Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» मार्क्स अपडेट न होने से अटके प्रवेश पत्र, परीक्षा शुरू होने के आधा घंटे तक भटकते रहे छात्र

मार्क्स अपडेट न होने से अटके प्रवेश पत्र, परीक्षा शुरू होने के आधा घंटे तक भटकते रहे छात्र

एजुकेशन रिपोर्टर | ग्वालियर जेयू की अध्ययनशाला से एमसीए पांचवंे सेमेस्टर की दो छात्राएं व एक छात्र परीक्षा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 05:40 AM IST

एजुकेशन रिपोर्टर | ग्वालियर

जेयू की अध्ययनशाला से एमसीए पांचवंे सेमेस्टर की दो छात्राएं व एक छात्र परीक्षा शुरू होने के बाद तक प्रवेश पत्र के लिए संघर्ष करते रहे। एमसीए पांचवंे सेमेस्टर के छात्र मुकेश बघेल, नेहा गुप्ता व कल्पना मगरैया को जब परीक्षा भवन से प्रवेश पत्र के बिना परीक्षा में प्रोफेसरों ने शामिल करने से मना कर दिया तो वह दोपहर पौने दो बजे परीक्षा नियंत्रक डॉ. राकेश कुशवाह के पास पहुंची। यहां छात्राओं ने कहा कि परीक्षा शुरू हो चुकी है लेकिन उनके प्रवेश जनरेट नहीं हो रहे। इस पर परीक्षा नियंत्रक ने कहा कि अध्ययनशाला द्वारा सीसीई के अंक अपडेट नहीं किए गए। इसके चलते प्रवेश पत्र जनरेट नहीं हो रहे। छात्राओं ने एमसीए के विभागाध्यक्ष डॉ. संजय गुप्ता को फोन कर जानकारी दी। इसके बाद एमपी ऑनलाइन के कर्मचारी ने छात्राओं के प्रवेश पत्र दोपहर 2:20 बजे निकालकर दिए जब जाकर छात्र दौड़ते हुए परीक्षा भवन आधा घंटा देरी से पहुंचे और परीक्षा में शामिल हाे सके। वहीं एमएलबी कॉलेज की एलएलबी पहले सेमेस्टर की छात्रा अंजली यादव ने परीक्षा फॉर्म भरवाने को एमपी ऑनलाइन की लिंक खुलवाने की मांग को लेकर तीन घंटे तक अफसरों से लेकर कर्मचारियों के चक्कर लगाए। जब उसकी किसी ने फरियाद नहीं सुनी तो वह गुरुवार को कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला के पास पहुंच गई। यहां छात्रा कुलपति से मिलते ही रोने लगी। इस पर कुलपति ने कहा कि उनके सामने कोई आंसू बहाए, ऐसा अच्छा नहीं लगता। इसके बाद छात्रा चुप हो गई। कुलपति से छात्रा ने कहा कि एलएलबी पहले सेमेस्टर की परीक्षा 3 फरवरी से है। यदि फॉर्म नहीं भर पाई तो वह परीक्षा देने से वंचित हो जाएगी। इस पर कुलपति ने कहा कि आखिरी तारीख निकलने के पहले परीक्षा फॉर्म क्यों नहीं भरा? छात्रा ने कहा कि उसके घर पर समस्या आ गई थी इसके चलते परीक्षा फॉर्म नहीं भर सकी। कुलपति ने परीक्षा नियंत्रक डॉ. राकेश कुशवाह के पास भेज दिया। कुलपति ने कहा कि यदि संभव होगा तो परीक्षा नियंत्रक विलंब शुल्क के साथ परीक्षा फॉर्म भरवा देंगे।

जेयू

लॉ का फॉर्म भरने तीन घंटे भटकी छात्रा, कर्मचारियों और अफसरों ने नहीं सुनी तो वीसी के सामने रोई

कुलपति से अपनी बात कहती छात्रा।

छात्रों ने कहा- भत्ता दिलवाओ

जेयू की ओर से एथलेटिक्स की टीम में गुंटुर खेलने गए छात्राें को एक माह बाद जब भत्ता नहीं मिला तो वह कुलपति कार्यालय पहुंच गए। यहां छात्रों ने कर्मचारियों से शिकायत करते हुए कहा कि प्रति छात्र 7 हजार रुपए भत्ता मिलना है। टीम में 25 छात्र शामिल थे लेकिन अब तक जेयू की आेर से भुगतान नहीं किया गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×