना है कि गांव में ऐसी सूचनाएं फैली हुईं है कि बच्चे चुराने वाले घूम रहे हैं। इसलिए रवि ने तो कहा कि मैने बच्चों को अभी स्कूल भेजना बंद कर दिया है। पूरी निगरानी रखी जा रही है। वहीं जामनेर क्षेत्र के डोबा गांव निवासी रामविलय का कहना है कि लोग कहते हैं कि एक जीप में कुछ लोग आते हैं और बच्चों को उठाकर ले जाते हैं। इसके बाद अंदरुनी अंगों को निकाल लेते हैं।

भास्कर सच तक पहुंचा तो सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट गलत निकली

दैनिक भास्कर ने जब बच्चा चुराने वाले गिरोह को लेकर पोस्टों की जानकारी ली तो सच सामने आया। सोशल मीडिया पर ग्रुप पर चल रहा था कि जामनेर में एक बच्चे की आंख निकली वह मलियाखेड़ी के रास्ते में मिला, वह बीनागंज का है। जब इस पोस्ट की सच्चाई पता कि तो एसा कुछ नहीं हुआ है। सब झूठी बात निकली। इसी तरह कुंभराज से 3 बच्चे गायब होना बताया जा रहा है, जबकि कोई बच्चा गुम नहीं है।

सोशल मीडिया पर जागरूकता फैलाने डाले गए वीडियो में छेड़छाड़ कर गिरोह से जोड़ दिया

जुलाई 2018 में भी महाराष्ट्र में बच्चे चुराने की अफवाह उड़ी थी, इस वजह से 14 घटनाएं हुई थीं। लोगों ने बच्चे चुराने के शक में आम लोगों पर हमला किया था, इसमें से 10 लोगों की अलग-अलग क्षेत्र में पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। लेकिन बाद में यह साफ हुआ था जिन लोगों को मारा गया है, वह बच्चे चुराने वाले नहीं थे, बल्कि आसपास के जिले के थे, लोगों ने इसी अफवाह में उनकी जान ले ली थी। द वायर ने इस संबंध में खुलासा किया था कि एक सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के कराची से गैर सरकारी संगठन ने वर्ष 2016 में बच्चों की सुरक्षा को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए एक वीडियो सूट किया था, लेकिन शरारती तत्वों ने इसमें छेड़छाड़ कर गिरोह से जोड़ दिया और पूरा माहौल खराब किया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना