--Advertisement--

नशे में धुत्त फौजी ने एसी कोच में महिला को छेड़ा, सोते में पति पर किया हमला

सतीश अरोरा की पत्नी से छेड़छाड़ और मारपीट के आरोपी फौजी को जीआरपी ने ग्वालियर में उतार लिया

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 07:27 AM IST

ग्वालियर. सचखंड एक्सप्रेस से लुधियाना जा रहे सतीश अरोरा की पत्नी से छेड़छाड़ और मारपीट के आरोपी फौजी को जीआरपी ने ग्वालियर में उतार लिया। इससे पूर्व बीना में यात्रियों की शिकायत पर जीआरपी ने एफआईआर दर्ज की थी। सतीश का कहना था कि जब ट्रेन में छेड़छाड़ और मारपीट की एफआईआर करा रहे थे तभी उनके मोबाइल पर राजस्थान से सेना के किसी कर्नल का फोन आया।

- कर्नल ने कहा कि आप फौजी के खिलाफ एफआईआर वापस ले लें। हम अपने स्तर पर फौजी के खिलाफ केस दर्ज कर लेंगेे। सतीश ने कहा, मैं एफआईआर वापस नहीं लूंगा। इस मामले में दोषी फौजी के खिलाफ कार्रवाई तो होनी ही चाहिए।

- उसे माफ करने का तो सवाल ही नहीं, क्योंकि वह फिर किसी अन्य के साथ ऐसी हरकत कर सकता है। पहले उसने मेरी पत्नी के साथ छेड़छाड़ की। उसके नशे में धुत्त होने और माफी मांगने के बाद एक बार मैंने उसे माफ कर दिया। लेकिन उसने वापस आकर मुझ पर हमला कर घायल कर दिया। इसके बाद मैंने उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई।

- मैं पत्नी व बहन-बहनोई के साथ मनमाड़ स्टेशन से सचखंड एक्सप्रेस के बी-2 कोच में सवार हुआ था। हम लुधियाना जा रहे थे। इसी कोच में 16 नंबर बर्थ पर फौजी राजेंद्र बद्री पवार औरंगाबाद से यात्रा कर रहा था। हम सभी अपनी बर्थों पर लेट गए थे। हमने लाइट बंद कर दी थी। कोच में अंधेरा था लेकिन सोए नहीं थे। रात लगभग 11 बजे एक फौजी राजेंद्र ने बर्थ पर लेटी मेरी पत्नी के साथ छेड़छाड़ की। वह चीखकर उठी तब मैं, बहन-बहनोई व अन्य यात्री उठ गए और उसे पकड़ लिया। फौजी काफी नशे में था। उसने लड़खड़ाते हुए सॉरी बोलने की कोशिश की। अन्य यात्रियों ने समझाया कि हो सकता है लड़खड़ाने से कुछ हुआ हो। इस पर हम लोग शांत होकर अपनी बर्थ पर चले गए। वह काफी देर तक अपनी बर्थ पर ऊपर-नीचे होता रहा। रात लगभग 1 बजे वह सामान लेकर कोच से निकल गया। ट्रेन इटारसी पर रुकी तो मुझे लगा कि वह उतर गया है। मेरी झपकी लगी तभी वह फौजी आया और हमला कर दिया। आंख के ऊपर से बहुत खून निकला और टॉवेल खून से गीली हो गई। अन्य यात्रियों ने उसे पकड़ लिया। बीना पर जीआरपी आई और झांसी में डॉक्टर ने ट्रेन में टांके न लग पाने की बात करते हुए पट्टी कर दी। फौजी को ग्वालियर स्टेशन पर जीआरपी उतार कर अपने साथ ले गई।
-जैसा कि पीड़ित यात्री सतीश अरोरा ने भास्कर को बताया।