• Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • शाम को हलवाई व टेंट बुक करने निकला था, सुबह घर के पास पत्थर से कुचली मिली लाश, 6 मार्च को थी शादी
--Advertisement--

शाम को हलवाई व टेंट बुक करने निकला था, सुबह घर के पास पत्थर से कुचली मिली लाश, 6 मार्च को थी शादी

फूलबाग स्थित मरीमाता मंदिर के पास रहने वाले युवक की उसके घर के पीछे नगर निगम वाचनालय के पास पत्थर से कुचलकर हत्या...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:45 PM IST
फूलबाग स्थित मरीमाता मंदिर के पास रहने वाले युवक की उसके घर के पीछे नगर निगम वाचनालय के पास पत्थर से कुचलकर हत्या कर दी गई। 6 मार्च को उसकी शादी थी और घर में तैयारियां चल रही थीं। 24 फरवरी को लगुन थी इसलिए वह मंगलवार शाम अपनी मां से 5 हजार रुपए लेकर हलवाई और टेंट की बुकिंग के लिए जाने की कहकर निकला था। इसके बाद घर नहीं लौटा। बुधवार सुबह घर के पीछे गली में उसकी लाश मिली। मुंह बुरी तरह से कुचला हुआ था। पास में ही दो बड़े पत्थर मिले, जिन पर खून लगा है । इससे स्पष्ट है कि उसकी हत्या की गई है। पुलिस को उसकी जेब से मोबाइल मिला है। पुलिस जांच में जुट गई है कि बीते रोज उसकी किससे बात हुई। जहां उसकी लाश मिली, उसी गली में एक घर के सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखने पर पुलिस को एक जगह युवक जाता हुआ दिखाई दिया है। उसका हुलिया मृतक जैसा लग रहा है, लेकिन स्पष्ट नहीं है। पुलिस ने रात को एक संदेही को पकड़ा है। वहीं पुलिस को पता लगा है कि मृतक अपने दोस्त आकाश के साथ आखिरी समय देखा गया था।

मरीमाता मंदिर के पास रहने वालीं कमला प|ी दिवगंत प्रकाश जाटव बैंक ऑफ इंडिया की जयेन्द्रगंज शाखा में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद पर कार्यरत हैं। उनकी तीन बेटियां और दो बेटे थे। बेटियों की शादी हो चुकी है। बड़े बेटे विवेक (22) की 24 फरवरी को लगुन थी। उनका छोटा बेटा मानसिक रूप से विक्षिप्त है। लगुन में भोजन कार्यक्रम भी था इसलिए विवेक ने मंगलवार को अपनी मां से 5 हजार रुपए लिए और कहा कि वह हलवाई और टेंट की बुकिंग के लिए जा रहा है। इसके बाद नहीं लौटा। रात करीब 10 बजे मां ने दोस्त से कॉल करवाया तो बोला- वह मुरार में है और कुछ देर में आ जाएगा। रात में नहीं लौटा। मां को लगा कि वह मुरार में किसी रिश्तेदार के यहां रुक गया होगा। वह सुबह 6 बजे बैंक चली गईं। सुबह जब लोग वहां से निकले तो लाश पड़ी देखकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस पूछताछ में किसी ने विवेक के रूप में उसकी पहचान की। इसके बाद मां को बुलाया। मां देखते ही उसे पहचान गई। पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।

पहले शराब पार्टी, फिर हत्या, हत्यारे एक से अधिक

पुलिस ने एफएसएल टीम को भी जांच के लिए बुलाया। घटनास्थल पर डिस्पोजल गिलास, नमकीन का पैकेट, शराब के क्वार्टर, पानी के पाउच पड़े थे। गिलास में शराब की दुर्गन्ध आ रही थी। पुलिस को आशंका है कि पहले यहां शराब पार्टी हुई, इसके बाद हत्या की गई है। पुलिस को एक शर्ट का बटन मिला है, जो विवेक की शर्ट का नहीं है। विवेक के गले और सीने पर नाखून के निशान मिले हैं। इससे आशंका है कि हत्या से पहले संघर्ष भी हुआ है। हत्यारे एक से अधिक रहे होंगे। क्योंकि जो पत्थर उसके चेहरे पर पटके हैं, वह भारी हैं। गली के बाहर स्थित नाश्ते की दुकान के पास नाली पर रखे पत्थर उठाकर पटके गए हैं। पुलिस को पता लगा है कि मृतक नशा करने का आदी था। उसकी संगत भी ऐसे युवकों से ही थी। अब पुलिस उसकी तलाश कर रही है, जिसके साथ वह गया था।

घटनास्थल पर जांच-पड़ताल करती पुलिस।

शाम को दोस्त को फोन कर कहा, एक्सीडेंट हो गया

शाम करीब 7 बजे विवेक ने दोस्त आशीष को फोन पर बताया कि वह अपने दोस्तों के साथ है और मुरार में उनकी बाइक से एक्सीडेंट हो गया है। उनकी बाइक का मास्क टूट गया। जिनकी गलती से एक्सीडेंट हुआ, वही उसे जबरदस्ती थाने ले जा रहे हैं। इसके एक घंटे बाद फिर फोन आया कि वह लोग मास्क जुड़वाने को तैयार हो गए हैं। आशीष ने रात 10 बजे फिर कॉल किया लेकिन इस बार विवेक ने उसका फोन नहीं उठाया।

21 जनवरी को था जन्मदिन: विवेक का जन्मदिन 21 जनवरी को था। उसने अपने दोस्तों के साथ जन्मदिन मनाया था। जन्मदिन के 10 दिन बाद ही उसकी हत्या हो गई।

मेरा आखिरी सहारा भी छीन लिया, अब कैसे जिऊंगी

मेरा आखिरी सहारा भी छीन लिया। छोटा बेटा मानसिक रूप से कमजोर है। इसी से आशा थी कि वह मुझे बुढ़ापे में सहारा देगा और इसी को मुझसे छीन लिया। अब मैं कैसे जिऊंगी। यह कहते-कहते विवेक की मां लक्ष्मी बेहोश हो गई। वह बार-बार कह रही थी कि उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। जिन्दगी भर नौकरी करके बेटे को बड़ा किया और जब वह सहारा देने लायक हुआ तो उसे ही छीन लिया। विवेक की चिता को मुखाग्नि उसके ताऊ के बेटे ने दी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..