Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» जमीन के लिए परेशान हो रहे गांव के किसान

जमीन के लिए परेशान हो रहे गांव के किसान

ग्वालियर

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 03, 2018, 02:05 AM IST

ग्वालियर डीबी स्टार

अल्पवर्षा के कारण मध्यप्रदेश सरकार ने ग्वालियर जिले के घाटीगांव ब्लॉक में आने वाली सभी छह पंचायतों को सूखाग्रस्त घोषित किया था। इन छह पंचायतों में लगभग 25 गांव हैं, जिसमें साढ़े चार हजार से अधिक किसान हैं। इनमें से कई किसानों ने शासन से सूखा राहत योजना के तहत ऋण लिया है, लेकिन फसल न होने के कारण वे इसे लौटा नहीं सके हैं। प्रशासन से नोटिस मिलने के बाद किसानों ने अपनी जमीन बचाने के लिए परेशान हो रहे हैं। कुछ किसानों की शिकायत पर जब डीबी स्टार ने प्रशासनिक अफसरों से बात की, तो वे वसूली रोकने की बात कहने लगे।

पहले छोड़ चुके हैं घर

सूखा के बाद आर्थिक संकट के चलते अंचल के कई किसान अपना गांव छोड़कर बड़े शहरों में मजदूरी कर रहे हैं। खास बात यह है कि सूखाग्रस्त घोषित होने के बाद भी अब तक यहां के कई किसानों को मुआवजा नहीं मिल सका है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि सभी किसानों को सूखे का मुआवजा मिलेगा, लेकिन आने वाले समय में खेती के लिए पैसा कहां से आएगा इसके लिए किसान चिंतित है।

मैं अफसरों से बात करता हूं

 ऋण वसूली के लिए किसानों को नोटिस देने की बात मेरे संज्ञान में नहीं है। मैं आज ही इस मामले में संबंधित अफसरों से बात करता हूं। ऋण वसूली के लिए किसानों को परेशान नहीं किया जाएगा। राहुल जैन, कलेक्टर

किसानों का कहना है

यह तो मरने वाली स्थिति है

 सूखे के कारण खाने के लिए भी अनाज नहीं हो सका। अब तहसीलदार नोटिस भिजवाकर जमीन कुर्क करने की धमकी दे रही हैं। अब अगर 16 हजार रुपए के लिए मेरी 16 लाख की जमीन कुर्क कर लेंगे तो हमारे बच्चे क्या खाएंगे। हमारे लिए तो मरने वाली स्थिति है। मंगला देवी, निवासी ग्राम करई

किसान की कहीं सुनवाई नहीं है

सरकार कहती है सूखा ग्रस्त इलाके में किसी तरह की वसूली नहीं होगी। लेकिन हमारे यहां कि तहसीलदार नोटिस देकर किसानों को धमका रही हैं। अगर पैसे नहीं दिया तो कुर्की करेंगे। अगर किसान की जमीन चली गई तो उसके पास जीने के लिए कोई साधन ही नहीं है। संगीत शर्मा, निवासी ग्राम करई

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×