Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Poverty Forced The Execution, After Death

गरीबी ने फांसी लगाने को किया मजबूर, मौत के बाद सरकारी तंत्र ने बदली बॉडी

शहर में एक शख्स ने गरीबी से तंग आकर फांसी लगा ली। इस दौरान एक शर्मनाक वाक्या भी हुआ।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 18, 2018, 07:58 AM IST

गरीबी ने फांसी लगाने को किया मजबूर, मौत के बाद सरकारी तंत्र ने बदली बॉडी

भिंड (ग्वालियर). शहर में एक शख्स ने गरीबी से तंग आकर फांसी लगा ली। इस दौरान एक शर्मनाक वाक्या भी हुआ। जब शख्स की डेडबॉडी को लाया गया तो वो भी किसी और की निकली। इस सबके पीछे हॉस्पिटल प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई। दरअसल, पोस्टमार्टम के बाद डेडबॉडी को घर लाया गया। लेकिन मृतक की पत्नी ने जैसे ही बॉडी का चेहरा देखा तो चीख पड़ी। दरअसल, लापरवाही की वजह से दूसरी शख्स की बॉडी परिवार को सौंप दी गई थी। क्या है मामला...

- टिक्की का ठेला लगाने वाले विशंभर कुशवाह (35) हाल निवासी अटेर रोड ने मंगलवार को गरीबी से तंग आ फांसी लगा ली। सरकारी तंत्र की लापरवाही ने मौत के बाद भी उसका पीछा नहीं छोड़ा।

- पोस्टमार्टम के बाद बुधवार को जब उसका शव घर पहुंचा तो किसी और का निकला। लाश के चेहरे से कपड़ा हटाते ही पत्नी अनोखी चीख पड़ी। यह तो मेरे पति नहीं कोई और है। अनोखी के तीन मासूम बच्चे विक्रम (8), किशन (5) और पूनम (2) हैं। बाद में पुलिस शव लेकर दोबारा अस्पताल पहुंची और विशंभर का शव लेकर उसके परिजन को सौंपा। लापरवाही के लिए पुलिस और डॉक्टर एक-दूसरे को दोषी बता रहे हैं।

India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: garibi ne faansi lgaaane ko kiyaa mjbur, maut ke baad srkari tntr ne bdli bodi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×