• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • भगवान राम व भरत का हुआ मिलाप
--Advertisement--

भगवान राम व भरत का हुआ मिलाप

भगवान राम व भरत का हुआ मिलाप ग्वालियर| झंग बिरादरी द्वारा चल रही रामलीला में गुरुवार को राम-भरत मिलाप का मंचन...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 04:15 AM IST
भगवान राम व भरत का हुआ मिलाप

ग्वालियर|
झंग बिरादरी द्वारा चल रही रामलीला में गुरुवार को राम-भरत मिलाप का मंचन किया गया। भगवान राम के वियोग में महाराज दशरथ अपने प्राण त्याग देते हैं। ननिहाल से भरत व शत्रुघ्न अयोध्या आ जाते हैं। जब भरत को राम,लक्ष्मण व सीता के वन गमन व दशरथ की मृत्यु का समाचार मिलता है तो वे शोक संतप्त हो जाते हैं। उनका अपनी माता कैकई से कटु संवाद होता है और वे अयोध्या का राजा बनने से इनकार कर देते हैं। दशरथ जी का अंतिम संस्कार करने के बाद वे भगवान राम को मनाने चित्रकूट की ओर प्रस्थान करते हैं। चित्रकूट में जब वे भगवान राम के दूर से ही दर्शन करते हैं तो बेसुध हो जाते हैं। उन्हें भगवान राम अपने हृदय से लगाकर फफक रो पड़ते हैं। दोनों भाइयों का प्रेम देखकर उपस्थित समुदाय भी भावुक हो जाता है। रात को रासलीला का आयोजन किया गया। शुक्रवार को मरीच संवाद व 3 मार्च को आदर्श कॉलोनी से राम दरबार का चल समारोह निकाला जाएगा।

पानी बचाने के लिए रामायण पाठ

ग्वालियर। जल ही जीवन है, इसी संकल्प के साथ गुरुवार को गोलपाड़ा स्थिति संकट मोचन मंदिर पर हर माह आयोजित होने वाले अखंड रामायण पाठ का समापन किया गया। इस अवसर पर उपस्थिति श्रद्धालुओं ने पानी बचाने के लिए मंदिर के चरणसेवक जगवीर सिंह तोमर के साथ शपथ ग्रहण की। संकट मोचन मंदिर में हर माह आयोजित होने वाला अखंड रामायण पाठ 28 फरवरी को शुरू हुआ था जिसका गुरुवार को समापन हुआ।