ग्वालियर

--Advertisement--

एमटेक स्टूडेंट ने 20रु में बनाया पावर बैंक, इसमें हो सकते हैं 2 एंडॉइड फोन चार्ज

अंकित शर्मा ने जुगाड़ से 20 रुपए में पावर बैंक तैयार किया है।

Danik Bhaskar

Dec 16, 2017, 04:21 AM IST
अंकित शर्मा ने जुगाड़ से 20 रुपए में पावर बैंक तैयार किया है। अंकित शर्मा ने जुगाड़ से 20 रुपए में पावर बैंक तैयार किया है।

ग्वालियर. मोबाइल का यूज अब हर व्यक्ति करता है। एंड्रॉइड मोबाइल चार्जिंग की प्रॉब्लम से परेशान है। कंपनियां मोबाइल पॉवर बैंक बनाकर महंगे बेच रही हैं। लेकिन मुरैना के रहने वाले अंकित शर्मा ने जुगाड़ से 20 रुपए में पावर बैंक तैयार किया है। इस गैजेट्स को चार्ज करने इलेक्ट्रिसिटी के कोई जरूरत नहीं है। ये पूरी तरह सोलर एनर्जी से चल रही है। जिले के दूर दराज गांव , जहां तक बिजली नहीं पहुंची वह ये गैजेट उपयोगी सिद्ध हो सकता है। ऐसे बनाया...

- जानकारी के मुताबिक अंकित शर्मा एमआई टीएस कॉलेज ग्वालियर में एमटेक फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट हैं।

- अंकित बताते हैं कि एक फ्रेंड के साथ वह ग्वालियर में रहते हैं। दोस्त ने अपना मोबाइल चार्ज करने 2100 रुपए का पॉवर बैंक ऑनलाइन ऑर्डर किया।

- अंकित ने अपने लिए इतने रुपए खर्च न करते हुए नया गैजेट बनाने की सोची। 12 दिन की दिमागी कसरत की और 20 रुपए में पॉवर बैंक तैयार कर लिया।

- ऊपर से यह सिर्फ सौर ऊर्जा से चार्ज होगा। इस गैजेट्स पर अंकित के कुल 20 रुपए ही खर्च हुए हैं। अंकित का कहना है कि यह गैजेट्स गांव वालो को उपलब्ध कराना चाहते हैं।

ऐसे बनाई पॉवर बैंक

- बाजार से 10 रुपए की 9 वॉल्ट की सोलर एनर्जी बैटरी खरीदी। एसी करंट को 5 वॉल्ट डीसी करंट में कनवर्ट करने 3 रुपए का एक ट्रांजिस्टर, सप्लाई के लिए 1 रुपए का रजिस्टेंस, 1 रुपए की एलईडी खरीदी। बैटरी कनेक्टर 2 रुपए, सर्किट सेट बनाने पीसीबी और चार्जिंग सॉकेट का उपयोग किया है। इस तरह कुल 20 रुपए में मोबाइल चार्ज करने पॉवर बैंक बना दिया।

दो एंड्राइड फोन कर सकते हैं चार्ज
- अंकित का तैयार यह गैजेट 30 मिनट धूप में रखने पर चार्ज हो जाता है। एक बार में दो एंड्राइड मोबाइल चार्ज किया जा सकते हैं।

- पॉवर बैंक के रूप में यह गैजेट तीन से साढ़े तीन घंटे में एंड्राइड मोबाइल चार्ज कर देता है। यह गैजेट बैटरी की एनर्जी के मुताबिक काम कर सकेगा।

- हालांकि अंकित का कहना है कि अब आगे यह गैजेट 15 रुपए में तैयार करना चाहते हैं। जिससे ग्रामीणों को आसानी से उपलब्ध हो सके। साथ ही सोलर एनर्जी बैटरी पर भी काम कर रहे हैं जो 6 महीने तक सर्विस दे सके।

स गैजेट्स को चार्ज करने इलेक्ट्रिसिटी के कोई जरूरत नहीं है। स गैजेट्स को चार्ज करने इलेक्ट्रिसिटी के कोई जरूरत नहीं है।
गैजेट पूरी तरह सोलर एनर्जी से चल रही है। गैजेट पूरी तरह सोलर एनर्जी से चल रही है।
मोबाइल चार्ज करता गैजेट। मोबाइल चार्ज करता गैजेट।
Click to listen..