• Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • दो महीने से चल रही थी रैकी, परमाल निशाने पर था, मारा गया अभिषेक
--Advertisement--

दो महीने से चल रही थी रैकी, परमाल निशाने पर था, मारा गया अभिषेक

Gwalior News - ग्वालियर| तानसेन नगर रोड पर फायरिंग में मारे गए अभिषेक तोमर हत्यारों का पहला निशाना नहीं था। वह अभिषेक के दोस्त...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 04:30 AM IST
दो महीने से चल रही थी रैकी, परमाल निशाने पर था, मारा गया अभिषेक
ग्वालियर| तानसेन नगर रोड पर फायरिंग में मारे गए अभिषेक तोमर हत्यारों का पहला निशाना नहीं था। वह अभिषेक के दोस्त परमाल सिंह को मारना चाहते थे। दो महीने से इसकी तैयारी चल रही थी। अंबाह जेल में परमाल बंद था। उसकी रैकी करने के लिए वीरू और पंकज अंबाह तक गए भी लेकिन परमाल निशाने पर नहीं आ पाया। जब वह नहीं मिला तो उसकी ताकत कम करने के लिए अभिषेक की हत्या कर दी। इस मामले में राज चौहान ने इनकी मदद की थी। पड़ाव थाने की पुलिस ने बुधवार को राज चौहान को आर्म्स एक्ट में गिरफ्तार कर लिया है। उसके खिलाफ हत्या की साजिश में शामिल होने की भी कार्रवाई की जा रही है। अभिषेक की हत्या 20 फरवरी को तानसेन नगर रोड पर घेरकर कर दी गई थी, इस मामले में पुलिस ने गोली चलाने वाले बंटी को हिरासत में लिया है। इसके अलावा इनकी भागने में मदद करने वाला और हथियार छिपाने वाले राज को भी हिरासत में लिया गया है। पुलिस अभी दूसरे शूटर और हत्या के लिए सुपारी देने वाले को तलाश कर रही है। पुलिस को अनुमान है कि हत्या के लिए सुपारी का रुपया परमाल के 3-4 दुश्मनों ने मिलकर इकट्ठा किया था। वहीं जेएएच में एक मरीज के अटेंडर के दो मोबाइल चोरी कर भाग रहे चोर को पुलिस ने पकड़ लिया है। पकड़े गए चोर का नाम विनोद पुत्र भजना शंकर निवासी शिवपुरी बताया गया है। वह गोरीशंकर लोधी के मोबाइल चोरी कर भाग रहा था।

X
दो महीने से चल रही थी रैकी, परमाल निशाने पर था, मारा गया अभिषेक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..