Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» वेडिंग, बेबी शावर गिफ्ट के लिए ट्रूजो पैकिंग ट्रेंड

वेडिंग, बेबी शावर गिफ्ट के लिए ट्रूजो पैकिंग ट्रेंड

गिफ्ट रिश्तों की गहराई को और मजबूत बनाता है। गिफ्ट चाहे कितना भी अच्छा हो अगर उसे ठीक से पैक नहीं किया तो महंगे से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:15 AM IST

वेडिंग, बेबी शावर गिफ्ट के लिए ट्रूजो पैकिंग ट्रेंड
गिफ्ट रिश्तों की गहराई को और मजबूत बनाता है। गिफ्ट चाहे कितना भी अच्छा हो अगर उसे ठीक से पैक नहीं किया तो महंगे से महंगा तोहफा भी फीका पड़ जाता है। ट्रूजो डिजाइनर बताती हैं- बेबी शावर, कॉर्पोरेट गिफ्टिंग और अन्य खास मौकों के लिए ट्रूजो पैकिंग ट्रेंड में हैं। इसमें कपड़े जिनमें साड़ियां, सूट, शर्ट, पैंट और कई अन्य गिफ्ट हैंपर तैयार किए जाते हैं। सिंपल और फैंसी शीट्स के साथ इसे सजाया जाता है। साथ ही कलर्ड नेट, आर्टिफिशियल फूल, रिबन, स्टोन्स, पर्ल्स और कई तरह के डेकोरेटिव सामान का इस्तेमाल किया जाता है। यह पैकिंग करने में 45 मिनट का समय लगता है। इस प्रकार के गिफ्ट खासतौर पर वेडिंग के साथ-साथ बर्थ-डे पार्टी और वेडिंग एनीवर्सिटी में भी देने का अब चलन देखा जा रहा है। इन गिफ्ट में बेबी डॉल सबसे ज्यादा चलन है।

गुड़िया साड़ी

यह साड़ी को पैक कर गिफ्ट करने का अलग तरीका है। साड़ी को गुड़िया के ऊपर सजाकर पैक किया है। इसे दुल्हन को खास ध्यान में रखते हुए तैयार किया है।

ओपन कॉन्सेप्ट

इसमें कई तरह की पैकिंग होती है। इसमें दुल्हन के लिए साड़ी को फैन शेप में ड्रेप किया है। दुल्हे के लिए एक गिफ्ट बास्केट बनाई है। कार्डबोर्ड के डिब्बे या टोकरी के अंदर इसे बनाया है। यह पूरी तरह कवर्ड नहीं होता। इसे बीड्स, फूलों से सजाया है।

सूटकेस| दूल्हे के कपड़े और जूतों के सूटकेस को कोट की तरह सजाया है। इसमें शर्ट को नेट से बनाया है। बो टाई, बटन और फूलों से सजाया है।

साड़ी की पैकिंग

इसे नेट के दुपट्टे से पैक किया है। ऊपर लेस और आर्टिफिशियल फूल और लटकन से सजावट की है। कपड़ों के अलावा इसमें मेकअप का सामान भी डाला जा सकता है।

डाइपर स्टैंड

कार्डबोर्ड के बेस पर 50 से 60 डायपर को रखा गया है। इसमें हाइजीन का खास ध्यान रखा है। इसे बनने में 3-4 घंटे लगते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×