ग्वालियर

  • Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • स्कूल के पास लगेगा मोबाइल टॉवर, रेडिएशन का खतरा
--Advertisement--

स्कूल के पास लगेगा मोबाइल टॉवर, रेडिएशन का खतरा

जनपद पंचायत मेहगांव में आरोली पंचायत के खेरा गांव में सरकारी प्राथमिक स्कूल के बगल में जियो कंपनी का टॉवर लगाया जा...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:55 AM IST
जनपद पंचायत मेहगांव में आरोली पंचायत के खेरा गांव में सरकारी प्राथमिक स्कूल के बगल में जियो कंपनी का टॉवर लगाया जा रहा है। टॉवर लगने से स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों में रेडिएशन का खतरा बढ़ गया है। गांव के लोगों ने बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए एसडीएम अनिल बनवारिया और कलेक्टर इलैया राजा टी को ज्ञापन देकर टॉवर अन्यत्र स्थान पर लगाए जाने की मांग की है। हालांकि शिकायत के बाद भी ठेकेदार ने टॉवर निर्माण का कार्य स्थगित नहीं किया है।

10 दिन से काम जारी: स्कूल के पास जियो का टॉवर लगाने के लिए ठेकेदार ने दस दिन पहले ही काम चालू कर दिया है। जिसके बाद लोगों विरोध किया तो वहां विवाद की स्थिति पैदा होने लगी। जिसकी शिकायत आवेदन देकर अधिकारियों से की गई। ग्रामीणों का कहना है कि स्कूल के पास सरकारी जगह में टॉवर लगाया जा रहा है। टॉवर के लिए ठेकेदार ने फाउंडेशन तैयार कर लिया है। अगर निर्माण कार्य जल्द ही बंद नहीं किया गया तो वह आंदोलन शुरू कर देंगे।

अनदेखी

मेहगांव जनपद के खेरा गांव में टॉवर पर रोक लगाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने दिया ज्ञापन

ठेकेदार के खिलाफ ग्रामीणों में आक्रोश

गांव के प्राथमिक स्कूल में करीब 100 से अधिक छात्र-छात्राएं पढ़ने जाते हैं। स्कूल से 10 मीटर की दूरी पर ही जियो का टॉवर लगाया जा रहा है। गौरतलब है कि टॉवर से कई हानिकारक किरणें निकलती हैं जो मान स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकती हैं। बच्चों की चिंता जाहिर करते हुए गांव के पुष्पेंद्र शर्मा पुत्र पुरुषोत्तम शर्मा ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर टॉवर रोकने के लिए गुहार लगाई है। पुष्पेंद्र ने बताया अगर स्कूल में टॉवर लगा तो बच्चों के लिए नुकसानदायक होगा। ऐसी स्थिति में ग्रामीण चुप नहीं बैठेंगे।

रेडिएशन से बढ़ेगा खतरा

मोबाइल टॉवर से इलेक्ट्रो मैगनेटिक रेडिएशन निकलता है जो मानव शरीर के लिए बहुत ही हानिकारक है। जिसका प्रभाव सबसे अधिक टॉवर के आसपास रहने वाले लोगों पर पड़ता है। टॉवर के रेडिएशन से बचने के लिए करीब 400 मीटर की दूरी पर लोगों को निवास करना चाहिए। लेकिन स्थिति को देखा जाए तो खेरा गांव में स्कूल के बगल से ही टॉवर लगाया जा रहा है, जो बच्चों के लिए सबसे अधिक नुकसानदायक साबित होगा।

X
Click to listen..