--Advertisement--

यशोधरा राजे ने पानी से भरा चांदी कलश सिर पर रखा, 7 घंटे में पैदल चली 5 KM

यशोधरा राजे ने कहा- मैंने जनता से किया वादा पूरा किया, आगे का काम अब नगर पालिका को करना है ...

Danik Bhaskar | Dec 23, 2017, 07:02 AM IST
यशोधरा राजे यशोधरा राजे

शिवपुरी. 10 साल बाद मड़ीखेड़ा डेम से 29 किमी की दूरी तय कर शहर में पहुंचे सिंध के पानी का स्वागत करने पूरा शहर उमड़ पड़ा। शुक्रवार को दोपहर 1 बजे मंत्री यशोधरा राजे ने अपने चांदी के कलश में सिंध के पानी को भरा और यात्रा लेकर शहर में पैदल चल पड़ीं। उनके साथ भाजपा कार्यकर्ताओं का लाव लश्कर भी था।


ग्वालियर बायपास से सदर बाजार, न्यू ब्लॉक, कस्टम गेट, जल मंदिर रोड और बाद में माधौ चौक और पुराना बस स्टैंड होती हुई कलश यात्रा रात 8 बजे सिद्धेश्वर मंदिर पहुंची। यहां मंत्री ने सिंध के पानी से नगर के देवता सिद्धेश्वर का जलाभिषेक किया। इसके बाद यशोधरा ने कहा कि मैंने शहर की जनता से वादा किया था कि शहर में पानी लाकर रहूंगी। मैंने अपना वादा पूरा किया। इससे पहले शहर में राजे के नेतृत्व में निकली इस यात्रा का पूरे शहर में जगह- जगह भव्य स्वागत हुआ। मंत्री यशोधरा राजे को लोगों ने फूल मालाएं पहना कर उनका नागरिक अभिनंदन भी किया। इस दौरान मंत्री ने 7 घंटे में करीब 5 किमी से ज्यादा की शहर में पैदल यात्रा की।

9 साल में हम जैसे लोग बूढ़े हो गए : यशोधरा
सिद्धेश्वर में सिंध के पानी की यात्रा पहुंचने के बाद यशोधरा राजे ने कहा कि कोई इस योजना को नहीं लाया। केंद्र में योजना बनती ही है। जब 2007 में योजना बन रही थी तो लोगों ने श्रेय ले लिया। अब 2017 में इसे 9 साल हो गए। 9 साल में हम जैसे लोग बूढ़े हो गए। हमारे छोटे बच्चे 9 साल में बड़े हो जाते हैं। इसमें बहुत समय लग गया। हमारी शिवपुरी शिव की नगरी है। शिवपुरी में देर है अंधेर नहीं है।

मैंने देखा कि कैसे जनसमूह ने इस पानी का स्वागत किया। अब नगर पालिका देखे कि कैसे डिस्ट्रीब्यूशन लाइन को लगाना है। इसका मतलब ये नहीं है कि मैं बैठ जाऊंगी। आपकी सड़कें बन गई हैं। पानी की व्यवस्था हो गई है। अब मैं आपके अस्पताल को देखूंगी। यशोधरा ने यह भी कहा कि मैं कभी इस क्षेत्र में राजनीतिक रोटियां नहीं सेकती। मैं जब 2013-14 में यहां आई तो देखा कि कहीं पानी नहीं, कहीं स्वच्छता नहीं। विकास के नाम पर कुछ भी नहीं था।

कलश यात्रा के मायने- किसी और नेता के खाते में न चला श्रेय इसलिए सड़क पर आईं यशोधरा राजे सिंधिया


वर्ष 2015 में शहर के माधव चौक चौराहे पर एक मड़ीखेड़ा से सिंध का पानी शिवपुरी लाने के लिए एक जल क्रांति हुई थी। इसके बाद मंत्री यशोधरा ने शहर की जनता से वादा किया था कि इस मृत हो चुकी परियोजना को हर हाल में मैं जिंदा करूंगी और सिंध का पानी शिवपुरी आएगा। तब से लेकर अब तक लगातार मंत्री यशोधरा राजे ने इस परियोजना को लेकर भोपाल, दिल्ली, मड़ीखेड़ा और शिवपुरी में अफसरों के साथ एक के बाद एक बैठकें की। इसके अलावा कई दौरे भी किए। इसी साल 1 जनवरी से लेकर 22 दिसंबर तक मंत्री यशोधरा ने मड़ीखेड़ा डेम के ही करीब 75 से ज्यादा दौरे किए और जब पानी शहर में आ गया तो कई लोगों ने इस पानी को शहर में लाने का श्रेय लेने की कोशिश की। यही वजह है भाजपा के लोगों ने शहर से किए गए अपने वादे को पूरा करने पर आम जनता का सहयोग करने के लिए धन्यवाद ज्ञापित करने ये जलाभिषेक यात्रा निकाली। इस यात्रा से यह भी संदेश देने की कोशिश की गई है कि इसे उन्होंने ही पूरा किया है, किसी अन्य ने नहीं किया।

इन 11 सड़कों को खोदने की दोशियान ने मांगी है अनुमति, सुस्त नगर पालिका अब तक आगे नहीं बढ़ी
शहर में ग्वालियर बायपास तक पानी आ गया है। इसके बाद 30 दिसंबर तक दोशियान चार टंकियों को जोड़ देगी। लेकिन अब दोशियान कंपनी का कहना है,कि आगे का काम करने के लिए जिसमें 8 टंकियों को जोड़ा जाना है, इसका काम करने के लिए शहर में 11 सड़कों की खुदाई की जानी है। इन सड़कों को खोदे बिना आगे की पाइप लाइन नहीं बिछा पाएगी। इन टंकियों को नहीं जोड़ा जा सकेगा। ऐसे में दोशियान के लिए अब बड़ी मुसीबत ये है कि ग्वालियर बायपास तक पानी को पहुंचाने के बाद अब शहर में पानी को घर-घर कैसे पहुंचाएगी ये सबसे बड़ी चुनौती बनने वाली है।

ये करना था नपा को
नगर पालिका शिवपुरी को लोक निर्माण विभाग, पीएचई, से शहर में सड़कों को दोबारा खोदे जाने की अनुमति लेने के लिए एप्रूवल लेना है। ये एप्रूवल भी शासन स्तर से आएगा। लेकिन नगर पालिका के द्वारा इस संबंध में कोई काम शुरु ही नहीं किया गया। जबकि पानी ग्वालियर बायपास से शहर के भीतर की कुछ टंकियों तक पहुंचने वाला है।

दो शियान ने मांगे ~8 करोड़
दोशियान कंपनी के जीएम महेश मिश्रा का कहना है कि अभी नपा से उन्हें कुल 8 करोड़ रुपए इस बात का लेना है कि उनके द्वारा यहां ग्वालियर बायपास तक का काम कर दिया गया है। इसके अलावा शहर में काम शुरु करने के लिए तो अलग से पैसे लगेंगे। हालांकि दोशियान ये भी कह रही है कि वो पैसा तो हम काम करने के साथ- साथ नपा से लेते रहेंगे।

शहर में बिछानी है 214 किमी की लाइन

- घर-घर पानी आने के लिए अभी नपा को गजट नोटीफिकेशन करवाना है जिसके बाद दोशियान कंपनी लोगों को कनेक्शन देगी। अभी गजट नोटीफिकेशन का काम भोपाल में अटका है।
- 11 सड़कों की मंजूरी लेनी है जिसके बाद शहर की बाकी की टंकियों को जोड़ने का काम शुरु होगा।
- शहर में 214 किमी डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क बिछना है जिसके बाद पूरे 35 हजार घरों को कवर किया जा सकेगा।

30 दिसंबर तक इन चार टंकियों में आ जाएगा पानी
दोशियान का कहना है कि 30 दिसंबर तक वो शहर की चार टंकियों को जोड़ कर 30 फीसदी आबादी को तो कवर करेगी। इसमें कलेक्टोरेट निवास की टंकी, मनियर टोल टैक्स, गांधी पार्क, और पुरानी सब्जी मंडी पानी की टंकी को कनेक्ट करने का काम किया जाएगा। इसके अलावा बाकी की टंकियों को जोड़े जाने से पहले उन तक पहुंच बनाने के लिए सड़कों की खुदाई करना पड़ेगी, जिसकी अभी एनओसी नहीं मिल पाई है।

शहर में पानी आ गया है, अब जो जरूरत होगी तो मैं हूं
मैंने जनता से वादा किया था कि चाहे जो भी करना पड़े,मैं शिवपुरी तक पानी लेकर आऊंगी। मैंने अपना वादा पूरा किया है। आगे का काम नगर पालिका को करना है। बाकी जब भी जरूरत होगी तो मैं हूं। पानी के शहर में आने के बाद सिंध के जल का स्वागत किया है, वह दर्शाता है कि लोग कितने खुश हैं।-यशोधरा राजे सिंधिया, कैबिनेट मंत्री मप्र शासन

इन 11 सड़कों की चाहिए एनओसी

नपा को शहर के हर घर यानि करीब 35 हजार परिवारों के घरों की हर टोटी में पानी पहुंचाने के लिए इन 11 सड़कों की खुदाई करनी है, इन सड़कों में कचहरी के पास की सड़क,पोहरी वायपास की सड़क,गुना वायपास की सड़क,नौहरी के पास की सड़क,सिटी में शहर के अंदर की 3 सड़कें जिनमें सदर बाजार, कोर्ट रोड, और हलवाई खाना शामिल है को खोदा जाना है, दोशियान ने इस संबंध में 3 माह पूर्व ही एक पत्र नपा को सौंपकर आगे की कार्रवाई के लिए कहा था,लेकिन नपा की ओर से ये कार्रवाई अब तक आगे नहीं बढ़ाई गई है।