• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • देश का रोल मॉडल बनने को तैयार एसबीआई का पैडमैन फॉर्मूला
--Advertisement--

देश का रोल मॉडल बनने को तैयार एसबीआई का पैडमैन फॉर्मूला

सिर्फ पांच लाख रुपए में ग्वालियर का पैडमेन फॉर्मूला कठिन दिनों में छात्राओं को स्कूल जाने के लिए प्रेरित कर देश का...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:35 AM IST
सिर्फ पांच लाख रुपए में ग्वालियर का पैडमेन फॉर्मूला कठिन दिनों में छात्राओं को स्कूल जाने के लिए प्रेरित कर देश का रोल मॉडल बन सकता है। पैडमेन मूवी रिलीज होने के पहले से ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 50 लाख रुपए की लागत से जिले के 20 ग्रामीण गर्ल्स स्कूल्स में स्पेशल टॉयलेट ब्लॉक्स बनवाए थे। इनमें यूज्ड सेनेटरी पेड को मैनुअल इंसीनरेटर द्वारा नष्ट किया जा सकता है, लेकिन पानी की व्यवस्था न होने के कारण टॉयलेट शुरू नहीं हो पा रहे हैं। पांच लाख रुपए खर्च कर बोरिंग, टैंकर से सप्लाई या नल-जल योजना के माध्यम से यहां पानी की व्यवस्था की जा सकती है।

डीबी स्टार को स्कूलों में मिले ये हालात

बिठौली में नहीं आता पानी।

ग्राम भयपुरा, पुरानी छावनी

मिडिल स्कूल में नए बने टॉयलेट में पानी की सुविधा न होने के कारण ताला लगा था। टॉयलेट की छत पर रखी पानी की टंकी खाली है, क्योंकि हैंडपंप में मोटर नहीं है।

ग्राम बिठौली, तिघरा रोड

दो टॉयलेट हैं यहां और दोनो पर ताला लगा हुआ है क्योंकि स्कूल में लाइट कनेक्शन ही नहीं है। बिजली न होने के कारण टॉयलेट के ऊपर रखी टंकी नहीं भर पा रही है।

भयपुरा में बंद पड़ा टॉयलेट।

ये बेहद सकारात्मक पहल है, मेरी शुभकामनाएं


मुझे यह जानकर अच्छा लगा कि लोग इस मामले में भी जागरूक हो रहे हैं। यह पहल सकारात्मक है। इस कार्य के लिए और संस्थाओं को भी आगे आना चाहिए। मेरी स्थानीय जनप्रतिनिधियों और अफसरों से अपील है कि वे स्कूल में पानी की व्यवस्था कराएं।

हम शीघ्र स्कूल में सभी व्यवस्थाएं कराएंगे


छात्राओं के लिए बनाए गए टॉयलेट शुरू होने में जो दिक्कतें आ रही हैं, उन्हें हम शीघ्र दूर कराएंगे। जिन स्कूलों में पानी व बिजली नहीं है, हम उनकी जानकारी लेकर व्यवस्थाएं करेंगे।

हम बिजली पानी की करेंगे व्यवस्था


पानी की समस्या से टॉयलेट्स शुरू नहीं हो पा रहे हैं, तो हम पानी की व्यवस्था करेंगे। जिन स्कूलों में बिजली नहीं हैं, वहां कनेक्शन कराए जाएंगे।

स्कूलों में शीघ्र शुरू कराएंगे प्रोजेक्ट


स्पेशल टॉयलेट के लिए पानी की व्यवस्था नहीं है, तो हम जनप्रतिनिधियों व स्कूल शिक्षा विभाग के अफसरों से बात कर प्रोजेक्ट शुरू कराएंगे।