ग्वालियर

--Advertisement--

तलवारबाजी के प्री-नेशनल कोचिंग कैम्प में लड़कियों के साथ पुरुष कोच की नियुक्त

बालिकाओं के साथ ऑफिशियली महिला के ही रहने के नियम के विपरीत आदेश जारी।

Danik Bhaskar

Jan 23, 2018, 09:43 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

ग्वालियर. लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआई) ने मप्र की बालिका (अंडर 19) तलवारबाजी टीम के साथ कोच बतौर पुरुष की नियुक्त कर अपने ही बनाए नियमों को ताक पर रख दिया है। विभाग द्वारा जारी आवश्यक निर्देश में 5 नंबर कॉलम में यह स्पष्ट लिखा है कि बालिकाओं के साथ ऑफिशियल्स के रूप में महिला ही रहेगी, जबकि यहां इसके विपरीत आदेश जारी कर दिया है। मप्र की टीम को नेशनल टूर्नामेंट से पहले ग्वालियर में 27 जनवरी से प्री-नेशनल कोचिंग कैम्प करना है।

इस गलती का असर टीम के पदकों पर पड़ सकता है

- तलवारबाजों की मानें तो विभाग की इस गलती का असर टीम के पदकों पर पड़ सकता है। क्योंकि महिला कोच न होने से वे अपनी हर बात उनसे शेयर नहीं कर सकतींं। अगर कोच नहीं है तो सीनियर खिलाड़ी को कोच के साथ रखने की व्यवस्था की जाए, जिससे हमारा खेल प्रभावित न हो।

- बताना मुनासिब होगा कि पांच दिवसीय कैम्प के बाद मप्र बालक-बालिका टीम 3 फरवरी से सोलापुर में होने वाली नेशनल फेंसिंग (तलवारबाजी) चैंपियनशिप में चुनौती पेश करेगी। टीम में 12 बालक व 12 बालिका तलवारबाज शामिल हैं।

ये हैं कोच और मैनेजर

प्रबंधक प्रदीप शर्मा की मौजूदगी में मप्र बालक टीम के साथ ग्वालियर के हरीश गुप्ता कोच और शरद भार्गव मैनेजर रहेंगे। बालिकाओं के कोच की जिम्मेदारी ग्वालियर के रवि रावत मिली है, जबकि जबलपुर की बंधना रजक को मैनेजर बनाया गया है।

महिला काेच की कमी खेलों पर डालती है असर

टीम के साथ महिला कोच का होना बेहद जरूरी होता है। हम लोग भी जब बड़ेटूर्नामेंट खेलने जाते हैं तो ऐसी व्यवस्था में पैरेंट्स को साथ ले जाते हैं या फिर किसी सीनियर खिलाड़ी की मदद ले लेते हैं। ऐसा नहीं होने से कहीं न कहीं हमारे परफॉर्मेंस पर असर पड़ता है। अचिंन्य कौर, एकलव्य अवार्डी और इंटरनेशनल फेंसिंग प्लेयर

मामले को दिखवाता हूं

फेंसिंग में पूरे प्रदेश में महिला कोच की कमी है। बावजूद इसके विभाग ने इन महिला कोच से संपर्क नहीं किया तो जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वैसे मैनेजर के रूप में महिला है तो फिर कोई दिक्कत नहीं आएगी। फिर भी मैं पूरे मामले को दिखवाता हूं। दीपक जोशी, मंत्री स्कूल शिक्षा विभाग

Click to listen..