--Advertisement--

डबल मर्डर के आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, 5 हजार के इनामी को छुड़ाया

हमले में एक कॉन्स्टेबल को अंदरूनी चोटें आईं हैं, लेकिन पुलिस सिर्फ एफआईआर दर्ज करने तक सीमित रही।

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 07:58 AM IST
आरोपी को जैसे ही पकड़ा, उसके पर आरोपी को जैसे ही पकड़ा, उसके पर

ग्वालियर. प्रदेशभर में बदमाशों पर नकेल कसने के लिए पुलिस अभियान चला रही है, लेकिन ग्वालियर में गुंडे बेखौफ हैं। शनिवार को डबल मर्डर के आरोपी 5 हजार रुपए के इनामी को बिजौली और मुरार थाना पुलिस पकड़ने पहुंची तो आरोपी के परिजन ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया और बदमाश को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ा ले गए। हमले में एक आरक्षक को अंदरूनी चोटें आईं हैं। लेकिन घटना के बाद पुलिस सिर्फ एफआईआर दर्ज करने तक सीमित रही। रात तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई।

पुलिसकर्मी को पटक कर पीटा और आराम से निकल गए
- बिजौली थाना क्षेत्र में दिसंबर 2014 में हुए डबल मर्डर में 14 आरोपी नामजद थे, जिसमें से 9 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं जबकि 5 आरोपी फरार हैं। फरार आरोपी अभिषेक उर्फ मोनू पंडा उम्र 25 साल, बंटी उर्फ अजय पंडा उम्र 36 साल, पवन पंडा उम्र 30 साल, घनश्याम पंडा उम्र 30 साल पर एसपी ने 5-5 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था।

- शनिवार को बिजौली थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षण रणवीर सिकरवार और आरक्षक बिजेंद्र सिंह सेंगर ग्वालियर आए थे। तभी इन्हें सूचना मिली कि इनमें से एक आरोपी माेनू पंडा बारादरी स्थित अपने घर के पास देखा गया है। सूचना मिलते ही यह लोग मुरार थाने पहुंचे।

- मुरार थाने से भी एक प्रधान आरक्षक और आरक्षक इनके साथ उसे पकड़ने के लिए रवाना हुआ। दोपहर करीब 2 बजे इन्होंने उसे पकड़ लिया। आरोपी को जैसे ही पकड़ा, उसके परिजन और पड़ोस में दुकान चलाने वाले करीब एक दर्जन लोगों ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया।

- आरक्षक बिजेंद्र को पटककर पीटा और आरोपी को छुड़ाकर ले गए। इन लोगों ने फोर्स बुलवाया लेकिन तब तक वहां से सभी लोग भाग चुके थे। इसके बाद थाने पहुंचकर मोनू पंडा, शैलेन्द्र पंडा सहित अन्य लोगों पर एफआईआर दर्ज की।