पलायन का आइना : उप्र से गुजरात जाने वाले कामगारों के लिए यह सबसे लोकप्रिय ट्रेन, पहले इस ट्रेन के टॉयलेट तक यात्रियों से भरे रहते थे, अब उनमें सोते हुए जा रहे हैं लोग / पलायन का आइना : उप्र से गुजरात जाने वाले कामगारों के लिए यह सबसे लोकप्रिय ट्रेन, पहले इस ट्रेन के टॉयलेट तक यात्रियों से भरे रहते थे, अब उनमें सोते हुए जा रहे हैं लोग

Bhaskar News

Oct 12, 2018, 11:39 AM IST

साबरमती एक्सप्रेस में पैर रखने के लिए भी जगह नहीं और जाने वाली की जनरल बोगियां 1 महीने पहले ठसाठस भरी रहती थीं

Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat

गुना (एमपी)। गुजरात से उप्र के कामगारों का पलायन इन दिनों सुर्खियों में है। यह स्थिति वास्तव में कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा साबरमती एक्सप्रेस से लगाया जा सकता है, जो गुजरात जाने व वहां से आने वाले कामगारों की सबसे प्रमुख सवारी गाड़ी है। गुरुवार को भास्कर ने आने-जाने वाली दोनों ट्रेनों का जायजा लिया। गुजरात से आने वाली ट्रेन में पैर रखने की भी जगह नहीं थी। जबकि वहां जाने वाली ट्रेन की जनरल बोगियों में भी यह हालत थी कि सीटें खाली थीं और लोग उन पर सोते हुए जा रहे थे। जबकि किसी भी सीजन में गुजरात की ओर जाने वाली साबरमती की जनरल बोगी में पैर रखने की जगह नहीं मिलती है।


उप्र से गुजरात जाने वाले कामगारों के लिए यह सबसे लोकप्रिय ट्रेन, पहले गुजरात की ओर जाने वाली ट्रेन के टॉयलेट तक यात्रियों से भरे रहते थे


ज्यादातर लोग अफवाहों से डरकर लौट रहे हैं, त्योहार सीजन के बाद लौटेंगे
ट्रेन से सफर कर रहे जिन लोगों से बातचीत हुई, उनमें से कोई सीधे तौर पर हिंसा का शिकार तो नहीं हुआ, लेकिन डर और असुरक्षा सभी को महसूस हो रही थी। सूरत में काम करने वाले बनारस जा रहे गया प्रसाद ने बताया कि त्योहार सीजन के बाद हम वापस लौटने के बारे सोचेंगे। अहमदाबाद के एक कारखाने में काम कर रहे शंभू सिंह यादव ने बताया कि हमें कहा गया था कि जब स्थिति सामान्य हो जाए तब लौट आना।


लौटने के अलावा विकल्प नहीं
ऐसे ही कई अन्य कामगारों ने कहा कि हमारे पास लौटने के अलावा कोई विकल्प भी नहीं है, क्योंकि उप्र में रोजगार के अवसर सीमित हैं।


इन दिनों में यह स्थिति नहीं रहती
गुजरात से आ रही ट्रेन के टीसी प्रदीप यादव ने बताया कि त्योहार सीजन में उप्र के लोगों का प्रवास बढ़ता है, लेकिन यह स्थिति दीपावली से एक हफ्ते पहले बनती है। इन दिनों इतना प्रवास नहीं होता। उन्होंने कहा कि गुजरात की ओर जाने वाली ट्रेनों में सवारियों की स्थिति यह होती है कि वेंडर और रेलवे का स्टाफ बोगियों में जाता ही नहीं है। क्योंकि उनमें आगे बढ़ने के लिए जगह ही नहीं बचती है।

Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
X
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
Story of Sabarmati Express train UP to Gujarat
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543