• Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • बुध ग्रह ने मकर राशि में बनाया चतुर ग्रही योग अंचल में व्यापार और कृषि क्षेत्र में होगा विकास
--Advertisement--

बुध ग्रह ने मकर राशि में बनाया चतुर ग्रही योग अंचल में व्यापार और कृषि क्षेत्र में होगा विकास

बुध ग्रह का मकर राशि में प्रवेश होने से मकर राशि में चतुर ग्रही योग बन रहा है। यह योग 6 फरवरी तक रहेगा। इसके उपरांत...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:40 PM IST
बुध ग्रह का मकर राशि में प्रवेश होने से मकर राशि में चतुर ग्रही योग बन रहा है। यह योग 6 फरवरी तक रहेगा। इसके उपरांत शुक्र ग्रह के कुंभ राशि में पहुंचते ही यह योग समाप्त हो जाएगा। चतुर ग्रही योग मीन, मेष, वृष, कर्क, कन्या और वृश्चिक राशि वालों के लिए शुभ फलदायक रहेगा। ग्वालियर संभाग की राशि मकर है लिहाजा यह योग अंचल के लिए सुख-समृद्धि दायक रहेगा, व्यापार क्षेत्र में वृद्धि एवं सरसों की फसल अच्छी होने से किसान वर्ग को लाभ मिलेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. विजयभूषण वेदार्थी के अनुसार बुध ग्रह 28 जनवरी को रात 1.02 बजे धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर गया। मकर राशि में पहले से ही सूर्य, शुक्र और केतु मकर राशि में हैं। लिहाजा मकर राशि में ये चारों चतुर ग्रही योग बना रहे हैं। यह चतुर ग्रही योग 6 फरवरी को दोपहर 12 बजे शुक्र ग्रह के कुंभ राशि में पहुंचते ही समाप्त हो जाएगा। शुक्र ग्रह 3 फरवरी को प्रात: 7.39 बजे उदित हो रहे हैं। शुक्र ग्रह के उदय होते ही विवाह जैसे मांगलिक कार्य प्रारंभ हो जाएंगे।ज्योतिषाचार्य पं. रिंकू तिवारी ने बताया कि शुक्र ग्रह उदय होने से विवाह जैसे मांगलिक कार्य होलिका अष्टक लगने से पहले तक रहेंगे। होलिका अष्टक का प्रारंभ 23 फरवरी को सूर्योदय से ही हो जाएगा, जो होलिका दहन 1 मार्च तक रहेगा। इसके बाद विवाह जैसे मांगलिक कार्य फिर से प्रारंभ हो जाएंगे।

ज्योतिषाचार्य पं. दशरथ शास्त्री ने बताया कि 18 मार्च को संवत 2075 का शुभारंभ नवरात्रि घट स्थापना के साथ होगा। इस वर्ष के राजा सूर्य और मंत्री शनि रहेंगे। इस संवत्सर का नाम विरोधकृत रहेगा, जो संकल्प में पूर्व संवत्सर तक मान्य रहेगा।

ज्योतिष

होलिकाष्टक का प्रारंभ 23 फरवरी से ही हो जाएगा, 1 मार्च के बाद होंगे मांगलिक कार्य

ये हैं विवाह के शुभ मुहूर्त

फरवरी: 4, 5, 6, 7, 8, 18, 19, 20।

मार्च: 3, 6, 7, 8, 12।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..