Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» साडा से होकर गुजरेंगी 3 सड़कें, आउटर से निकलेगा हैवी ट्रैफिक, कम होगा चक्कर

साडा से होकर गुजरेंगी 3 सड़कें, आउटर से निकलेगा हैवी ट्रैफिक, कम होगा चक्कर

प्रशासनिक रिपोर्टर | ग्वालियर शिवपुरी और आगरा रूट से रोजाना निकलने वाले 4500 से अधिक वाहनों के हैवी ट्रैफिक को आने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 02, 2018, 04:15 AM IST

प्रशासनिक रिपोर्टर | ग्वालियर

शिवपुरी और आगरा रूट से रोजाना निकलने वाले 4500 से अधिक वाहनों के हैवी ट्रैफिक को आने वाले कुछ महीनों में साडा क्षेत्र से 3 सड़कें मिलेंगी। इन सड़कों का उपयोग करने वाले वाहन चालकों समय, दूरी और पेट्रोल-डीजल की भी बचत होगी। क्योंकि, इन सड़कों पर निकलने वाले लोगों को एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचने में 15 से 30 किलोमीटर तक की दूरी का चक्कर लगाने से राहत मिलेगी। वहीं विकल्प के तौर पर तीन सड़कें होने पर किसी भी स्थिति में दूसरी सड़क का उपयोग हो सकेगा और हैवी ट्रैफिक को शहर के अंदर तक नहीं लाना होगा। इन तीन सड़कों में से घाटीगांव के बसोटा से तिघरा और गोल पहाड़िया तिराहे से मोतीझील तिराहे तक की सड़क के निर्माण के लिए टेंडर इसी महीने लगेंगे। इन सड़कों पर अप्रैल तक काम शुरू होने की उम्मीद है।

यहां बढ़ेगा ट्रैफिक, रफ्तार पकड़ सकता है साडा का विकास

साडा बायपास: गोल पहाड़िया तिराहे से मोतीझील तिराहे तक 9.2 किलोमीटर की सड़क जर्जर हालत में है और लगातार हादसों के कारण इस सड़क पर सुबह से रात तक हैवी ट्रैफिक बंद कर दिया गया है। बजट में इस सड़क के लिए 26 करोड़ 28 लाख रुपए सेंशन हुआ है। यह सड़क गोल पहाड़िया से 1 किलोमीटर तक टू लेन और उसके आगे 1.2 किलोमीटर तक 4 लेन तथा उसके बाद 7 किलोमीटर तक 6 लेन है।

वेेस्टर्न बायपास: रायरू निरावली से बरई तक वेेस्टर्न बायपास का प्रस्ताव साडा ने तैयार किया था। जिसे वाइल्ड लाइफ से एनओसी मिल गई है और अगले कुछ महीने में इसका काम भी शुरू हो जाएगा। ऐसा होने पर आगरा-शिवपुरी रूट के वाहनों को रायरू-झांसी बायपास पर नहीं जाना होगा। जिससे वाहन चालकों का करीब 30 किमी का चक्कर बचेगा। 2015 में बनी इसकी डीपीआर के मुताबिक लागत 482 करोड़ रुपए है।

बसोटा-तिघरा: घाटीगांव से 6 किलोमीटर पहले बसोटा तिराहे से डांडा खिरक होते तिघरा तक 34 किलोमीटर की इंटरमीडियट लेन सड़क को बजट में स्वीकृति दे दी गई है। 46 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली यह सड़क अभी सिंगल लेन है जो कि डेढ़ लेन की जाएगी। तिघरा तक आने के बाद यहां से वाहन चालक मोतीझील या रायरू तक जा सकते हैं। इस रूट पर वाहन चालकों को करीब 45 किलोमीटर चलना होगा। जबकि घाटीगांव से नयागांव होते हुए दूसरे रास्तों से रायरू तक पहुंचने के लिए करीब 60 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ेगा।

साडा के लिए कैसे फायदेमंद

1992 से बसाहट का राह देख रहे साडा की इन तीन सड़कों पर ट्रैफिक बढ़ने से क्षेत्र में लोगों की आवाजाही बढ़ेगी। साडा को उम्मीद है कि इस आवाजाही और सड़कें सुधरने या नई बनने का फायदा बसाहट के लिए हो रहे प्रयासों को भी मिलेगा। बेस्टर्न बायपास पर प्रस्तावित टोल प्लाजा से साडा को करोड़ों रुपए की इनकम होगी, जिससे प्राधिकरण की वित्तीय हालत में सुधार लाया जा सकेगा।

डांडा खिरक से तिघरा और गोल पहाड़िया से मोतीझील तिराहे तक की सड़कों के लिए इस महीने में टेंडर लग जाएंगे। संभावना है कि अप्रैल माह के अंत तक इन सड़कों पर काम शुरू कराया जा सकेगा। इन सड़कों के बनने के बाद शिवपुरी-आगरा रूट का हैवी ट्रैफिक शहर के बाहर से ही आसानी से निकल जाया करेगा। - जीव्ही मिश्रा, कार्यपालन यंत्री/ लोक निर्माण विभाग

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: साडा से होकर गुजरेंगी 3 सड़कें, आउटर से निकलेगा हैवी ट्रैफिक, कम होगा चक्कर
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×