--Advertisement--

ग्वालियर अब प्रदेश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर, बिगड़ा एयर क्वालिटी इंडेक्स

प्रदूषण बढ़ने पर हाईकोर्ट ने भी प्रदेश सरकार से रिपोर्ट मांगी है। इससे लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 06:35 AM IST

ग्वालियर. प्रदेश में ग्वालियर तीसरा सबसे प्रदूषित शहर है। पहला मंडीदीप व दूसरा जबलपुर है। यह खुलासा मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट से हुआ है। 11 जनवरी 2017 की तुलना में इस साल 22 जनवरी को शहर की एयर क्वालिटी इंडेक्स बढ़ गया है। इंडेक्स वैल्यू 165.3 रिकॉर्ड हुई है जो कि मॉडरेट (मध्यम श्रेणी) में है। यानी शहर का प्रदूषण फिर से बढ़ना शुरू हो गया है। एयर क्वालिटी इंडेक्स (एमयूआई) बढ़ने का कारण वातावरण में पीएम 10 की मात्रा बढ़ना है, जो शहर में उड़ने वाली धूल व धुंआ फेंकने वाले ऑटो टेंपों के कारण बढ़ती हैै। प्रदूषण बढ़ने पर हाईकोर्ट ने भी प्रदेश सरकार से रिपोर्ट मांगी है। इससे लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

बदला मौसम
हरियाणा में साइक्लोनिक सर्कुलेशन से हुई बूंदाबांदी, बढ़ी ठंड

2.1 डिग्री लुढ़का पारा
हरियाणा के पास बने साइक्लोनिक सर्कुलेशन से मौसम में बदलाव आया है। शाम 4 बजे बूंदाबांदी से ठंडक बढ़ गई। अधिकतम तापमान 2.1 डिसे लुढ़ककर 25.4 डिग्री दर्ज किया गया। न्यूनतम 4.9 की बढ़त के साथ 9.5 डिग्री दर्ज किया।

प्रदूषण बढ़ने से लंग कैंसर हो सकता है
वायु प्रदूषण बढ़ने से आंख में जलन, छींकें आना, दमा, लंग कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। प्रदूषित क्षेत्र में मास्क लगाकर निकलें। डॉ. अजयपाल सिंह, एसोसिएट प्रोफेसर,जीआरएमसी

क्या है पीएम 10

यह हवा में फैल सूक्ष्म खतरनाक कण हैं। जो फेफड़ों में प्रवेश कर सकते हैं। प्रत्येक क्यूबिक मीटर में पीएम 10 का स्तर जानकर प्रदूषण मापा जाता है। नेशनल एंबियंट एयर क्वालिटी स्टैंडर्ड के तहत वातावरण में पीएम 10 की मात्रा 100 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर से अधिक नहीं होना चाहिए। जबकि पीएम 2.5 60 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर है।