• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • होली पर मिलेगा पानी, 4 से बदलेगा शेड्यूल बोरिंग से भी एक दिन छोड़कर होगी सप्लाई
--Advertisement--

होली पर मिलेगा पानी, 4 से बदलेगा शेड्यूल बोरिंग से भी एक दिन छोड़कर होगी सप्लाई

पेयजल संकट के बाद भी नगर निगम होली पर की कटौती नहीं करेगा। निगम ने दो मार्च को पानी सप्लाई की विशेष व्यवस्था की है।...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:35 AM IST
पेयजल संकट के बाद भी नगर निगम होली पर की कटौती नहीं करेगा। निगम ने दो मार्च को पानी सप्लाई की विशेष व्यवस्था की है। हर क्षेत्र के लिए पानी सप्लाई का समय तय किया गया है, जिससे सभी को पानी मिल सके। 4 मार्च से सप्लाई के शेड्यूल को बदला जाएगा। इसमें ऐसे स्थानों पर जहां बोरिंग और तिघरा दोनों से पानी सप्लाई हो रही है, वहां एक ही तरह की सप्लाई की व्यवस्था की जाएगी। बोरिंग से सप्लाई वाले क्षेत्रों में भी एक दिन छोड़कर सप्लाई की व्यवस्था की जाएगी।

होली पर सप्लाई का शेड्यूल: अधीक्षण यंत्री पीएचई आरएलएस मौर्य ने बताया कि दो मार्च को लश्कर एवं दक्षिण क्षेत्र की सभी टंकियों से लश्कर क्षेत्र का जल प्रदाय सुबह 6 से 8 बजे तक किया जाएगा। शब्दप्रताप आश्रम, विनय नगर सेक्टर-2 एवं 3, आदर्श नगर, कमल सिंह का बाग, रामबाग कालोनी, पारदी मोहल्ला, खल्लासी पुरा, फोर्ट रोड, सिंधिया नगर को सीधा जल प्रदाय प्रात: 6 से 12 बजे तक होगा। मुडिया पहाड़ क्षेत्र से सीधा जलप्रदाय दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक होगा। इसके साथ ही रक्कस टैंक छोड़कर सभी टंकियों जैसे थाटीपुर, मुरार, नूरगंज, कृष्णा नगर, सुरेश नगर, कांच मिल, महाराजा काम्पलेक्स डीडी नगर में सुबह 6 बजे से 8 बजे तक जलप्रदाय किया जाएगा। उन्होंने बताया, डीडी नगर व संबंधित क्षेत्र एवं किलागेट में जलप्रदाय सुबह 8:30 बजे से 13:30 बजे तक किया जाएगा। वहीं रक्कस टैंक से ग्वालियर क्षेत्र में जल प्रदाय शाम चार बजे से 6 बजे तक किया जाएगा।

पानी बचाने के लिए सूखे जैविक रंगों से खेलें होली

कलेक्टर राहुल जैन व निगम आयुक्त विनोद शर्मा ने शहरवासियों से अपील की है कि गर्मी का मौसम शुरू हुआ है। आगामी दिनों के लिए पानी अभी से बचाकर रखना है। घरों और आफिसों के भवनों पर अनिवार्य रूम से वाटर हारर्वेस्टिंग करें। घर का एक आंगन कच्चा रखें,ताकि बरसात का पानी जमीन में समाहित हो सके। नलों में नोटियां लगवाएं, नलकूपों का अनावश्यक उपयोग नहीं किया जाए। होली पर गीले रंगों से होली न खेलें।