ग्वालियर

  • Home
  • Mp
  • Gwalior
  • बालक का अपहरण इंदरगढ़ में एसपी समेत चार थानों की पुलिस ने डाला डेरा
--Advertisement--

बालक का अपहरण इंदरगढ़ में एसपी समेत चार थानों की पुलिस ने डाला डेरा

होली के दिन शु्क्रवार की शाम पांच बजे एक दस साल का बालक अपने घर से लापता हो गया। जिस समय बालक घर से गायब हुआ, उस दौरान...

Danik Bhaskar

Mar 04, 2018, 06:15 AM IST
होली के दिन शु्क्रवार की शाम पांच बजे एक दस साल का बालक अपने घर से लापता हो गया। जिस समय बालक घर से गायब हुआ, उस दौरान उसके पिता शीतला माता मंदिर पर फाग उत्सव में फाग सुन रहे थे। मंदिर से लौटकर जब उसके पिता घर आए तो उसे बालक नहीं दिखा। उन्होंने सोचा कि कहीं खेल रहा होगा लेकिन शाम सात बजे उनके मोबाइल पर आए एक फोन ने उनके होश उड़ा दिए। अज्ञात नंबर से आए इस फोन पर बोल रहे व्यक्ति ने उनसे कहा कि बेटा सुरक्षित चाहते हो तो एक लाख रुपए की फिरौती भेज दो।

बालक के पिता ने अपने बेटे के अपहरण की सूचना पुलिस को दी। घटना के बाद एसपी मयंक अवस्थी मौके पर पहुंचे और पूरी रात इंदरगढ़ में ही डेरा डाले रहे। लेकिन शनिवार शाम तक भी बालक का पता नहीं चल सका है। एसपी का कहना है कि सीसीटीवी कैमरों में बालक अकेला जाता हुआ दिख रहा है, इसलिए अपहरण की बात पर संशय है। कैमरे में बालक बार-बार पीछे देखता जा रहा है। फिरौती मांगने वाले दोबारा फोन भी नहीं किया।

जानकारी के अनुसार नगर के वार्ड 13 में मुक्तिधाम के पास निवासी संजीव उर्फ संजू गुप्ता बाजार में चाट ठेला लगाते हैं। चूंकि शुक्रवार को शीतला माता मंदिर के सामने फाग गायक राजेंद्र सिंह गुर्जर की फागों का आयोजन था इसलिए संजीव भी फागें सुनने के लिए चला गया। उसकी प|ी घर पर खाना बना रही थी और दस साल का छोटा बेटा ऋषभ उर्फ कल्लू घर के बाहर खेल रहा था। शाम करीब पांच बजे अचानक ऋषभ लापता हो गया। पिता संजीव घर लौटे और बेटा नहीं दिखा तो मोहल्ले में तलाश किया। लेकिन कहीं पता नहीं चला। इसी बीच एक फोन आया, जिसमें सामने वाले व्यक्ति ने एक लाख रुपए की फिरौती बेटे को छोड़ने के बदले में मांगी फिर फोन काट दिया।

लापता बालक।

पिता फाग सुन रहा था, घर के बाहर से दस साल का बालक गायब, फोन पर मांगी एक लाख की फिरौती

सीसीटीवी में बालक अकेला दिखा, अपहरण पर संदेह

पहले मिस्ड कॉल आया, फिर फोन पर बोला- शनिवार तक एक लाख रुपए तैयार रखो...अब शनिवार को फोन लगाऊंगा

होली के कारण बाजार बंद था। इसलिए मैंने भी चाट-पकौड़े का ठेला नहीं लगाया। शाम को शीतला माता मंदिर पर फाग उत्सव में चला गया। यहां पर करीब दो घंटे बैठने के बाद जैसे ही घर आया तो छोटा बेटा ऋषभ नहीं दिखा। प|ी ने पूछा तो उसे कुछ पता नहीं था। मोहल्ले में तलाश किया लेकिन कोई कुछ नहीं बता पाया। हम लोग पुलिस के पास जा ही रहे थे कि मेरे मोबाइल की घंटी बजी। लेकिन दो घंटी आने के बाद ही फोन कट गया। हमने कॉल बैक किया तो मोबाइल बिजी आया। इसके बाद शाम 7.28 बजे फिर फोन आया। हड़बड़ी में फोन उठाया। फोन करने वाले ने कहा कि कल शाम (शनिवार शाम) तक एक लाख रुपए तैयार रखो। अब शनिवार शाम को फोन लगाऊंगा। इतना कहते ही उसने फोन काट दिया। इसके बाद उस नंबर पर रिटर्न कॉल किया तो किसी लड़की की आवाज आई और फोन कट गया। कुछ देर बाद पुन: फोन लगाया तो मोबाइल स्विच ऑफ आने लगा। इसकी सूचना उसने इंदरगढ़ पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस भी सक्रिए हुई। पुलिस के साथ मैंने भी बेटे को तलाशा लेकिन कोई पता नहीं लग पाया।

बालक का पिता संजीव।

Click to listen..