• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • 108 नंबर पर लगाते रहे फोन, नहीं आई एंबुलेंस मरीज को ऑटो में लेकर जेएएच पहुंचे परिजन
--Advertisement--

108 नंबर पर लगाते रहे फोन, नहीं आई एंबुलेंस मरीज को ऑटो में लेकर जेएएच पहुंचे परिजन

108 एंबुलेंस के कर्मचारियों की हड़ताल के चलते बुधवार को मरीज और उनके परिजन परेशान होते रहे। मरीज को अस्पताल पहुंचाने...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:35 AM IST
108 एंबुलेंस के कर्मचारियों की हड़ताल के चलते बुधवार को मरीज और उनके परिजन परेशान होते रहे। मरीज को अस्पताल पहुंचाने के लिए परिजनों ने जब 108 एंबुलेंस को फोन लगाया तो उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। बाद में पता चला कि एंबुलेंस कर्मचारी मंगलवार की आधाी रात के बाद से हड़ताल पर है। ऐसे में मरीज को अस्पताल पहुंचाने के लिए उन्हें ऑटो या दूसरे साधनों का सहारा लेना पड़ा। कैलाश टॉकीज निवासी दिनेश ने गला काट लिया। परिजन ने 108 एंबुलेंस व पुलिस को फोन लगाया। एंबुलेंस नहीं आई और पुलिस आई तो ऑटो से घायल को लेकर ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। जेएएच प्रशासन ने मरीजों की संख्या बढ़ने की संभावना को देखते हुए हेल्प डेस्क के साथ-साथ अन्य स्टाफ और 20 स्ट्रेचर का गेट पर इंतजाम किया था।

परेशानी की तीन तस्वीरें: न हड़तालियों को चिंता हुई न प्रशासन ही इनकी मदद कर पाया

पिछोरों की पहाड़िया निवासी नगीना घर में चक्कर खाकर गिर पड़ी। नगीना के परिजन ने 108 को फोन लगाया लेकिन वह नहीं लगा। इसके बाद वे ऑटो में मरीज को लेकर जेएएच पहुंचे।

108 एंबुलेंस कर्मचारियों की ये हैं मांगें

108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ के संभागीय अध्यक्ष विजय सिंह कुशवाह, महामंत्री सुशील कुमार, जिलाध्यक्ष दीवान सिंह आर्य ने बताया कि कंपनी ने काम करने के बाद भी कर्मचारियों का वेतन काट लिया था। काटा हुआ वेतन वापस किया जाए, महीने की 10 तारीख तक वेतन दिया जाए, 8 घंटे से अधिक काम लिया जाए तो ओवर टाइम दिया जाए। इन मांगों के पूरा होने के बाद ही हड़ताल खत्म की जाएगी।

जिला अस्पताल में भर्ती विशंभर को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी,जिसके कारण डॉक्टरों ने जेएएच ले जाने के लिए कहा। परिजन ने 108 को फोन लगाया तो बताया गया कि हड़ताल है। इसलिए वे ऑटो में अपने मरीज को लेकर जेएएच पहुंचे।

अवाड़पुरा निवासी अकरम खां को करंट लग गया। करंट लगने के कारण अकरम का शरीर बुरी तरह अकड़ गया था। एंबुलेंस नहीं मिली तो परिजन उन्हें ऑटो में लेकर अस्पताल पहुंचे।