Hindi News »Madhya Pradesh News »Gwalior News» टॉप पर रहने 2000 से ज्यादा लोगों ने किए कॉल शहर और नालों की गंदगी काट सकती है नंबर

टॉप पर रहने 2000 से ज्यादा लोगों ने किए कॉल शहर और नालों की गंदगी काट सकती है नंबर

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:40 PM IST

16 जनवरी को ग्वालियर ने अहमदाबाद को पछाड़ कर पहला नंबर प्राप्त कर लिया सिटी रिपोर्टर|ग्वालियर नगर निगम के अफसर...
16 जनवरी को ग्वालियर ने अहमदाबाद को पछाड़ कर पहला नंबर प्राप्त कर लिया

सिटी रिपोर्टर|ग्वालियर

नगर निगम के अफसर स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 में फीडबैक के 450 नम्बर पाने के लिए आखिरी दिन (31 जनवरी) दिन भर कॉलिंग व्यवस्था में व्यस्त रहे। सरकारी छुट्टी होने का थोड़ा असर पड़ा लेकिन 2000 से ज्यादा लोगों ने साफ-सफाई के संबंध में फीड बैक दिल्ली तक पहुंचा दिया है। वहीं सर्वे कि लिए आने वाली टीम के लेट होने के कारण सफाई व्यवस्था कराने में जुटा अमला ढीला पड़ने लगा है। शहर के अंदर इसका असर गली-मोहल्लों में दिखाई दे रहा है। वहां कचरा वक्त पर नहीं उठ रहा है। मेला रोड स्थित विवेक नगर (गोदाम बस्ती) का नाला पूरा कचरे से अटा पड़ा हुआ है।

12 जनवरी के पहले टॉप पर रहने के बाद ग्वालियर को पीछे कर अहमदाबाद फीडबैक के मामले में ऊपर आ गया था। 16 जनवरी को ग्वालियर ने अहमदाबाद को पछाड़ कर फिर से पहला नम्बर प्राप्त कर लिया। तब से आखिरी दिन तक पहले स्थान पर बना हुआ है। खबर लिखे जाने तक ग्वालियर के 1 लाख 78190 स्कोर था। दूसरे नम्बर पर कानपुर और तीसरे पर मुम्बई ग्रेडर बना था। रात्रि 12 बजे तक लोगों ने शहर को टॉप बनाने के लिए काल किए। अभी तक फीडबैक में टॉप पर रहने पर 450 नम्बर पक्के माने जा रहे हैं।

स्टेशन और बस स्टैंड पर दिया जा रहा ज्यादा ध्यान: सर्वेक्षण में 750 नम्बर हैं। इनमें 250 नम्बर स्टेशन एरिया और 450 नम्बर बस स्टैंड के मिलना है। निगम की रणनीति के अनुसार यहां पर ज्यादा ध्यान देकर 750 नम्बर प्राप्त करना है। इसलिए यहां पर डस्टबिन और साफ-सफाई के लिए पिछले दिनों कई कार्रवाई हुईं। हालांकि शहर के और भी स्थलों पर ध्यान दिया जा रहा है।

स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए प्लानिंग: देश में पिछले साल स्वच्छता सर्वेक्षण में 400 से ज्यादा शहर थे। इस बार इनकी संख्या 4041 हो गई है। उस वक्त ग्वालियर 27 वें नंबर पर था। अब इससे और ऊपर आने के लिए नगर निगम में बेहतर प्लानिंग की जा रही है। लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट, सॉलेट बेस्ट मैनेजमेंट और इनफॉर्मेशन, एजूकेशन एंड कम्यूनिकेशन पर निगम का अमला पूरी तरह काम कर रिकार्ड तैयार कर रहा है।

ये चल रहीं कार्रवाई

कलेक्शन करने वाले वाहन चालकों को 20 की जगह प्रतिदिन 30 लोगों से फीड बैक लेकर हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं।

रात्रि कालोनी सफाई कराने वाले स्टाफ को दुकानदारों से फीडबैक और हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं।

सहायक स्वास्थ्य अधिकारी ज्यादा से ज्यादा अपने क्षेत्र के लोगों से मिलकर फीड बैक ले रहे हैं।

मेला ग्राउंड के पास नाले में कचरा

शहर के नालों की साफ-सफाई के निर्देश आयुक्त विनोद शर्मा ने दिए थे। निगम ने पूरा अमल स्वर्ण रेखा पर ही लगा दिया, जबकि छोटे-छोटे नालों में कचरा देखने की जरूरत महसूस नहीं की। मेला ग्राउंड रोड स्थित विवेक नगर (गोदाम बस्ती) में नाले की हालात बुरी थी। यहां पर आस-पास का कचरा और पन्नी नाले में पड़ी हुईं थी। नाले की सफाई नहीं होने से पानी रूका हुआ है। दूसरी तरफ भी नाले की ऐसी ही हालात थे। यही स्थिति गोविंदपुरी मार्ग के पास स्थित नाले के भी नजर आए।

सफाई के मामले में यह हैं शहर के हालात

दोपहर
12:30 बजे: गजराराजा मेडिकल कालेज के गर्ल्स हॉस्टल के पीछे का कचरा तक नहीं उठा था। यहां खड़े कर्मचारी विनोद का कहना था कि कचरा एक-दो दिन बाद ही उठाने आते हैं।

दोपहर 12:35 बजे: कंपू रोड स्थित मुख्य मार्ग पर कचरा का ढेर लगा रहा।

दोपहर 12:47 बजे: अवाडपुरा स्थित कचरे के ठिए पर कचरा ही कचरा था। यहीं पर बगल में स्कूल भी चलता रहता है।

दोपहर 13:14 बजे: विजय नगर में कचरा उठाने सुबह से कोई पहुंचा ही नहीं था।

दोपहर13:22 बजे: जीवाजी यूनिवर्सिटी (सचिन तेंदुलकर मार्ग) पर भी कचरा पड़ा नजर आया।

शाम 6 बजे: भारत टाकीज शिंदे की छावनी में कचरे का ढेर जमा था।

शाम 6:05 बजे: छप्परवाला पुल पर कचरा लोगों को नजर आया।

नाले की सफाई नहीं हुई

यहां पर नाले की सफाई काफी लंबे समय से नहीं हुई। क्षेत्र और साफ-सफाई के लिए कर्मचारी आते हैं। पिछले कई दिनों से तो सीवर लाइन तक चौक थी। छत्रीलाल, निवासी, ग्वालियर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: टॉप पर रहने 2000 से ज्यादा लोगों ने किए कॉल शहर और नालों की गंदगी काट सकती है नंबर
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×