Home | Madhya Pradesh | Gwalior | message to teach the daughters given in the village

स्कूल और आंगनबाड़ी देखने पहुंचीं राज्यपाल, गांव में दिया बेटियों को पढ़ाने का संदेश

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल सोमवार सुबह तय समय से आधा घंटे लेट ग्राम अडुपुरा के स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचीं।

Bhaskar News| Last Modified - Feb 13, 2018, 07:02 AM IST

1 of
message to teach the daughters given in the village

ग्वालियर.  तीन दिन के दौरे पर ग्वालियर आईं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल सोमवार सुबह तय समय से आधा घंटे लेट ग्राम अडुपुरा के स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचीं। तीन दिन से यहां साफ-सफाई व निर्माण चल रहे थे इसलिए कमियां नहीं मिलीं। राज्यपाल के पहुंचने से पहले परिसर में भीड़ जमा हो चुकी थी। इसमें आगे वाली पंक्ति में दो बच्चियां वर्षा व आरती बैठी थीं। इनसे राज्यपाल ने पूछा स्कूल जाती हो? दोनों ने मना कर दिया। कारण पूछा तो कहा, घर वाले नहीं भेजते।

 

- इसी बीच एक महिला जानकी ने कहा, स्कूल दूर है साहब। रास्ते में दूसरी जात के लोग लड़कियों को परेशान करते हैं। यही बात स्कूल के चबूतरे पर समूह बनाकर बैठे गांव के कुछ लोगों ने राज्यपाल के उनके पास पहुंचने पर कही।

- इन्होंने गांव में ही एक हाईस्कूल की मांग की। इस पर राज्यपाल ने कहा, बहाने मत बनाओ। मैं जब छोटी थी तब पिताजी 15 किलोमीटर दूर स्कूल छोड़ने जाते थे। आप भी बच्चियों को स्कूल छोड़ने जा सकते हो। इतने कम छात्रों के लिए हाईस्कूल खोलना संभव नहीं है।  अब तो सरकार बच्चियों को साइकिल देती है, तीन किलोमीटर पर रोरा का हाईस्कूल कोई दूर है क्या?

- बच्चियों को वहां भेजो। बेटों से अच्छी होती हैं बेटियां, इसलिए अगली बार मैं जून में आऊंगी, तब तक सारी बच्चियों को स्कूल में दाखिला करवा देना। इससे पहले उन्होंने आंगनबाड़ी व प्राइमरी-मिडिल स्कूलों की व्यवस्थाएं देखीं और छोटे बच्चों को चॉकलेट दी। राज्यपाल ने स्नेह शिविर का भी शुभारंभ किया। 

 

 

अब तो नसबंदी करा लो

आंगनबाड़ी केंद्र में छह साल तक उम्र के 135 बच्चे हैं। राज्यपाल केंद्र के अंदर पहुंची तो उन्हें 6 किलो वजन का कुपोषित बच्चा नीरज दिखाई दिया। यहांं अनीता व रानी से राज्यपाल ने कहा, नसबंदी करा लो। अनीता ने तो हां भर दी पर रानी ने कहा, एक बेटे का इंतजार है। राज्यपाल ने कार्यकर्ता सुनीता जाटव से पोषण आहार के बारे में भी पूछा।

 

 

सब एक हो जाओ, शराबियों को सबक सिखाओ

 सरपंच राजकुमारी सहित कुछ महिलाओं व ग्रामीणों ने राज्यपाल से कहा, शराब-जुए से गांव का माहौल खराब हो रहा है।  राज्यपाल बोलीं-सारी महिलाएं मिलकर एक हो जाओ। समिति बनाओ और शराब पीकर ऊधम मचाने वालों को सबक सिखाओ। उन्होंने कहा, बुराइयों के खिलाफ सभी को एक जुट होना होगा तभी कुछ हो पाएगा।

 

 

तैयारी के बावजूद ग्रामीणों ने खोली स्कूल की पोल

 

- खराब टीचिंग क्वालिटी की शिकायत: यहां 47 में से 37 बच्चे ही सोमवार को मौजूद थे। राज्यपाल ने प्रधान अध्यापक राघवेंद्र सेंगर से कुछ सवाल किए। स्कूल में मौजूद छात्राओं से राज्यपाल ने पूछा आगे पढ़ना चाहती हो, सभी ने हां कहा। ग्रामीणों ने स्कूल की टीचिंग क्वालिटी की शिकायत की। इस पर प्राचार्य ने कलेक्टर राहुल जैन से कहा, आप किताब-होमवर्क देख लें।

 

 

बच्चों में मिला खुजली-फंगल इन्फेक्शन
- यहां दर्ज छात्र संख्या 76 है पर 57 बच्चे ही पहुंचे। आगे खड़े छात्र अरविंद के कान की बनावट ठीक नहीं थी। राज्यपाल ने कहा, डॉक्टर से चेक कराओ।  करिश्मा के सिर में फंगल इन्फेक्शन व तमन्ना के हाथ में खुजली देख राज्यपाल बोलीं, इनका इलाज कराओ। छात्राओं की संख्या कम देख एपीसी जेंडर संगीता राजौरिया से राज्यपाल ने कहा, आप मेहनत करें।

 

 

अफसरों ने सरपंच से कहा- शिकायत मत करना:

- अडुपुरा में राज्यपाल के पहुंचने से पहले अफसरों ने सरपंच राजकुमारी या उनके पति गोपाल सिंह से कहा, आप किसी तरह की शिकायत मत करना। यदि गांव की कोई समस्याएं हैं तो वे हम लोग अपने स्तर से हल करवा देंगे। इसके बाद सरपंच चुप रहीं।

message to teach the daughters given in the village
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now