Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Daughter Death Due To Road Accident

पिता के कंधे पर ढाई साल की बेटी ने तोड़ा दम, मां चेहरा भी नहीं देख पाई

बिना इलाज दो अस्पतालों ने लौटाया, तो हो गई मौत

Bhaskar News | Last Modified - Apr 01, 2018, 07:33 AM IST

  • पिता के कंधे पर ढाई साल की बेटी ने तोड़ा दम, मां चेहरा भी नहीं देख पाई
    +3और स्लाइड देखें
    बेटी अनुष्का की मौत से मां हुई बेहोश।

    ग्वालियर.शहर की शिव कॉलोनी में ढाई साल की बच्ची को स्कूल वैन ने टक्कर मार दी। घायल बच्ची को लेकर उसके पिता 1 घंटे तक अस्पतालों के चक्कर काटते रहे। लेकिन समय पर इलाज न मिलने के कारण बच्ची की मौत हो गई। उधर कमलाराजा अस्पताल के बाहर वैन ड्राइवर बच्ची व पिता को उतारकर निकल गया। हादसा शनिवार सुबह लगभग 8 बजे हुआ। बाद में पुलिस ने ड्राइवर को गिरफ्तार कर वैन को जब्त कर लिया। ये था मामला...

    - पिंटो पार्क की शिव कॉलोनी में रहने वाले रामखिलाड़ी राठौर की ढाई साल की बेटी अनुष्का सुबह 8 बजे घर के बाहर खेल रही थी।
    - गली से गुजरते वक्त द सिल्वर हिल्स स्कूल की वैन एमपी 07 बीए 4280 ने अनुष्का को टक्कर मार दी।
    - टक्कर इतनी तेज थी कि बच्ची उछलकर सड़क पर जा गिरी। उसके सिर में अंदरूनी चोट आई।
    - कॉलोनी के लोगों ने वैन को घेर लिया और वैन में ही बैठकर अनुष्का को लेकर उसके पिता रामखिलाड़ी व स्थानीय लोग अस्पताल के लिए रवाना हुए।
    - रामखिलाड़ी के अनुसार हम अनुष्का को पहले बिड़ला अस्पताल ले गए, यहां हमें दूसरे अस्पताल में ले जाने की सलाह दी गई। इसके बाद गांधी रोड स्थित निजी नर्सिंग होम में ले गए, लेकिन यहां भी हमसे

    वैन का ड्राइवर हुआ गायब

    - केआरएच के बाहर वैन का ड्राइवर हमें उतारकर गायब हो गया। मैं और अन्य परिजन अनुष्का को अंदर ले गए, यहां डॉक्टरों ने चेकअप के बाद अनुष्का की डेथ होने की जानकारी दी।

    28 फरवरी को बेटे के जन्म की खुशी मनाई थी, एक माह बाद ही हादसे में बेटी की मौत से परिवार टूटा, मां बेसुध

    - रामखिलाड़ी के घर में सुबह के हादसे से पहले खुशियां थीं। 28 फरवरी को उनकी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया था। हादसे के बाद पिता रामखिलाड़ी बेटी को बचाने की कोशिश में अस्पतालों के चक्कर लगा रहे थे और मां भगवान से बेटी के ठीक हो कर घर लौटने की दुआ कर रही थी लेकिन 9.15 बजे बेटी की मौत की खबर आ गई।
    - यह खबर सुनते ही मां रूबी बेसुध हो गई। पोस्टमार्टम के बाद जब पिता रामखिलाड़ी तथा अन्य परिजन बच्ची को लेकर घर आए तो रूबी की हालत को देखते हुए उसे बच्ची के शव के पास भी नहीं लाया गया।

    ड्राइवर बोला बच्ची अचानक सामने आ गई

    - हादसे के बाद पुलिस ने ड्राइवर मोनू शर्मा को हिरासत में ले लिया था। माेनू का कहना था कि बच्ची अचानक सामने आ गई इसलिए यह हादसा हो गया।
    - हादसे के समय स्थानीय लोगों ने स्कूल वैन के फोटो खींचे थे, तब वैन पर द सिल्वर हिल्स स्कूल का स्टीकर पीछे की तरफ लगा हुआ था। बच्ची को केआरएच के बाहर छोड़कर ड्राइवर वैन लेकर भाग गया।
    - इसके बाद पुलिस ने जब वैन जब्त की तो इससे स्टीकर गायब था। गाइडलाइन के हिसाब से स्कूल वैन पीले रंग की होना थी लेकिन यह सफेद रंग की थी।
    - इससे यह भी साफ है कि वैन अवैध है और स्कूली बच्चों के परिवहन के लिए उसके पास वैधानिक दस्तावेज भी नहीं थे।

  • पिता के कंधे पर ढाई साल की बेटी ने तोड़ा दम, मां चेहरा भी नहीं देख पाई
    +3और स्लाइड देखें
    बेटी के शव को देखकर दुखी होता पिता।(पीली टी-शर्ट)
  • पिता के कंधे पर ढाई साल की बेटी ने तोड़ा दम, मां चेहरा भी नहीं देख पाई
    +3और स्लाइड देखें
    मृतक अनुष्का
  • पिता के कंधे पर ढाई साल की बेटी ने तोड़ा दम, मां चेहरा भी नहीं देख पाई
    +3और स्लाइड देखें
    गली में स्पीड ब्रेकर बनाए फिर भी नहीं टला हादसा।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×