• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • सत्कर्म व्यक्ति के जीवन की असली पूंजी: राघवदास
--Advertisement--

सत्कर्म व्यक्ति के जीवन की असली पूंजी: राघवदास

सत्कर्म व्यक्ति के जीवन की असली पूंजी: राघवदास फूप | अटेर के सांगली गांव में श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जा...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:10 AM IST
सत्कर्म व्यक्ति के जीवन की असली पूंजी: राघवदास

फूप |
अटेर के सांगली गांव में श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कथा में पंडित राघवदास महाराज ने बताया भक्तों को बताया सत्कर्म ही व्यक्ति के जीवन की असली पूंजी है। मनुष्य जीवनभर अच्छे और बुरे कामों को दोहराता रहता है, परंतु उसके द्वारा जीवन में किए गए सत्कर्म ही अंत में काम आते हैं। महाराज ने कथा में बताया भगवान श्रीकृष्ण ने जीवनभर धर्म की रक्षा के लिए उपदेश दिया। कई ऋषि-मुनि भगवान का जप वर्षों तक करते हैं, परंतु गृहस्थ जीवन जीने वाला सुदामा भगवान का सबसे बड़ा भक्त बन जाता है। प्रभु की यह लीला अद्भुत है जो मानव जीवन से परे है। कथा में महाराज ने भक्तों को आगे बताया अहंकार वह कुरीति है जो व्यक्ति के पतन का कारण बनता है।